होम -> सोशल मीडिया

 |  7-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 29 मई, 2021 04:03 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

जोक तरह तरह के होते हैं. संता बंता के होते हैं. जीजा साली के होते हैं. ननद भौजाई के होते हैं. पति पत्नी के होते हैं. सभ्य होते हैं. अश्लील होते हैं. इन जोक्स के बाद चुटकुलों की एक केटेगरी वो है जो पॉलिटिकल होती है. ऐसे चुटकुलों को फनी बनाने के लिए किसी नेता को रखा जाता है और उसका मजाक उड़ाया जाता है. वैसे तो लोग किसी और जोक के मुकाबले ऐसे चुटकुलों को ज्यादा एन्जॉय करते हैं. लेकिन ऐसे भी क्षण आते हैं, जब उस नेता, जिसपर जोक बना है उसके फॉलोवर आहत हो जाते हैं और वो व्यक्ति जिसने जोक सुनाया होता है उसे लेने के देने पड़ जाते हैं. बॉलीवुड एक्टर रणदीप हुड्डा अभी बिल्कुल इसी सिचुएशन में हैं.  सवाल ये है कि क्या रणदीप हुड्डा का मायावती के बारे में भद्दा जोक 'महारानी' रिलीज के साथ वायरल होना इत्तेफाक है?

Randeep Hooda, Mayawati, Mockery, Dalit, Woman, Viral Video, Bollywoodएक्टर रणदीप हुड्डा का एक पुराना वीडियो वायरल हुआ है जिसने समाज के एक बड़े वर्ग को आहत कर दिया है

ये सवाल क्यों उठा इसपर चर्चा होगी. मगर क्योंकि विवाद की जड़ बसपा सुप्रीमो मायावती के संदर्भ में कहा गया रणदीप हुड्डा का जोक है तो पहले बात उसपर. जो वीडियो हालिया दिनों में इन्टरनेट पर वायरल हुआ है यदि उसका अवलोकन किया जाए तो मिलता है कि रणदीप स्टेज पर बैठे हैं और ऑडियंस के अलावा ऑडियंस से कहते हैं कि उन्हें एक डर्टी जोक सुनाना है.

क्या था रणदीप का वो डर्टी जोक जो बना विवाद की वजह

रणदीप ने दर्शकों के अलावा गेस्ट को जोक सुनाते हुए कहा कि, 'एक बार मायावती 2 बच्चों के साथ जा रही होती है. उस वक्त एक आदमी उनसे पूछता है कि क्या ये दोनों बच्चे जुड़वा हैं? तो मायावती कहती हैं नहीं एक 4 साल का और दूसरा 8 साल का.’ वीडियो देखें तो मिलता है कि इसके बाद भी रणदीप ऐसा बहुत कुछ कहते हैं जो किसी को भी नागवार गुजर सकता है.

तो कहां का है ये वीडियो और इस वीडियो को बाहर लाने का श्रेय किसे जाता है.

वीडियो के बाद जो पहला सवाल लोगों के जहन में आ रहा है वो ये कि आखिर ये वीडियो है कहां का? तो बताते चलें कि 43 सेकंड का रणदीप का ये वीडियो एक नामी मीडिया हाउस द्वारा आयोजित कार्यक्रम का हिस्सा है. वीडियो 2012 का बताया जा रहा है. वहीं बात अगर इसे सोशल मीडिया पर लाने की हो तो इसका पूरा श्रेय अगाथा सृष्टि नाम की ट्विटर यूजर को जाता है.

अगाथा ने रणदीप का ये वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा है कि, यदि इस वीडियो को देखकर नहीं समझा जा सकता कि हमारा समाज कितना जातिवादी कितना सेक्सिस्ट है खासतौर से एक दलित महिला के लिए तो मुझे नहीं लगता कि आगे क्या होगा.इसके बाद अगाथा ने अपने ट्वीट में मंच पर बैठे लोगों, गेस्ट और रणदीप हुड्डा को घेरा है और कहा है कि एक टॉप बॉलीवुड एक्टर यदि एक ऐसी महिला के बारे में बात कर रहा है जो दलित बिरादरी की आवाज है तो स्थिति वाक़ई चिंताजनक है.

रणदीप पर टूट पड़ा मुसीबतों का पहाड़

रणदीप के इस वीडियो के सामने आने के बाद जहां एक तरफ तमाम दलित संगठन रणदीप की गिरफ्तारी की मांग कर ट्विटर और फेसबुक पर #arrestrandeephooda की मांग कर रहे हैं तो वहीं खबर ये भी है कि रणदीप को यूनाइटेड नेशन ने जंगली जानवरों की प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण सम्मेलन (सीएमएस) के एम्बेसडर के पद से हटा दिया है.

संयुक्त राष्ट्र सचिवालय ने एक बयान में कहा कि अभिनेता रणदीप हुड्डा को जंगली जानवरों की प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण सम्मेलन (सीएमएस) के एम्बेसडर के पद से हटा दिया गया है.सीएमएस सचिवालय ने कहा कि उन्हें हाल ही में वायरल हो रहे एक वीडियो क्लिप के बारे में पता चला और वीडियो में की गई टिप्पणियों को 'आपत्तिजनक' पाया गया है.

बयान में इस बात का भी वर्णन है कि इसमें यह भी कहा गया है कि जब हुड्डा को फरवरी 2020 में प्रवासी प्रजातियों के लिए सीएमएस एंबेसडर के रूप में नियुक्त किया गया था, उस समय संगठन इस वीडियो से अनजान था. अब जानकारी होने के बाद उन्हें तत्काल प्रभाव से हटाया जाता है.

मामले में लगातार प्रतिक्रियाएं आ रही हैं और जैसा लोगों का अंदाज है उन्हें रणदीप की बातें बिल्कुल भी अच्छी नहीं लगी हैं.

रणदीप के इस भौंडे 'जोक' पर सीपीएम की नेता कविता कृष्णन ने भी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि हुड्डा की टिप्पणी ''जातिवादी और नारी विरोधी'' है.

पत्रकार दिलीप मंडल ने भी रणदीप के इस वीडियो को गंभीरता से लेते हुए उनकी गिरफ़्तारी की मांग की है.

सोशल मीडिया पर तमाम लोग हैं जो रणदीप को हद से ज्यादा बीमार बता रहे हैं. साथ ही उनका ये भी कहना है कि जो ऑडियंस रणदीप के सामने बैठी है वो भी बहुत बीमार है.

वीडियो का 'महारानी' कनेक्शन

जैसा कि हमने हाल में ही रिलीज हुई पॉलिटिकल ड्रामा सीरीज 'महारानी' का जिक्र किया था तो इसे भी इस विवाद से जोड़कर देखा जा सकता है. सीरीज की कहानी लालू और राबड़ी से जोड़ी जा रही है और शायद यही वो कारण है कि इस वेब सीरीज की पृष्ठभूमि बिहार है.

10 एपिसोड्स की इस सीरीज में हुमा कुरैशी और सोहम शाह लीड रोल में हैं सोहम ने पिछड़े वर्ग से आने वाली मुख्यमंत्री भीमा भारती का किरदार निभाया है. जोकि पार्टी के अंदर और बाहर मौकापरस्त नेताओं से घिरे हैं. उनपर हमला होता है जिसके बाद सबको हैरान करते गंवई और घरबार संभालने वाली पत्नी रानी भारती (हुमा कुरैशी) को मुख्यमंत्री की गद्दी पर बिठा दिया जाता है.

सोशल मीडिया पर एक वर्ग वो भी है जिसका मानना है कि पिछड़ों वाले एंगल के तहत रणदीप का ये बयान अब वायरल किया जा रहा है. भले ही रणदीप का ये वीडियो सामने आ चुका है मगर अभी उनकी तरफ से इस वीडियो पर कोई सफाई नहीं दी गयी है और न ही माफ़ी मांगी गई है. तो इसपर रणदीप का रुख देखना अपने आप में दिलचस्प है.

पूरे मामले में विवाद का कारण 'जोक' है. तो यदि रणदीप को लेकर इतना हो हल्ला मचा हुआ है तो उन स्टैंड अप कॉमेडियंस की भी ख़ैर नहीं है, जिनके जोक की यूएसपी ही पॉलिटिकल फीगर हैं. अब ऐसे कॉमेडियंस पर मायावती के नाम पर आहत होने वाली जनता का क्या रुख रहता है? ये भी एक जरूरी प्रश्न है. जिसका जवाब देश और देश की जनता जरूर जानना चाहेगी.

ये भी पढ़ें -

इजरायल-फिलिस्तीन विवाद में पड़कर दो आशिक दुश्मन बन गए!

गुब्बारा बांधकर कुत्ते को उड़ाने वाले की हवा निकालना जरूरी है

नीना गुप्ता का पिता को 'बॉयफ्रेंड' बनाने की बात कहना खटक क्यों रहा है...

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय