होम -> समाज

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 31 अक्टूबर, 2020 09:40 PM
अंकिता जैन
अंकिता जैन
  @ankita.jain.522
  • Total Shares

कुछ ही महीने पुरानी बात है जब लॉसवेगास के एक नाइट क्लब ने जैन प्रतिमाओं की अवहेलना की थी. यह कोई छोटा-मोटा क्लब नहीं है. अमेरिका के 7-8 महानगरों में इसकी ब्रांच है. सोशल मीडिया पर इसके लाखों फ़ॉलोवर्स हैं. इन्होंने अपने नाइट क्लब जोकि एक कसीनो क्लब है, वहां जैन प्रतिमाओं को साज-सज्जा की सामग्री बनाकर रखा. उन प्रतिमाओं के ऊपर चढ़कर पोल डांसर्स, अर्धनग्न अवस्था में अश्लील नृत्य करतीं जिनकी तस्वीरें इस क्लब के सोशल मीडिया से पोस्ट की गईं. जब यह बात जैन समुदाय के संज्ञान में आई तो उनकी भी धार्मिक भावनाएं आहत होना लाज़मी था. दिगंबर, बाल ब्रह्मचारी ईश्वर की ऐसी अवहेलना कौन सहन करता लेकिन इसके बदले में उन्होंने क्लब वालों का सर नहीं काटा. बल्कि वे संगठित हुए, भारत (India) के सभी जैन संगठनों ने अमेरिकी जैन-हिन्दू संगठनों के साथ मिलकर इस क्लब के खिलाफ़ कानूनी नोटिस जारी किए. इन्हें चेतावनी दी कि वे अपने क्लब से तत्काल प्रतिमाएं हटाएं अन्यथा उन्हें कड़ी कानूनी कार्यवाही का सामना करना पड़ेगा.

युवाओं ने सोशल मीडिया पर इनके पेज में संदेश भेजे कि सभी तस्वीरें हटाएं. नतीजा यह निकला कि दो दिन के भीतर उन्होंने तस्वीरें हटाईं और अपनी सभी ब्रांचेज़ से प्रतिमा हटाने की लिखित गारंटी दी. साथ ही अपने सोशल मीडिया से और लोकल मीडिया में इस अवहेलना के लिए माफ़ी मांगी. ये ख़बरें लॉसवेगास के सभी मीडियावालों ने कवर की थी.

Muslim, France, Islam, Prophet Mohammad, Cartoon, Violenceविरोध के नाम पर फ्रांस का झंडा जलाते मुस्लिम प्रदर्शनकारी

अब यदि इसके स्थान पर कोई जैन अनुयायी क्लब वालों का सर काट देता तो क्या वह अहिंसा का संदेश देने वाले महावीर का उपासक कहलाता? क्या पैग़म्बर साहब ने कहा है कि आप उनका अपमान करने वालों का सार काट देना. वैसे सर तो निर्दोषों के भी काटे जा रहे हैं. लेकिन आप लोग उन सर काटने वालों के खिलाफ़ संगठित नहीं हो रहे बल्कि आप उस फ्रांस के खिलाफ़ रैलियां निकाल रहे हैं जो अपने लोगों को बचाने के लिए क़दम उठा रहा है.

आपको संगठित होना चाहिए उन लोगों के खिलाफ़ जो इस्लाम का चोला ओढ़कर आतंक फैला रहे हैं. आप कहिए उनसे कि इस्लाम के नाम पर ये आतंक आपको स्वीकार नहीं क्योंकि यह पूरे धर्म को बदनाम करता है. क्या आप ऐसा कर सकते हैं? क्या आप गारंटी ले सकते हैं कि दुनियाभर में फैले इस्लामिक आतंकवादी अब किसी का सर नहीं काटेंगे? कोई आतंकवादी हमला नहीं करेंगे?

आप बुरे नहीं हैं यह हम मानते हैं लेकिन आपका संगठित होकर इस कुकर्म के खिलाफ़ आवाज़ ना उठाना क्या उचित है? आपके धर्म को बदनाम कोई दूसरा नहीं आपके अपने बीच के लोग कर रहे हैं तो उसका नाम करने के लिए भी आपको ही आगे आना होगा. अन्यथा आपकी दूसरों से की जा रहीं अपेक्षाएं अनुचित हैं.

ये भी पढ़ें -

Islamophobia की बातें करने वाले इमरान खान खुद अपने दोगलापन में घिर गए

Boycott France: मुसलमानों के विरोध प्रदर्शन में बुनियादी गलती हो रही है

Emmanuel Macron के विरोध में उतरे मुसलमान कुछ गलती तो नहीं कर रहे?

#मुस्लिम, #फ्रांस, #इस्लामोफोबिया, Prophet Mohammad Cartoon, Muslim Protest, France Terror Attacks

लेखक

अंकिता जैन अंकिता जैन @ankita.jain.522

लेखिका समसामयिक मुद्दों पर लिखना पसंद करती हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय