होम -> सियासत

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 19 मार्च, 2020 09:17 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

चीन (China), इटली (Italy), स्पेन (Spain), ईरान (Iran), यूके (UK) और अमेरिका (America) में अपनी दहशत से लोगों को आतंकित करने वाला कोरोना वायरस (Coronavirus) भारत (India) की सबसे बड़ी आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में अपने पांव पसार चुका है. राजधानी लखनऊ (Lucknow) में कोरोनावायरस के दो ताजे मामले आने के बाद सूबे में इस बीमारी के शिकार लोगों की कुल संख्या 19 पहुंच गयी है. बीमारी किसी की जान की दुश्मन न बने इसलिए शासन प्रशासन भी मुस्तैद है. खुद सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) कोरोना वायरस के प्रति खासे गंभीर हैं और लगातार अधिकारीयों से इसका फॉलोअप ले रहे हैं. हालांकि भारत में विशेषकर उत्तर प्रदेश में बीमारी अपनी प्राथमिक स्टेज पर है बावजूद इसके जो सूबे के मुखिया कर रहे हैं उसने उनके आलोचकों तक को उनकी तारीफ के लिए विवश कर दिया है. मजदूरी करने वाले लोग इस दौरान अपने अपने घरों में रहे इसके लिए योगी सरकार (Yogi Government) एक तय धनराशि उनके अकाउंट में डालने वाली है. सूबे में वित्तमंत्री की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गयी है जो तीन दिनों में रक रिपोर्ट तैयार करेगी और उसे मुख्यमंत्री (Chief Minister) के पास भेजेगी.

Coronavirus, Yogi Adityanath, Uttar Pradesh, Health, Moneyयोगी आदित्यनाथ की एक समझदारी ने विपक्ष तक को उनकी तारीफ करने पर मजबूर कर दिया है

अपनी इस योजना की जानकारी खुद सूबे के मुखिया ने अपने ट्विटर पेज पर डाली है और बताया है कि इस दौरान इस बात का भी पूरा ख्याल रखा जाएगा कि सूबे के किसी गरीब को इस बीमारी के चलते दुश्वारियों का सामना न करना पड़े.

ध्यान रहे कि कोरोना वायरस को गरीबी रेखा के नीचे रहने वालों के लिए एक बड़ी चुनौती की तरह देखा जा रहा है. खुद डॉक्टर्स का भी यही मानना है कि यदि बीमारी ऐसे लोगों के बीच अपने पैर पसारती है तो स्थिति कहीं ज्यादा घातक होगी। जैसे प्रयास यूपी में किये गए हैं उसके बाद कहा यही जा सकता है कि शायद योगी आदित्यनाथ और उत्तर प्रदेश की सरकार ने इस बात को समझा है और वक़्त रहते एक सही फैसला लिया है.

बाकी बात गरीबों/ मजदूरों के अकाउंट में सरकार की तरफ से पैसे ट्रांसफर करने की हुई है. तो बता दें कि भले ही ये भारत खासकर उत्तर प्रदेश के लिए नया हो. मगर जब हम इसे वैश्विक स्तर पर देखते हैं तो मिलता है कि विश्व के तमाम मुल्क ऐसे हैं जिन्होंने सुरक्षा की दृष्टि से आर्थिक मदद देकर अपने अपने नागरिकों की मुश्किल समय में मदद की है.

गौरतलब है कि अभी बीते दिनों ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में यूपी कैबिनेट की एक बैठक का आयोजन हुआ है. योगी कैबिनेट की इस बैठक में कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते पयर्टक स्थल व अन्य जगहों की बंदी से प्रभावित गरीब लोगों को मदद मुहैया कराने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए प्रदेश के वित्त मंत्री, कृषि मंत्री और श्रम मंत्री की एक समिति बनाई गई है. यह समिति रोज कमाने-खाने वालों लोगों को कोरोना से हुए नुकसान के संबंध में तीन दिन के अंदर रिपोर्ट देगी.

जैसी ये घोषणा है कहा जा सकता है कि अपनी इस मुहीम में योगी आदित्यनाथ ने डिजिटल इंडिया के तहत मिलने वाली सुविधाओं का भी खूब फायदा उठाया है. बताया जा रहा है कि सूबे की सरकार गरीब/ मजदूरों के अकाउंट में आरटीजीएस के जरिये पैसे ट्रांसफर करेगी. इसे वाक़ई यूपी सरकार की एक अच्छी पहल कहा जा सकता है. एक ऐसे वक़्त में जब भारत में कोरोना वायरस को लेकर गफलत का दौर हो इसे हम किसी भी राज्य की सरकार द्वारा एक बड़ी राहत के रूप में देख सकते हैं.

योगी आदित्यनाथ की इस पहल के बाद एक वर्ग वो भी है जिसका मानना है कि सरकार ने बिना किसी भेदभाव के अपनी इस पहल में सभी को शामिल किया है. लोगों का यहां तक कहना है कि यूपी सरकार की इस पहल का अनुसरण भारत के अन्य राज्यों को भी करना चाहिए.

बता दें कि फ़िलहाल इस बीमारी की कोई दवा बाजार में मौजूद नहीं है और सावधानी को ही इस बीमारी से लड़ने के एक बड़े हथियार के रूप में देखा जा रहा है. तो माना यही जा रहा है कि यदि खुद लोगों ने राज्य सरकार का साथ दिया तो उत्तर प्रदेश में इस बीमारी को बड़ी ही आसानी के साथ परास्त किया जा सकता है.

खैर, योगी आदित्यनाथ का लोगों को घर में रखने के नाम पर उनके अकाउंट में पैसे डालना इसलिए भी एक बड़ी पहल के रूप में देखा जा सकता है क्योंकि अपनी इस मुहीम से कहीं न कहीं राज्य सरकार एक बड़ा सन्देश दे रही है. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बता दिया है कि बीमारी भले ही अपने प्राथमिक स्टेज में हो मगर इसकी गंभीरता के प्रति हमें खुद सचेत रहने की जरूरत है. 

ये भी पढ़ें -

बालकनी में कोरोना से बचने का गाना! भारत के शहर तो बस कमाल कर देंगे...

Coronavirus impact: सेलिब्रिटी कितने भी एकांत में हों, महफिल बना ही लेते हैं!

Safe Hand Challenge: क्या दीपिका पादुकोण और विराट कोहली के हाथ धोने से बात बन जाएगी?

Coronavirus, Disease, Death

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय