charcha me | 
समाज  |  5-मिनट में पढ़ें
मुझे मेरा टीचर लौटा दो!

मुझे मेरा टीचर लौटा दो!

अपने शिक्षक के प्रति बच्चों के प्यार ने ये तो साबित कर दिया कि किसी भी इंसान को अगर जीतना है तो उसे प्यार दें. प्यार में इतनी ताकत होती है कि वो मजबूत से मजबूत इंसान को काबू में कर सकता है.
सियासत  |   बड़ा आर्टिकल
कश्मीर घाटी में आतंकी और बाहर आजाद-सोज़ जैसे नेताओं की बातों में फर्क क्‍यों नहीं दिखता...

कश्मीर घाटी में आतंकी और बाहर आजाद-सोज़ जैसे नेताओं की बातों में फर्क क्‍यों नहीं दिखता...

कश्‍मीर घाटी में सेना द्वारा लिए जा रहे एक्शन पर जिस तरह सैफुद्दीन सोज और गुलाम नबी आजाद जैसे नेता बयान दे रहे हैं, कहना गलत नहीं है कि आतंकी और ये नेता अपने विचारधाराओं की आखिरी लड़ाई लड़ रहे हैं.
सियासत  |  5-मिनट में पढ़ें
सुप्रीम कोर्ट जजों का झगड़ा 'गर्मियों की छुट्टियों' के बाद नए तेवर में दिखेगा

सुप्रीम कोर्ट जजों का झगड़ा 'गर्मियों की छुट्टियों' के बाद नए तेवर में दिखेगा

सुप्रीम कोर्ट के जजों के बीच की खींचतान खत्म नहीं हुई है बल्कि गर्मियों की छुट्टियों में रिफ्रेश हो रही है. जुलाई में कोर्ट खुलने के साथ ही नए घमासान की बारी है.
सिनेमा  |  5-मिनट में पढ़ें
क्रूर विलेन से अधेड़ आशिक तक अमरीश पुरी की प्रतिभा का 360 डिग्री दायरा दिखाते 10 किरदार

क्रूर विलेन से अधेड़ आशिक तक अमरीश पुरी की प्रतिभा का 360 डिग्री दायरा दिखाते 10 किरदार

दमदार आवाज और बड़ी आंखों वाले अमरीश पुरी ने ऐसे किरदार निभाए हैं जो उन्हें अमर कर गए. वो अधेड़ उम्र के आशिक भी बने हैं और एक मजबूर पिता भी.
सियासत  |   बड़ा आर्टिकल
18 के अखिलेश हैं दमदार, 6 के केजरीवाल भी कम नहीं. मगर नाकाम हैं 14 साल के राहुल

18 के अखिलेश हैं दमदार, 6 के केजरीवाल भी कम नहीं. मगर नाकाम हैं 14 साल के राहुल

राहुल गांधी, अखिलेश यादव, अरविंद केजरीवाल 21 वीं सदी के बड़े नेता हैं मगर जब हम राहुल गांधी की कार्यप्रणाली को देखें तो मिलता है कि वो अभी भी राजनीतिक रूप से अपरिपक्व और कमजोर खिलाड़ी हैं.
स्पोर्ट्स  |  4-मिनट में पढ़ें
FIFA World Cup 2018: बियर न मिलने से आहत फैंस, फ़्लर्ट जोन में तलाश सकते हैं प्यार!

FIFA World Cup 2018: बियर न मिलने से आहत फैंस, फ़्लर्ट जोन में तलाश सकते हैं प्यार!

फीफा वर्ल्ड कप 2018 की शुरुआत हुए सिर्फ 1 हफ्ता हुआ है और जिस तरह की ख़बरें रूस से आ रही हैं और चर्चा का कारण बनी हैं कहना गलत नहीं है ये पूरा वर्ल्ड कप काफी मनोरंजक होने वाला है.
सियासत  |  4-मिनट में पढ़ें
जहां तीन साल में एक उपचुनाव नहीं हो पाया उस कश्मीर में विधानसभा चुनाव क्या अभी मुमकिन है?

जहां तीन साल में एक उपचुनाव नहीं हो पाया उस कश्मीर में विधानसभा चुनाव क्या अभी मुमकिन है?

राज्य में आखिरी बार पंचायत चुनाव अप्रैल-मई 2011 में कराए गए थे. जबकि शहरी निकाय चुनाव जनवरी 2005 में हुए थे. ये जानकारी ही काफी है हाल-ए-कश्मीर बताने को.
स्पोर्ट्स  |  2-मिनट में पढ़ें
मेसी के लिए करो या मरो का मुकाबला!

मेसी के लिए करो या मरो का मुकाबला!

अर्जेंटीना को आज जीत से कम कुछ मंजूर नहीं होगा. हार मेसी के विश्व कप में आगे बढ़ने के सपने को चकनाचूर कर देगी और ड्रा उन्हें उस डोलड्रम में डाल देगा जहां से टूर्नामेंट में आगे बढ़ने की राह में रोड़े ही रोड़े खड़े हो जाएंगे.
सियासत  |  4-मिनट में पढ़ें
गुलाम नबी आजाद के सेना पर बयान से साफ है कि हमें किसी दुश्मन की जरूरत नहीं!

गुलाम नबी आजाद के सेना पर बयान से साफ है कि हमें किसी दुश्मन की जरूरत नहीं!

ऑपरेशन ऑल आउट पर गुलाम नबी आजाद के बयान से साफ है कि हमें किसी दुश्मन देश की जरूरत नहीं है और इनका ये बयान सेना का मनोबल तोड़ने का काम करेगा.