होम -> समाज

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 30 जनवरी, 2020 01:33 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujkumarmaurya87
  • Total Shares

इन दिनों चीन में नॉवेल कोरोना वायरस (Coronavirus) एक महामारी की तरह फैल रहा है. इसकी वजह से अब तक 131 लोगों की जान जा चुकी है और 6000 से भी अधिक लोग इससे संक्रमित (Coronavirus Infection) हो गए हैं. चीन से फैला ये वायरल धीरे-धीरे भारत समेत दुनिया के दूसरे देशों में भी अपनी मौजूदगी दर्ज करता जा रहा है. जब रिसर्च हुई तो ये आशंका सामने आई है कि यह वायरस चमगादड़ और सांप (Bats or Snake trasmitted Coronavirus) से फैला है. अब सवाल ये है कि कैसे? इन जानवरों ने किसी इंसान को काटा, जिससे ये वायरस उनके अंदर गया, या फिर किसी इंसान ने इनमें से किसी को खा लिया और इस वायरस का शिकार हो गया? अभी इस पर बहस चल ही रही थी कि चीन में चमगादड़ का सूप पीने की खबरें सामने आईं. इसी बीच चीन की एक लड़की का वीडियो (Bat Soup eating Video) सामने आया, जिसमें वह चमगादड़ खाती दिख रही है. बस फिर क्या था, चीन की सोशल मीडिया (Social Media) साइट Weibo पर लोगों ने उसे ही कोरोना वायरस फैलाना का जिम्मेदार बताना शुरू कर दिया. लोगों के अनुसार उस लड़की ने चमगादड़ खाया और वो कोरोना वायरस (Corona Virus) इंसानों में पहुंच गया. मामला इतना बढ़ा कि चीन की इस लड़की (Chinese girl Wang Mengyun apology for eating Bat Soup) को माफी तक मांगनी पड़ी.

Coronavirus Chinese girl apology for eating Bat Soupचीन की इस ट्रैवल ब्लॉगर को चमगादड़ खाने के लिए लोगों से माफी मांगनी पड़ी.

कौन है ये लड़की?

चीन की इस लड़की का नाम है Wang Mengyun, जो एक ट्रैवल ब्लॉगर (Travel Blogger) है. वह सोशल मीडिया पर अपना ऑनलाइन ट्रैवल शो Dream Runner चलाती है, जिसके ढेर सारे फॉलोअर्स भी हैं. उन्होंने ये शो करीब 5 साल पहले शुरू किया था. ये शो Youtube, Weibo और Douyin जैसे सोशल मीडिया (Social Media) प्लेटफॉर्म पर आता है और खूब लोकप्रियता भी पाता है. 2018 में जब Wang Mengyun 28 साल की थीं, तो फोर्ब्स (Forbs) ने उन्हें उन 30 सफल चाइनीज एंट्राप्रेन्योर्स में शामिल किया था, जिन्होंने 30 साल की उम्र से पहले सफलता हासिल की है.

क्यों खाया चमगादड़?

जैसा कि अब हम ये जान चुके हैं कि Wang Mengyun एक ट्रैवल ब्लॉगर हैं, तो ये सब उनके इसी पेशे की वजह से हुआ है. वह पश्चिमी पैसिफिक ओसीन के Palau नाम के एक आइलैंड पर घूमने गई थीं. वहां पर उन्होंने पाया कि वहां के स्थानीय लोग चमगादड़ का सूप पीते हैं और चमगादड़ खाते भी हैं. उन्होंने चमगादड़ सिर्फ इसीलिए खाया, क्योंकि वह Palau के स्थानीय लाइफस्टाइल को लोगों को दिखाना चाहती थीं, लेकिन उन्हें शायद इस बात अंदाजा भी नहीं था कि ये वीडियो एक दिन उनके लिए मुसीबत बन जाएगा.

काफी पुराना है वीडियो

वैसे एक बात जो गौर करने की है कि Wang Mengyun का चमगादड़ खाते हुए जो वीडियो वायरल हो रहा है और जिसके लिए उनसे माफी मांगने को कहा जा रहा है, वह आज का नहीं, बल्कि 2016 का है. अब जब चीन में नॉवेल कोरोना वायरस फैला और इस बात की आशंका जताई गई कि ये चमगादड़ से फैला है और इसी बीच चमगादड़ के सूप की खबरें सामने आईं, तो सोशल मीडिया यूजर्स ने ये वीडियो खोद कर निकाल दिया और वायरल कर दिया. Wang Mengyun को चमगादड़ खाने के लिए इतनी खरी-खोटी सुनाई गई, इतना ट्रोल किया गया कि उन्हें माफी तक मांगनी पड़ी.

सोशल मीडिया पर हुईं ट्रोल

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने Wang Mengyun को चमगादड़ खाने के लिए भला-बुरा कहा तो कुछ ने उनका साथ दिया. एक यूजर ने लिखा- 'भले ही यह वहां की स्थानीय विशेषता है, लेकिन तुम इसे कैसे खा सकती है, क्या तुम कुछ भी खा लोगी?' एक अन्य यूजर ने कहा- 'मैं ये नहीं समझ पा रहा हूं कि आखिर वह इसे खाना ही क्यों चाहती थी'. हालांकि, एक अन्य यूजर ने Wang Mengyun का समर्थन करते हुए कहा- 'वह एक ट्रैवल ब्लॉगर है. ये उसकी जॉब है. जो भी तुम्हारी (विरोध करने वालों की) समझ में ना आए, वो जरूरी नहीं कि गलत ही हो.'

चमगादड़ खाने के लिए मांगी माफी

लोगों का विरोध देखते हुए Wang Mengyun ने एक माफी मांगते हुए एक लेटर पोस्ट किया. ये लेटर उन्होंने 22 जनवरी को अपने Weibo पर डाला, जिस पर उनके 22 लाख फॉलोअर हैं. हालांकि, कुछ समय बाद ही उस पोस्ट को बिना कोई वजह बताए हटा दिया गया. अपने लेटर में Wang Mengyun ने दावा किया था कि वह ऑनलाइन ट्रोलिंग का शिकार हुईं, क्योंकि इंटरनेट पर वाइल्डलाइफ जानवर (खासकर चमगादड़) खाने के अधिक वीडियो या तस्वीरें मौजूद नहीं हैं. उन्होंने कहा कि ये प्रोग्राम कोरोना वायरस के आने के काफी पहले रिकॉर्ड किया गया था और उस समय वह ये भी नहीं जानती थीं कि चमगादड़ खाने से इतना बड़ा खतरा हो सकता है. उन्होंने ये भी कहा कि जब वह ये वीडियो शूट कर रही थीं, जब वह ये बिल्कुल नहीं जानती थीं कि उसमें एक वायरस हो सकता है. उन्होंने जो चमगादड़ खाया था वह फॉर्म का चमगादड़ था, ना कि जंगल का. ये भी लिखा कि बहुत से देशों में चमगादड़ खाया जाता है और ये उनकी रोजाना की डिश भी होती है. उन्होंने लिखा- 'आप लोग मुझे माफ कर दीजिए. मुझे चमगादड़ नहीं खाना चाहिए था.'

रिसर्च के बाद ये पता चला है कि कोरोना वायरस चमगादड़ों से फैला हो सकता है. इस वायरस में पाया जाने वाला प्रोटीन कोड उस सांप जैसा है, जो चमगादड़ों का शिकार करते हैं. Chinese Centre for Disease Control and Prevention के वैज्ञानिकों ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि ये वायरस चीन के वुहान शहर के होलसेल एनिमल मार्केट से शुरू हुआ है, हालांकि, ये स्पष्ट नहीं हो सका है कि किस जानवर से ये संक्रमण इंसानों में फैला है, क्योंकि वहां पर दर्जों प्रजाति के जानवर बिकते हैं, जिनमें चूहे और भेड़िये तक शामिल होते हैं.

ये भी पढ़ें-

Coronavirus Disease: भारत के लिए symptoms पहचान लेना ही treatment है

Coronavirus disease: जानलेवा बीमारियां पैदा करने के मामले में चमगादड़ों की हैटट्रिक!

Coronavirus disease in India: चीन में उपजी इस बीमारी की घुसपैठ मोदी सरकार की परीक्षा लेगी

Coronavirus, Bat Soup, Social Media

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय