होम -> सिनेमा

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 29 अप्रिल, 2020 03:48 PM
प्रीति 'अज्ञात'
प्रीति 'अज्ञात'
  @pjahd
  • Total Shares

हर रात जब हम नींद की आगोश में होते हैं तो ये मानकर चलते हैं कि अगली सुबह ख़ूबसूरत ही होगी. प्रातःकालीन दिनचर्या से निबट अचानक आपकी नज़र एक मैसेज पर जाती है और उसी वक़्त सुबह की सारी रोशनी बेमानी हो जाती है जब आपको पता चलता है कि आपका प्रिय कलाकार इस दुनिया में नहीं रहा (Irrfan Khan Death news). पहली प्रतिक्रिया इस ख़बर को झूठा (Irrfan Khan news social media reactions) मान लेना चाहती है लेकिन फिर भी आप सारी दुआओं को दोहराते हुए टीवी की तरफ दौड़ पड़ते हैं और पता चलता है कि हम सबका दुलारा कलाकार इरफ़ान खान अब इस दुनिया को अलविदा कह चुका है. मुझे सदैव ही इस बात का अफ़सोस होता रहा है कि तीन खानों और घरानों की भीड़ में राहुल बोस, मनोज बाजपेई, इरफ़ान ख़ान और नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी सरीखे कई बेहतरीन कलाकारों को उनके हिस्से की उतनी ज़मीं नहीं मिलती जिसके ये सदैव हक़दार रहे हैं. लेकिन हर बार ही मैंने यह कह अपने दिल को तसल्ली भी दी कि हीरा कहीं भी रहे. इससे उसकी श्रेष्ठता पर असर नहीं पड़ता. वही एक हीरा आज हमसे जुदा हो गया, यह बात मन अब भी मानने को तैयार नहीं.

Irrfan Khan, Death, Irrfan Khan Death इस बात पर यकीन ही नहीं हो रहा है कि इरफ़ान खान जैसा मंझा हुआ कलाकार हमारे बीच नहीं रहा

इरफ़ान के अभिनय की प्रशंसा करना भी जैसे सूरज को दीया दिखाना है. उनकी आंखें ही आधा अभिनय कर जाती थीं. आँखें ही बोलती थीं, आंखें ही हंसती थीं और आंखें ही दर्द और दुःख की पूरी किताब जैसे खोलकर रख देती थीं. उनके अभिनय की रेंज पकड़ पाना हर किसी के बस की बात नहीं. हास्य जितनी सहजता से निभा जाते थे, आम आदमी के जीवन संघर्ष को भी उतनी ही संजीदगी से बयां किया है उन्होंने.

डायलॉग बोलने का उनका अपना एक निराला अंदाज था. हर तरह की भूमिका को पूरे दिलोजान और ईमानदारी से निभाया है, इरफ़ान ने. उनकी हर फिल्म ऐसी है जिसे देखकर लगता है कि ये सिर्फ उन्हें ही ध्यान में रख लिखी गई है. ऐसे अद्भुत अभिनेता थे वो. लेकिन इन सबसे इतर जो एक सबसे महत्वपूर्ण पक्ष है वो है इरफ़ान का अपना व्यक्तित्त्व, जिसने न जाने कितने लोगों को प्रभावित और प्रेरित किया होगा.

मार्च 2018 में लिखी उनकी वह पोस्ट याद आती है जिसमें उन्होंने स्वयं को न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर होने की ख़बर बेहद भावुक अंदाज़ में दी थी और उनके करोड़ों प्रशंसक घबरा गए थे. लेकिन यकीन भी था कि हमारा फाइटर इरफ़ान वापिस आएगा, अपने उसी संवेदनशीलता से भरे कम शब्दों और हंसती आंखों के साथ. इरफ़ान ने हमारा ये विश्वास नहीं तोडा और वे लौट आये थे. अब जबकि हम उस तरफ से निश्चिन्त हो 'अंग्रेज़ी मीडियम' को देख खुश हो ही रहे थे कि अचानक हमारा प्रिय अभिनेता हमारे बीच से निकल आसमान पर जा तारा बन बैठा.

कब से उसको ढूंढता हूं/ भीगी पलकों से यहां/ अब न जाने वो कहाँ है/था जो मेरा आशियां

वक्त के कितने निशां है/ ज़र्रे ज़र्रे में यहाँ/ दोस्तों के साथ के पल/ कुछ हसीं कुछ ग़मज़दा

सब हुआ अब तो फना/ बस रहा बाकी धुंआ

बिल्लू बारबर के इस गीत के साथ मैं अपने प्रिय कलाकार को विदाई देती हूं जो हम सबके बीच सदा रहेगा लेकिन ईश्वर से नाराज़गी अवश्य हो रही है कि वो अच्छे लोगों को सदा अपने पास क्यों बुला लेता है. दुःख में भर जब ये बात मैंने अपने मित्र से साझा की तो उनका जो जवाब मिला, उससे मेरी शिकायत कुछ कम जरुर हुई.

मित्र ने कहा कि 'इसका दूसरा पक्ष देखो, इरफ़ान को बनाया भी तो भगवान ने ही था न! और हमारे पास भेजा भी.'

तो मैं इस बात का शुक्रिया अदा जरुर करना चाहूंगी कि ईश्वर ने हमें इरफ़ान खान से मिलवाया और अच्छे इंसानों की पहचान कराई. अब शायद उन्हें उनकी मां से मिलाने ले गए होंगे. आप जहां भी हैं इरफ़ान वहां जमकर रौनकें होंगीं. खुश रहिये. आपको भावभीनी विदाई और खूब सारा स्नेह, शुक्रिया कि आप इस दुनिया में आये.

ये भी पढ़ें -

Irrfan Khan Death news: एक अफवाह जो काश अफवाह ही रहती...

Four More Shots Please 2 review: ये मिक्स्चर है वीरे दी वेडिंग, आयशा जैसी फ़िल्मों का

Kanika Kapoor के लिए कोरोना वायरस से ज्यादा भारी पड़ने वाला है अगला इलाज!

Irrfan Khan Death News, Irrfan Khan Cancer, Bollywood

लेखक

प्रीति 'अज्ञात' प्रीति 'अज्ञात' @pjahd

लेखक ब्लॉगर और 'मध्यांतर' की ऑथर हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय