charcha me| 

होम -> स्पोर्ट्स

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 07 जनवरी, 2019 06:26 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujmaurya87
  • Total Shares

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हो रही टेस्ट सीरीज को 2-1 से जीतने के साथ ही भारत ने इतिहास रच दिया है. 1947 से लगातार ऑस्ट्रेलिया का दौरा कर रही भारतीय टीम वहां कोई भी मैच नहीं जीत पाती थी, लेकिन इस बार विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया ने जीत का ताज अपने सिर सजा लिया है. मैच में सबसे अच्छा प्रदर्शन किया चेतेश्वर पुजारा ने, जिसके लिए उनको मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज का खिताब दिया गया.

भले ही इस टेस्ट मैच में शानदार खेल के लिए चेतेश्वर पुजारा की वाहवाही हो रही है, लेकिन इस सीरीज के दौरान कुछ ऐसे भी खिलाड़ी रहे जिन्होंने अपने अच्छे खेल के लिए नहीं, बल्कि अन्य वजहों से सुर्खियां बटोरीं. किसी के बर्ताव पर बहस छिड़ी तो किसी की ईमानदारी पर उसकी वाहवाही हुई. इनमें विराट कोहली, ऋषभ पंत और लोकेश राहुल हैं. चलिए एक नजर डालते हैं इन खिलाड़ियों पर और जानते हैं किस वजह से ये चर्चा में रहे.

भारत-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज, क्रिकेट, विराट कोहली, ऋषभ पंत, लोकेश राहुलभारत-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज में ये तीनों खिलाड़ी सुर्खियों में छाए रहे.

विराट कोहली:गुस्‍से के कारण

इस लिस्ट में पहला नाम भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली का है. पर्थ में हो रहे दूसरे टेस्ट मैच के दौरान मैदान पर कप्तान कोहली का गुस्सा दिखाई दिया. वह ऑस्ट्रेलिया के कप्तान टिम पेन के साथ उलझते दिखे. उनके बर्ताव पर बहस तब शुरू हुई, जब नसीरुद्दीन शाह ने विराट कोहली को लेकर एक फेसबुक पोस्ट की और लिखा- 'विराट कोहली सिर्फ दुनिया के सबसे बेहतर बल्लेबाज ही नहीं हैं, बल्कि सबसे बुरा व्यवहार करने वाले खिलाड़ी भी हैं. उनके गुस्से और खराब व्यवहार के आगे उनकी शानदार बल्लेबाजी कहीं पीछे छूट गई है. और मेरा देश छोड़कर जाने का कोई इरादा नहीं है.'

कोहली के जिस आक्रामक रवैया को नसीरुद्दीन शाह ने बुरा बर्ताव कहा, उसे ही बहुत से खिलाड़ियों ने सराहा भी. खुद ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने कहा 'कोहली का ये आक्रामक रवैया ही उनकी बल्लेबाजी में भी दिखता है और ये उनके खेल का एक हिस्सा बन चुका है. ऐसे में उन्हें गुस्सा नहीं करने के लिए नहीं कहना चाहिए.' हालांकि, ऑस्ट्रेलिया के ही पूर्व कप्तान एलेन बॉर्डर और पूर्व बल्लेबाज माइकल हस्सी को उनका व्यवहार पसंद नहीं आया. कोहली के बर्ताव पर क्रिकेट वर्ल्ड बंटा हुआ नजर आया, जिसके चलते कोहली सुर्खियों में छा गए. यहां आपको बताते चलें कि क्रिकेट के मैदान पर आक्रामक रहना ऑस्ट्रिलिया का पुराना हथकंडा है और कोहली कंगारुओं को उन्हीं की भाषा में जवाब दे रहे थे.

ऋषभ पंत: जुबानी जंग से

मेलबर्न में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए तीसरे टेस्ट मैच के दौरान टिम पेन और ऋषभ पंत के बीच मैदान पर ही नोकझोंक हो गई थी. टिम ने ऋषभ को चिढ़ाते हुए कहा था कि वह उनके (टिम के) बच्चों के बेबीसिटर बन सकते हैं, क्योंकि अब टीम में विकेटकीपर और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की एंट्री होने वाली है. इसके जवाब में पंत ने भी टिम पेन को टेंपरेरी कप्तान कहकर चिढ़ाया. मैदान का नजारा कुछ ऐसा लगा जैसे दो दुश्मन एक दूसरे से लड़ने के बहाने ढूंढ़ रहे हों, लेकिन उसके कुछ ही दिन बाद जो तस्वीर वायरल हुई, उसने ऋषभ पंत को चर्चा में ला दिया.

कुछ दिन बाद जब ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के घर आधिकारिक लंच पर दोनों टीमें पहुंचीं तो वहां टिम की पत्नी ने ऋषभ के साथ एक तस्वीर क्लिक की, जिसमें पंत ने टिम पेन के बच्चे को गोद में लिया था. टिम की पत्नी ने तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा- 'बेस्ट बेबीसिटर'. इस तस्वीर को आईसीसी ने भी शेयर किया और लिखा- 'चुनौती स्वीकार'. ये तस्वीर देखते ही देखते वायरल हो गई और हर कोई ऋषभ पंत की 'स्पोर्ट्समैन स्पिरिट' का कायल हो गया. इस तस्वीर ने साफ कर दिया कि मैदान पर भले ही दो खिलाड़ी एक दूसरे के खिलाफ खेलते हों, एक दूसरे से भिड़ते नजर आते हों, लेकिन मैदान के बाहर वह एक दोस्त की तरह मिलते हैं.

लोकेश राहुल: ईमानदारी के लिए

यूं तो हर कोई एक खिलाड़ी को उसके खेल के लिए ही पसंद करता है, लेकिन लोकेश राहुल को सिडनी में भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए चौथे टेस्ट मैच में उनकी ईमानदारी ने सुर्खियों में ला दिया. दरअसल, मैच के दौरान लोकेश राहुल ने कंगारू ओपनर मार्कस हैरिस का कैच लपकने के लिए शानदार डाइव लगाई. बॉल हाथ में आते ही पूरी टीम इंडिया खुशी से झूम उठी, कैच आउट की अपील तक होने लगी, अंपायर भी कुछ कंफ्यूज से दिखे और वह थर्ड अंपायर की मदद लेने की सोचने लगे, लेकिन तभी लोकेश राहुल ने अपनी ईमानदारी दिखाते हुए कह दिया कि ये कैच नहीं है.

एक पल के लिए टीम इंडिया निराश तो हुई, लेकिन अगले ही पल सभी ने राहुल की ईमानदारी की तारीफ की. यहां तक कि अंपायर भी लोकेश राहुल के लिए ताली बजाते हुए नजर आए और बोले- 'आउटस्टैंडिंग'. कमेंट्री बॉक्स में बैठे कमेंट्रेटर भी उनकी तारीफ किए बिना नहीं रह सके और बोल बैठे कि ये राहुल की शानदार स्पोर्ट्समैन स्पिरिट है. लोकेश राहुल का ये वीडियो इंटरनेट पर खूब वायरल हुआ. भले ही इस टेस्ट सीरीज में लोकेश राहुल अपनी बल्लेबाजी का लोहा नहीं मनवा सके, लेकिन उन्होंने अपनी ईमानदारी से सबके दिल जीत लिए.

ये भी पढ़ें-

पुजारा की कहानी: आखिर वो डांस क्यों नहीं कर पाते...

कुलदीप यादव से ऑस्‍ट्रेलिया के बल्‍लेबाज ही नहीं, भारतीय स‍िलेक्टर्स भी चकरघिन्नी हैं

लोकेश राहुल ने बल्लेबाजी से ना सही, लेकिन ईमानदारी से सबके दिल जीत लिए!

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय