होम -> टेक्नोलॉजी

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 11 सितम्बर, 2019 04:50 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujmaurya87
  • Total Shares

काफी दिनों से लोगों को Apple की iPhone 11 सीरीज का इंतजार था. आखिरकार 10 सितंबर को एप्पल ने लोगों का ये इंतजार खत्म करते हुए इस iPhone 11, iPhone 11 Pro और iPhone 11 Pro Max मोबाइल लॉन्च कर दिए हैं. ये मोबाइल तो एक से बढ़कर एक फीचर लाए ही हैं, जो लोगों को एक अलग ही लेवल का एक्सपीरियंस देंगे, लेकिन इसी के साथ एप्पल ने टीवी सर्विस Apple TV+ की भी घोषणा कर दी है. जहां एक ओर लोग इस नई सुविधा के बारे में जानकर फूले नहीं समा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर Netflix जैसी कंपनियां की सांसें फूल रही हैं, जिन्हें एप्पल टीवी से तगड़ी टक्कर मिलने वाली है. वैसे अगर बात सिर्फ भारत की करें तो नेटफ्लिक्स (Netflix) के पास अभी भी ये एडवांटेज है कि Apple TV+ सिर्फ आईफोन वालों के लिए है, एंड्रॉइड और विंडोज फोन के लिए नहीं है.

एप्पल टीवी प्लस, आईफोन 11, नेटफ्लिक्स00000

Apple TV+ लॉन्च से पहले ही नेटफ्लिक्स के शेयर गिरे

इधर Apple ने Apple TV+ लॉन्च करने की घोषणा भर की और उधर नेटफ्लिक्स को तगड़ा झटका लगा. ये सेवा 1 नवंबर से 100 देशों में एक साथ शुरू होगी. आपको बता दें कि नेटफ्लिक्स और डिज्नी फिलहाल इसी तरह की सुविधा दे रहे हैं, लेकिन एप्पल ने भी अब अपनी कमाई का दायरा बढ़ाने के लिए इस सर्विस में पैर डाल दिए हैं. Apple TV+ लॉन्च होने की घोषणा के बाद नेटफ्लिक्स के शेयर लगभग 3 फीसदी और डिज्नी के शेयर करीब 2 फीसदी गिर गए.

नेटफ्लिक्स-डिज्नी से सस्ता मिल रहा है Apple TV+

Apple TV+ की घोषणा के बाद नेटफ्लिक्स और डिज्नी के शेयर गिरने की सबसे बड़ी वजह कीमतें हैं. अगर दुनिया के संदर्भ में देखें तो फिलहाल नेटफ्लिक्स का सबसे लोकप्रिय प्लान 12.99 डॉलर प्रति माह और डिज्नी का प्लान 6.99 डॉलर प्रति माह में मिलता है. वहीं दूसरी ओर Apple TV+ ने अपनी सेवा को 4.99 डॉलर प्रति माह में देने की घोषणा कर के सबको हैरान कर दिया है. इतना ही नहीं, ये तो दुनिया के संदर्भ में कीमतें हैं. भारत के संदर्भ में बात करें तो Apple TV+ की सुविधा महज 99 रुपए प्रति माह में मिलेगी. वहीं दूसरी ओर, भारत में भी नेफ्लिक्स की मोबाइल टीवी सेवा के लिए 199 रुपए चुकाने होते हैं.

नेटफ्लिक्स का भारतीय बाजार हिलेगा, लेकिन मामूली

भले ही Apple TV+ की लॉन्चिंग की घोषणा के बाद नेटफ्लिक्स के शेयरों में गिरावट देखी गई है, लेकिन इसके भारतीय बाजार पर बहुत बड़ा असर नहीं पड़ेगा. इसकी खास वजह ये है कि यहां आईफोन के सब्सक्राइबर्स ही काफी कम हैं. पूरे देश में करीब 90 फीसदी लोग एंड्रॉइड फोन इस्तमाल करते हैं. वहीं दूसरी ओर आईफोन यूजर्स सिर्फ करीब 3 फीसदी हैं. एप्पल का बड़ा फोकस दरअसल उसके अपने यूजर्स बढ़ाना है. एप्पल डिवाइस भी दे रहा है और सर्विस भी. ऐसे में बहुत से लोग ऐसे होंगे जो एप्पल टीवी+ के प्रीमियम कंटेंट की वजह से एप्पल से जुड़ेंगे. यानी एप्पल ने एक तीर से दो निशाने साधे हैं.

एप्पल टीवी प्लस, आईफोन 11, नेटफ्लिक्सभारत में करीब 90 फीसदी लोग एंड्रॉइड फोन इस्तमाल करते हैं, सिर्फ 2.79 फीसदी ही आईफोन के ग्राहक हैं.

पहले से ही भारत में नेटफ्लिक्स को मिल रही है तगड़ी टक्कर

सितंबर 2016 में जियो के आने के बाद पहले ही इंटरनेट को लेकर एक क्रांति हो गई है. जियो टीवी सारे यूजर्स को मुफ्त मिल रहा है. हां ये सही है कि नेटफ्लिक्स जैसा ओरिजनल कंटेंट जियो टीवी के पास नहीं है. लेकिन उसके लिए हॉट स्टार जैसे प्लेयर भी मार्केट हैं. इतना ही नहीं, अमेजन प्राइम को कैसे भूल सकते हैं, उसने भी नेटफ्लिक्स को तगड़ी टक्कर दी है. आईएचएस मार्किट की रिपोर्ट के अनुसार नेटफ्लिक्स के भारत में करीब 12 लाख यूजर्स हैं. वहीं अमेजन प्राइम के पास इससे करीब दोगुने 25 लाख यूजर्स हैं. वहीं हॉटस्टार (डिज्नी) के भारत में करीब 30 लाख यूजर्स हैं.

एप्पल टीवी प्लस, आईफोन 11, नेटफ्लिक्सनेटफ्लिक्स के भारत में करीब 12 लाख यूजर्स हैं. वहीं अमेजन प्राइम के 25 लाख और हॉटस्टार (डिज्नी) के करीब 30 लाख यूजर्स हैं.

मोबाइल टीवी ही है भविष्य

एप्पल ने अब ये भाप लिया है कि भविष्य मोबाइल टीवी का है. यही वजह है कि एप्पल ने आईफोन-11 में शानदार फीचर्स वाला कैमरा भी दिया है और मोबाइल टीवी के भविष्य को भापते हुए एप्पल टीवी + लॉन्च कर दिया है. लोग अब अपने हर काम मोबाइल से करने लगे हैं. सबसे अधिक तो लोग अपने मोबाइल पर इंटरनेट चलाते हैं और वीडियोज या वेब सीरीज और फिल्में देखते हैं. कुछ समय पहले तक फिल्में सिर्फ सिनेमाघर और टीवी तक सीमित थीं. सीरीज भी सिर्फ टीवी पर आती थीं, लेकिन पिछले कुछ सालों में नेटफ्लिक्स, अमेजन प्राइम, हॉट स्टार, ज़ी, ऑल्ट बालाजी जैसे एंटरटेनिंग ऐप आ गए हैं, जो फिल्में और वेब सीरीज ऑफर करते हैं. यहां तक कि यूट्यूब भी अब पेड सर्विसेस या यूं कहें कि ओरिजल कंटेंट ऑफर करने लगा है. यानी ये तो तय है कि मोबाइल टीवी ही भविष्य है, लेकिन इंटरनेट स्पीड का क्या?

5G तकनीक से संवरेगा मोबाइल टीवी का भविष्य

भले ही आईफोन 11 5जी को सपोर्ट नहीं करता हो, लेकिन मोबाइल टीवी का भविष्य 5जी टेक्नोलॉजी ही है. मौजूदा समय में 4जी तक बाजार में आ चुका है, लेकिन अभी भी इंटरनेट इतना अच्छा नहीं है कि हर जगह अच्छी कनेक्टिविटी हो. खासकर अगर आप कहीं ट्रैवल कर रहे हों तब तो इंटरनेट बहुत ही परेशान करता है. इसी के साथ हर गुजरते दिन के साथ इंटरनेट का इस्तेमाल और कंटेंट की खपत बढ़ती जा रही है. वहीं इस तरह के एंटरटेनमेंट वाले ऐप भी खूब डेटा इस्तेमाल करते हैं. मोबाइल टीवी का भविष्य संवारने के लिए भविष्य में 5जी तकनीक भी जरूर आएगी.

नेटफ्लिक्स और डिज्नी का बिजनेस भारत में तो कुछ खास प्रभावित नहीं होगा, लेकिन दुनिया के संदर्भ में इसके बिजनेस पर बड़ा असर पड़ना तय है. यही वजह है कि नेटफ्लिक्स और डिज्नी के शेयर तक गिर रहे हैं. एप्पल के इवेंट का लोगों को इंतजार आईफोन की नई सीरीज आईफोन 11 के लिए था, लेकिन कंपनी ने तो खुश होने की दोहरी वजह दे दी. हालांकि नेटफ्लिक्स और डिज्नी जैसी कंपनियों के लिए थोड़ी मुसीबत जरूर हो गई है, लेकिन सिर्फ भारत के बाहर, ना कि भारत में.

ये भी पढ़ें-

गाड़ी चढ़ा दो पर रोको मत, भारत से भी सख्त हैं इन देशों के ट्रैफिक रूल्स

लैंडर विक्रम की तस्‍वीर को तीसरा दिन, और गहरा होता राज

यदि ट्रैफिक पुलिस रोके तो जानिए अपने इन अधिकारों को

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय