charcha me | 

होम -> स्पोर्ट्स

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 02 नवम्बर, 2021 02:21 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

पहले पाकिस्तान फिर न्यूजीलैंड, भारत यूएई में आयोजित T20 वर्ल्ड कप के दोनों शुरुआती मैच हार चुका है. इसी के साथ उसके सेमीफाइनल में पहुंचने की संभावना लगभग खत्म हो गई है. टी20 वर्ल्ड कप शुरू होने से पहले जैसा क्रिकेट एक्सपर्ट्स का ओपिनियन था, कहा यही जा रहा था कि जिस टीम के साथ कप्तान विराट कोहली यूएई पहुंचे है वो कप को भारत ले जाने में सक्षम हैं. मगर अब जबकि शुरुआती दो मैचों में भारत हार का सामना कर चुका है, क्रिकेट प्रेमियों और एक्सपर्ट्स दोनों की पूरी मनोदशा बदल चुकी है. नकारात्मक बातों का दौर भी शुरू हो गया है. तमाम तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं- कप्तान कोहली के फैसलों से लेकर टीम सिलेक्शन तक, हर चीज को कोसा जा रहा है.

बताते चलें कि टूर्नामेंट शुरू होने से पहले टीम इंडिया को विश्व कप का प्रबल दावेदार माना जा रहा था. लेकिन अब टीम इंडिया शुरुआती दोनों ही मैच गंवाकर सेमीफाइनल की रेस से बाहर होने की कगार पर है. क्रिकेट प्रेमी इसी बात को दोहरा रहे हैं कि अब कोई चमत्कार ही भारत की राहें आसान करेगा. न्यूजीलैंड से मिली शिकस्त के बाद अब तमाम भारतीय क्रिकेट प्रेमियों की नजरें अफगानिस्तान पर हैं. यदि अफगानिस्तान न्यूजीलैंड को हरा लेता है तो भारत की राहें आसान होंगी.

Team India, T20, World Cup, Cricket, India, New Zealand, PakistanT20 वर्ल्ड कप के अपने शुरुआती दो मैचों में टीम इंडिया द्वारा निराशाजनक प्रदर्शन किया गया है

गौरतलब है कि भारत ने अपने दोनों मैच बड़े अंतर से हारे हैं, ऐसे में अगर उसे सेमीफाइनल में पहुंचना है तो उसे आने वाले तीनों मैच बड़े अंतर से जीतने होंगे. भारत का अगला मुकाबला अब अफगानिस्तान फिर नामीबिया और उसके बाद स्कॉटलैंड से है. यदि टीम इंडिया तीनों मैचों को बड़े अंतर से जीतने में कामयाब होती है और न्यूजीलैंड अपना एक मैच हार जाए तो ही भारत के लिए कोई उम्मीद बंधेगी. लेकिन, ऐसे समीकरण की आस में बैठे रहना भारत जैसी टीम के लिए शर्मनाक ही है. तो क्या वाकई भारतीय क्रिकेट टीम का स्तर इतने निम्न स्तर पर चला गया है, जहां सिर्फ निराशा ही निराशा है. तो जवाब है- नहीं.  

इस टीम इंडिया के पक्ष में वो सारी बातें हैं, जिन्हें देखकर इसके फैंस सुकून महसूस कर सकते हैं. साथ ही टी20 विश्वकप का अनुभव भुला सकते हैं...

1- ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज जीतने वाली टीम इंडिया अब भी श्रेष्ठ है. दो टी20 मैच में हार कोई पैमाना नहीं है.

2- यूएई में जिस समय ये मैच खेले जा रहे हैं, वहां टॉस की जीत-हार से मैच का नतीजा लगभग तय हो जा रहा है. पहली पारी में पिच गेंदबाजों को सपोर्ट कर रही है, जबकि दूसरी पारी में ओस की वजह से गेंदबाजी मुश्किल हो जा रही है. संयोग से दोनों मैच में विराट कोहली टॉस हार गए.

3- टीम इंडिया आईसीसी रैंकिंग में सम्मानजनक स्थान पर है. टेस्ट में न्यूजीलैंड के बाद दूसरे नंबर पर. वनडे में चौथे और टी20 में इंग्लैंड, पाकिस्तान के बाद तीसरे नंबर पर है.

4- टीम इंडिया के पास टैलेंट की भरमार है, बस सही कॉम्बिनेशन हिट करने की जरूरत है.

5- टीम इंडिया अभी संक्रमण काल से गुजर रही है, जहां कोच से लेकर कप्तान तक में बदलाव होने जा रहा है. ऐसे में परफॉर्मेंस में अस्थिरता को अल्पकालिक माना जाना चाहिए.

6- लंबे अरसे से लगातार दौरे करती आ रही टीम इंडिया बायो-बबल को यातना की तरह महसूस करने लगे हैं. उम्मीद है, टी20 विश्वकप टूर्नामेंट के बाद उन्हें थोड़ा आराम करने को मिलेगा और वे नई ऊर्जा के साथ लौटेंगे.

उपरोक्त बातें इस बात की तस्दीख कर देती हैं कि भले ही आज अपनी थकी हुई परफॉरमेंस से टीम इंडिया ने तमाम भारतीय क्रिकेट प्रेमियों का दिल तोड़ दिया हो लेकिन अब भी टीम में ऐसा बहुत कुछ है, जिसके जरिये नए कीर्तिमान स्थापित किये जा सकते हैं और उसे संभव किया जा सकता है जिसकी कामना देश का हर क्रिकेट प्रेमी कर रहा है.

ये भी पढ़ें -

T20 World CUP: टीम इंडिया के फैंस अब कुछ ज्यादा ही 'उम्मीद' पाल रहे हैं!

बाहुबली के बाद RRR पर भी राजमौली ने पानी की तरह बहाया है पैसा, 40 सेकेंड का ये वीडियो सबूत है!

ममता बनर्जी का 'गोवा प्लान' तो यूपी में फेल ही हो जाएगा

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय