होम -> सिनेमा

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 29 नवम्बर, 2019 01:06 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

शुक्रवार को विद्युत जामवाल (Vidyut Jammwal) की फिल्म सीरीज कमांडो की तीसरी किश्त कमांडो 3 (Commando-3) रिलीज हो गई. विद्युत जामवाल वो एक्टर हैं जिनके खाते में बहुत सफल फिल्में तो नहीं आईं लेकिन बतौर एक्टर उन्हें काफी पसंद किया जाता है. वजह है उनकी फिट और टोन्ड बॉडी और पागल कर देने वाले एक्शन सीन्स. वो जादू तो विद्युत अपनी हर फिल्म में बरकरार रखते हैं और इसीलिए कमांडो 3 उनके फैन्स के लिए बेहद रोमांचक साबित होने वाली है.

एक विवाद और फिल्म हिट

अगर आप भी ये मानते हैं कि कंट्रोवर्सी की वजह से फिल्म हिट हो जाती है. तो मानिए कि Commando 3 हिट है. क्योंकि इसके हिस्से में एक विवाद तो आ ही गया है. असल में फिल्म रिलीज के पहले इसके प्रोमोशन के लिए 5 मिनट का एक introductory scene रिलीज किया गया था. जिससे फिल्म देखने की जिज्ञासा बढ़े. लेकिन इस सीन को देखने के बाद कुछ लोग आहत हो गए.

commando film reviewफिल्म के साथ जुड़ी ये कंट्रोवर्सी शायद इसका साथ दे दे

एक सीन में स्कूल जाने वाली लड़कियों के साथ छेड़छाड़ की जा रही थी. और छेड़छाड़ करने वाले थे पहलवान. एक पहलवान लड़की की स्कर्ट उठाता हुआ दिखाया गया. लेकिन तभी हीरो की एंट्री होती है और पहलवानों की धुलाई. पर इस सीन पर लोगों ने आपत्ति दर्ज करवाई है. पहली बात तो ये कि ये एक बच्ची के शोषण का मामला था और दूसरी बात ये कि शोषण करने वाला पहलवान था.

सोशल मीडिया पर लोग इसके लिए सेंसर बोर्ड को कोस रहे हैं तो कभी फिल्म बनाने वालों को. इस फिल्म को डिलीट करने की मांग उठाई जा रही है. लेकिन एक पक्ष ऐसा भी है जो पहलवानों की इस छवि को हजम नहीं कर पा रहा. लोगों का कहना है कि 'वाकई निराशाजनक, क्योंकि भारतीय पहलवान ऐसा नहीं कर सकता.' 'भारतीय फिल्म इतिहास में पहली बार अखाड़े के पहलवानों का इतना निकृष्ट चित्रण किया गया है.'

देश, देशभक्ति और हिंदू-मुस्लिम बगावत पर आधारित है फिल्म

'कमांडो' फ्रेंचाइजी की इस तीसरी फिल्म को आदित्य दत्त ने डायरेक्ट किया है. फिल्म की कहानी आतंक के खिलाफ देश को एक जुट करने के बारे में है. विद्युत् जामवाल के अलावा अदा शर्मा और गुलशन देवैया लीड रोल में हैं. फिल्म में विद्युत जामवाल कमांडो बने हैं और अदा शर्मा एनकाउंटर स्पेशलिस्ट. इन्हें भारत सरकार लंदन में बैठे आतंकी को ढूंढने और भारत लाने के लिए भेजती है. ये आतंकी एक ऐसा मास्टरमाइंड है जो लंदन में बैठकर भी वीडियो टेप के जरीए भारत के युवाओं का ब्रेनवॉश कर रहा है.

कहानी ऐसी है जिसमें कुछ नयापन तो नहीं है लेकिन देश और आतंकवाद पर आधारित फिल्मों की कहानी अक्सर ऐसी ही होती है. फिल्म में कई बातें ऐसे हैं जो सोचने पर मजबूर करती हैं. ये वो बाते हैं जिसपर अक्सर चर्चा होती है और जिस पर बात करना जरूरी भी है. कहानी में यौन शोषण, हिंदू- मुस्लिम बगावत, धर्म परिवर्तन, देश को खत्म कर देने की धमकी, फर्जी पार्सपोर्ट, आतंकवादी और देशभक्ति जैसे सभी बातें हैं. धर्म को लेकर फिल्म में जो कुछ भी है उसे लोग पसंद कर रहे हैं.

सोशल मीडिया पर लोग कह रहे हैं कि फिल्म हिंदू मुस्लिम एकता को बढ़ावा देती है.

हालांकि कुछ ऐसे भी हैं जो बेहतर की उम्मीद कर रहे थे.

खैर फिल्म एक्शन और थ्रिल से लेस है. उस पर Vidyut Jammwal ने इसे और भी बेहतरीन बना दिया है. सोशल मीडिया पर तो 2.5 से 3 स्टार तक दिए गए हैं. फिल्म में एक साथ इतने सारे मुद्दे दिए गए हैं कि लोग इसे एक अच्छी इंटरटेनिंग फिल्म कह सकते हैं. रही बात इस फिल्म से जुड़े विवाद की तो, आपत्ति जताई जा सकती है लेकिन इस बात से कोई असहमत नहीं हो सकता कि स्कूल जाने वाली बच्चियों के साथ छेड़छाड़ नहीं होती. और छेड़छाड़ करने वाला कोई भी हो सकता है. इसलिए जो दिखाया जा रहा है उसे समझने की जरूरत है. बाकी फिल्म के हिट होने के लिए मुद्दा तो मिल ही गया है.

ये भी पढ़ें-

Jayalalitha: मेकअप वालों ने काम कर दिया, अब कंगना की बारी

जयललिता बनने के लिए कंगना का चैलेंज सुपर-30 वाले हृतिक रोशन जैसा

Ranu Mondal का मेकअप कई चेहरों के नकाब उतार रहा है

 

Commando 3, Vidyut Jammwal, Commando 3 Film Review

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय