होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 06 मई, 2019 04:11 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

17 वीं लोकसभा के लिए पांचवे चरण का मतदान जारी है. यूपी की 14 सीटों पर मतदान सुबह 7 बजे से जारी है. क्या आम क्या खास, देश का प्रत्येक नागरिक कतार में है और अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर एक मजबूत सरकार चुनने को आतुर है. खबर सपा बसपा के खेमे से है और इनके वोटबैंक को प्रभावित करने वाली है. बताया जा रहा है कि बसपा सुप्रीमो मायावती ने लखनऊ के सिटी मॉन्टेसरी इंटर कॉलेज के बूथ पर वोट डाला है.

यूं तो किसी आम भारतीय की तरह मायावती का वोट डालना कोई बड़ी बात नहीं है. अहम है मायावती का उस पार्टी को वोट करना जो एक जमाने में उनकी पॉलिटिकल राइवल थी. लखनऊ में मायावती ने अपना बहुमूल्य मत समाजवादी पार्टी से उम्मीदवार पूनम सिन्हा को दिया है. मायावती ने मतदाताओं से वोट का सही इस्तेमाल करने की अपील करते हुए कहा कि लोग ज्यादा से ज्यादा तादाद में वोट करने जाएं. ज्ञात हो कि पांचवें चरण में 7 राज्यों की 51 सीटों पर 674 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर लगी है.

मायावती, सपा-बसपा गठबंधन, कांग्रेस, लोकसभा चुनाव 2019ऐसे तमाम कारण हैं जो बताते हैं कि 2019 के लोकसभा चुनाव में मायावती का दिया वोट इतिहास में दर्ज होगा

ध्यान रहे कि लखनऊ से बसपा का कोई भी कैंडिडेट मैदान में नहीं है. केंद्र की सत्ता से मोदी को हटाने के लिए बने सपा बसपा गठबंधन ने लखनऊ के लिए पूनम सिन्हा के रूप में एक बड़ा दाव खेला है और माना यही जा रहा है कि इस चुनाव में पहली बार मायावती ने साइकिल का बटन दबाकर सपा को वोट दिया है.

गौरतलब है कि इससे पहले सपा बसपा 1993 में एक जुट हुए थे और तब यूपी विधानसभा चुनाव में बसपा उम्मीदवार को टिकट मिलने के कारण मायावती ने अपना वोट उसे ही दिया था. अब चूंकि सपा बसपा गठबंधन ने पूनम सिन्हा को टिकट दिया है इसलिए ये पहला मौका है जब बसपा प्रमुख ने हाथी के अलावा किसी और बटन को दबाकर साइकिल को वोट दिया है.

बात अगर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से अन्य कैंडिडेट की हो तो यहां से भाजपा ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह को टिकट दिया है जबकि आचार्य प्रमोद कृष्णन को कांग्रेस की तरफ से रण विजय कर परचम लहराने की जिम्मेदारी मिली है. आपको बताते चलें कि लोकसभा चुनाव 2019 में मोदी-शाह के विजय रथ को उत्तर प्रदेश में रोकने के लिए अखिलेश यादव और मायावती ने कहा था कि दोनों पार्टियां गठबंधन कर रही है. साथ ही दोनों ही दलों ने ये भी बताया था कि बसपा 38 तो सपा ने 37 सीटों पर चुनाव लड़ेगी.

बहरहाल, उत्तर प्रदेश में सपा बसपा का ये गठबंधन मोदी शाह के विजय रथ को रोकने में कितना कारगर साबित होगा इसका फैसला 23 मई हो हो जाएगा. मगर जिस तरह मोदी विरोध के नाम पर मायावती ने एक ऐसे दल को अपना मत दिया है जिसकी कई मौकों पर उन्होंने आलोचना की है. ये बताता है कि जब बात कुर्सी और सत्ता सुख भोगने की आती है तो राजनीति में सारे गिले शिकवे मिट जाते हैं. उस समय व्यक्ति उस कहावत पर अमल करने का प्रयास करता है जिसके अंतर्गत जरूरत पड़ने पर गधे को भी पिता का दर्जा देकर निष्काम भाव से उसकी सेवा की जाती है.

ये भी पढ़ें -

पांचवें दौर की 10 सीटें - राहुल, सोनिया, स्मृति और राजनाथ मैदान में

अमेठी की जंग: प्रियंका गांधी यदि आपा खो रही हैं, तो उसकी वजह भी है...

जरनैल सिंह को नेता बनाने वाले केजरीवाल को थप्पड़ से ऐतराज क्यों?

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय