charcha me| 

होम -> ह्यूमर

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 01 नवम्बर, 2021 08:44 PM
देवेश त्रिपाठी
देवेश त्रिपाठी
  @devesh.r.tripathi
  • Total Shares

भारत जैसे देश में जहां क्रिकेट एक धर्म की तरह पूजा जाता हो, वहां टी20 वर्ल्ड कप (T20 World CUP) के पहले ही मैच में पाकिस्तान जैसे दुश्मन देश के हाथों मिली 10 विकेट की करारी हार के सदमे को टीम इंडिया के फैंस ने किसी तरह पचा लिया था. लोगों ने विराट कोहली से लेकर मोहम्मद शमी तक को गरिया कर गुस्सा जैसे-तैसे शांत किया था. लेकिन, टी20 वर्ल्ड कप में भारत और न्यूजीलैंड के बीच हुए मैच के नतीजे ने लोगों को उम्मीदों से भर दिया है. गली-नुक्कड़ से लेकर सोशल मीडिया तक लोगों ने टी20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के साथ ही ग्रुप 'बी' की अन्य टीमों के बचे हुए मैचों की इतनी कैलकुलेशन कर ली है कि हर गुणा-गणित से भारत का सेमीफाइनल में पहुंचना तय माना जा रहा है. मतलब, 'सोचोगे नहीं, तो कुछ कर भी नहीं पाओगे', जैसे सैकड़ों प्रेरक वाक्यों के जरिये भारत में लोगों को बताया जा चुका है कि आशावादी होना जिंदगी में सफलता का सबसे बड़ा मूल मंत्र है. लेकिन, इस ऑपटिमिस्टिक सोच को जब लॉजिक के धरातल पर लाते हैं, तो समझ आता है कि टीम इंडिया के फैंस अब कुछ ज्यादा ही 'उम्मीद' पाल रहे हैं.

चमत्कारिक है जीत की फिल्मी स्क्रिप्ट

भारत और न्यूजीलैंड के मैच के बाद ये तय है कि अब कोई करिश्मा ही टीम इंडिया को सेमीफाइनल में पहुंचा सकता है. और, लोगों ने इस करिश्मे को पूरा करने की कसम खा ली है. लॉजिक को किनारे रखते हुए हर एंगल पर पूरे सेनेरियो की जांच कर ली गई है. किसी फिल्म की स्क्रिप्ट की तरह पूरी कहानी लिख दी गई है. टीम इंडिया के फैंस से लेकर सटोरियों तक की स्क्रिप्ट में एक फुलस्टॉप का भी अंतर नजर नहीं आ रहा है. उम्मीद जताई जा रही है कि टीम इंडिया अपने अगले तीनों मैच जीत जाएगी, जो अफगानिस्तान, नामीबिया और स्कॉटलैंड से होने हैं. इतना ही नहीं, अचानक से लोगों की अफगानिस्तान से भी उम्मीदें बढ़ गई हैं. मतलब, फैंस का मानना है कि अफगानिस्तान समेत अन्य टीमें भारत से बुरी तरह हारेंगी. लेकिन, अफगानिस्तान अपने से हद दर्जा मजबूत न्यूजीलैंड को आसान से पटखनी दे देगी. जिसके बाद प्वाइंट्स टेबल में उथल-पुथल मच जाएगी और टीम इंडिया रन रेट के सहारे आराम से सेमीफाइनल में प्रवेश कर जाएगी.

Team India T20 World Cupये स्क्रिप्ट जरूर आर्यन खान के किसी दोस्त ने फैलाई होगी.

उम्मीद आखिर क्यों न हो?

मतलब, क्रिकेट के किसी कम जानकार शख्स से भी अगर इस स्क्रिप्ट के बारे में एक बार डिस्कशन कर लिया जाए, तो वो भी बता देगा कि भईया...आप जो ख्वाब देख रहे हैं, उसका पूरा होना नामुमकिन सा लगता है. लेकिन, जब उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी सीएम योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा को हराकर अपनी सरकार बनाने का ख्वाब देख सकती है. तो, टीम इंडिया का सेमीफाइनल में पहुंचना कौन सी बड़ी बात है. होने को ये भी हो सकता है कि शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान वाली रेव पार्टी से निकले किसी शख्स ने ये स्क्रिप्ट लोगों के बीच फैला दी हो. क्योंकि, इतनी हाई लेवल और हाई क्वालिटी की सोच सस्ता-मद्दा नशा करने वाले आदमी के बस की बात नहीं है.

वैसे, भी टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने न्यूजीलैंड के साथ मैच से पहले टॉस के दौरान कहा था कि उन्होंने पिछली गलतियों से सबक लिया है. मैच के नतीजे ने बताया भी कि उन्होंने सबक लिया है और अपने खेल में इम्प्रूवमेंट भी किया है. पाकिस्तान के खिलाफ 10 विकेट से हारने के बाद टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड के खिलाफ कड़ी मेहनत करते हुए केवल 8 विकेट से हार का मुंह देखा है. वैसे, सच्चाई तो यही है कि लगातार दूसरी हार के बाद से तय माना जा रहा है कि दिवाली का फेस्टिव सीजन खत्म होने के साथ ही टीम इंडिया दुबई से अपना बोरिया-बिस्तर बांधकर वापस भारत आ जाएगी. लेकिन, इसके बाद आगे के मैचों में उसके जीतने की स्क्रिप्ट भी तैयार है.

वैसे, अगर हर मैच के साथ हार का एवरेज 2 विकेट कम होने के हिसाब पर नजर डालें, 8 नवंबर को नामीबिया के साथ होने वाले आखिरी टी20 मैच में भारत केवल 2 विकेट से ही हारेगा. और, इसके बाद के मैचों में जीत का सिलसिला शुरू हो जाएगा. वो अलग बात है कि जिन मैचों में टीम इंडिया को जीत मिलेगी, वो टी20 वर्ल्ड कप के नहीं होंगे. टीम इंडिया के बिजी शेड्यूल को देखते हुए कोई भी शख्स कह देगा कि टीम इंडिया को अब आराम करना चाहिए. आखिर कुछ ही समय में फिर से आईपीएल भी तो खेलना है.

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने भी कहा है कि छह महीने हो गए है, लेकिन घर नहीं जा पाए हैं. जसप्रीत बुमराह टीम इंडिया के युवा गेंदबाज हैं, तो उन्हें बालक की कैटेगरी में डाल कर उनकी बात पर विचार किया जाए, तो सामने आता है कि अंतरराष्ट्रीय दौरे के बीच आईपीएल मैच खेलने के चक्कर में टीम इंडिया लंबे समय से बायो बबल में है. जिसकी वजह से खिलाड़ियों पर दबाव है. लेकिन, क्या आईसीसी के टूर्नामेंट में मानसिक दबाव जैसी बात को तवज्जो दी जाएगी? वो भी तब, जब आप आईपीएल में खुलकर खेल रहे हों.

बीसीसीआई के सेटिंग पर होगा चमत्कार

खैर, भारत चमत्कारों का देश है, तो हो सकता है कि कोई चमत्कार हो जाए और टीम इंडिया सेमीफाइनल में पहुंच जाए. और, अगर ऐसा हो गया, तो स्क्रिप्ट के अनुसार बीसीसीआई ने सब कुछ पहले से ही फिक्स कर रखा है. सेमीफाइनल में पाकिस्तान की टीम ऑस्ट्रेलिया को और भारत की टीम इंग्लैंड को हरा देंगे. और, इसके बाद फाइनल में टीम इंडिया के खिलाड़ी शानदार प्रदर्शन करते हुए पाकिस्तान को धो देंगे और पहली हार का बदला लेंगे. बोले तो हिसाब खल्लास. वो अलग बात है कि विराट कोहली मान रहे हैं कि हम बल्ले और गेंद के साथ साहस नहीं दिखा सके. खैर, वैसे भी विराट कोहली ने टी20 वर्ल्ड कप के बाद कप्तानी छोड़ने की घोषणा कर ही रखी है, तो इस बार टी20 वर्ल्ड कप से बाहर होने का इल्जाम टीम इंडिया के साथ मेंटर के रूप में जुड़े महेंद्र सिंह धोनी और बीसीसीआई के अधिकारी व केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बाद जय शाह पर किसी न किसी तरीके से थोप ही दिया जाएगा. वैसे, दिवाली का त्योहार है, तो टी20 वर्ल्ड कप में किसी भी तरह के उम्मीद भरे चमत्कार के चक्कर को छोड़कर आराम से फेस्टिव सीजन को एन्ज्वॉय कीजिए. हैप्पी दिवाली इन एडवांस.

लेखक

देवेश त्रिपाठी देवेश त्रिपाठी @devesh.r.tripathi

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं. राजनीतिक और समसामयिक मुद्दों पर लिखने का शौक है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय