होम -> टेक्नोलॉजी

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 17 अक्टूबर, 2016 06:42 PM
श्रुति दीक्षित
श्रुति दीक्षित
  @shruti.dixit.31
  • Total Shares

भारत में कोई भी चीज हो उसका भरपूर इस्तेमाल करने की प्रथा है. चाहें टूथपेस्ट की ट्यूब को पूरी तरह से निचोड़ कर उसका इस्तेमाल करना हो या फटे हुए कपड़ों का पोछा बनाना भारत में कुछ भी वेस्ट नहीं किया जाता है, और उसपर अगर कोई चीज फ्री मिल गई हो तब तो सोने पर सुहागा. अब वाईफाई सर्विस को ही ले लीजिए स्टेशन पर अगर वाईफाई लगा है तो उसका इस्तेमाल करने के लिए लोग प्लेटफॉर्म टिकट लिए बिना घंटों स्टेशन पर बिता देते हैं. पर स्टेशन पर करते क्या हैं?

हाल ही में आई एक खबर के मुताबिक पटना स्टेशन पर लोग फ्री वाईफाई से सबसे ज्यादा पोर्न सर्च करते हैं. मजे की बात ते ये है कि पटना में पिछले महीने ही वाईफाई दिया गया है और भारत के उन सभी 23 वाईफाई स्टेशनों से ज्यादा लोग पटना में पोर्न सर्च करते हैं. मान लेते हैं कि स्पीड पटना में ज्यादा होगी. दो साल पहले जब फ्री वाईफाई पटना शहर में पहली बार आया था तो लोगों ने उसका इस्तेमाल ज्यादातर फिल्में डाउनलोड करने के लिए किया था. उफ्फ कितना समय है लोगों के पास.

अब तो आप समझ गए होंगे कि क्यों अरविंद केजरीवाल दिल्ली चुनाव से पहले राज्य में मुफ्त वाईफाई देने का वादा करते हैं. पिछले कुछ अरसे से हर राज्य में कोई न कोई राजनीतिक पार्टी ऐसा वादा कर रही है. शायद उन्‍हें बेहतर पता है कि लोगों में इसकी खूब डिमांड है. शायद वे यह भी जानते हैं कि ये डिमांड क्यों है.

ये भी पढ़ें- ये पांच चीजें जो आपके फोन के लिए हो सकती हैं फायदेमंद

क्या कहते हैं आंकड़े...

गूगल के डेटा के अनुसार अभी तक जितने भी स्टेशन पर वाईफाई सर्विस लगी हैं उनमें से टियर 2 शहरों में सबसे ज्यादा लोग वाईफाई का इस्तेमाल कर रहे हैं. डेटा के इस्तेमाल के मामले में भुवनेश्वर ने मुंबई सेंट्रल को लॉन्च होने के एक दिन के अंदर ही पीछे छोड़ दिया. वाह! अब मुंबई वालों के पास समय कहां है वाईफाई का इस्तेमाल करने का. रिपोर्ट के अनुसार कुछ ऐसा ही पटना, जयपुर और विशाखापट्टनम जैसे शहरों का हाल है. एक और बात, लोग 3जी पैक के मुकाबले 15 गुना ज्यादा डेटा इस्तेमाल करते हैं. इनका इस्तेमाल क्या होता है इसका सबसे अच्छा जवाब है मनोरंजन के लिए. जी हां, गूगल के द्वारा स्टेशन पर लगाए गए सभी वाईफाई हॉट स्पॉट्स का इस्तेमाल मनोरंजन के लिए किया जा रहा है.

एक देश ऐसा भी जहां होता है फ्री इंटरनेट का सही इस्तेमाल...

यूरोप के एक छोटे से देश एस्टोनिया को दुनिया उसकी फ्री इंटरनेट पॉलिसी के लिए जानती है. एस्टोनिया दुनिया का दूसरा सबसे ज्यादा इंटरनेट पेनेट्रेशन वाला देश है. पूरा देश ही फ्री वाईफाई जोन है. अभी भी अगर आप इस देश को ना पहचान पाएं हों तो बता दूं कि ये वही देश है जहां पर स्काइप बनाया गया है. जहां अभी भी कई देश ऑनलाइन वोटिंग लागू की जाए या नहीं इसपर बहस कर रहे हैं वहीं, एस्टोनिया में ये 2005 से लागू है. अब बताइए, भारत में अगर ऐसा हुआ तो सबसे पहले नेटवर्क हैक किया जाएगा और अपना नेता लाया जाएगा.

internet_650_101716061639.jpg
 सांकेतिक फोटो

एस्टोनिया में फ्री वाईफाई है और लोग इस कदर इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं कि वहां टैक्स रिटर्न फाइल करना हो या फिर इलेक्शन में वोटिंग करनी हो, हर काम ऑनलाइन होता है. इतना ही नहीं वहां तो स्कूल के बच्चों को पहली कक्षा से ही प्रोग्रामिंग सिखाई जाती है. कुछ जरूरी चीजें जो बाद में उन्हें अच्छा कम्प्यूटर और इंटरनेट प्रोग्रामर बनने के काम में आएंगी.

अगर भारतियों को ऐसी सर्विस मिल गई तो जरा सोचिए नजारा क्या हो सकता है. इलेक्शन में हैकिंग से लेकर स्कूलों में वाईफाई से फिल्में डाउनलोड करना और सोशल मीडिया पर पूरे समय एक्टिव रहना. क्या हालत बनेगी जनाब?

कुछ स्टेशन हैं काम के...

सिर्फ बुराई ही नहीं है मालिक, भुवनेश्वर और पुणे दो ऐसे स्टेशन भी हैं जहां फ्री वाईफाई का कुछ अच्छा इस्तेमाल होता है. आंकड़े कहते हैं कि इन स्टेशन पर परीक्षा के बारे में, रिजल्ट के बारे में, सॉफ्टवेयर डाउलोडिंग और फोन अपग्रेडिंग जैसी चीजें सर्च की जाती हैं और कुछ अच्छा इस्तेमाल किया जाता है.

ये भी पढ़ें- बंसल जी, भले कुछ भी कहिए कुछ चूरण तो वाकई काम के हैं

अगर देखा जाए तो कोई भी सर्विस अगर भारतीयों को मिलती है तो उसका इस्तेमाल अच्छा तो होता है साथ ही बुरा भी हो जाता है. कई ऐसे देश, शहर, गांव और कस्बे हैं जो मिसाल बन सकते हैं, लेकिन सभी शिकायत करने में इतने व्यस्त हैं कि उनपर ध्यान नहीं देते. इंटरनेट की स्पीड, फ्री इंटरनेट सिम और फ्री वाईफाई जोन लेने के लिए भारत में सब तैयार रहते हैं, लेकिन उसका इस्तेमाल ठीक करने की भी जरूरत है ना. स्पीड को लेकर सब रोते हैं, लेकिन स्पीड की जरूरत किस लिए है? सवाल ये उठता है कि अगर एस्टोनिया की तरह भारत को भी पूरी तरह से इंटरनेट जोन बना दिया जाए तो क्या हम उसे ठीक रख पाएंगे या टूथपेस्ट की ट्यूब ही बना देंगे?

Wifi, Internet In India, Google News

लेखक

श्रुति दीक्षित श्रुति दीक्षित @shruti.dixit.31

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय