charcha me| 

होम -> समाज

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 23 जून, 2022 06:29 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

मौत का एक दिन मुअय्यन है

नींद क्यों रात भर नहीं आती. 

मौत के फलसफे को बयां करती मिर्ज़ा ग़ालिब की ये पंक्तियां बेवजह नहीं हैं. व्यक्ति चाहे कोई भी हो. कितना भी रसूख क्यों न रखता हो. मौत, क्योंकि जिंदगी की तल्ख़ हकीकत है, इसलिए शायद ही उसे कोई टाल पाए. एक तरफ ग़ालिब के मशहूर शेर की पंक्तियां और ये बातें हैं. दूसरी तरफ पंजाबी म्यूजिक इंडस्ट्री की शान दिवंगत सिद्धू मूसेवाला थे. जिन्होंने मौत को 2 दिन टाल कर लिखे को चुनौती देनी तो चाही लेकिन बात फिर वही है मौत का एक दिन मुअय्यन है और मौत ने अपना काम कर दिया. सिद्धू की ज़िन्दगी छीन ली. दरअसल सिद्धू की हत्या के मास्टरमइंड प्रियव्रत फौजी ने पुलिस के साथ चली पूछताछ में कई अहम खुलासा किये हैं. जो बातें फौजी ने पुलिस को बताई हैं वो न केवल कई मायनों में चौंकाने वाली हैं. बल्कि इस बात की तस्दीख कर देती हैं कि अगर किसी को मौत आनी ही होती है तो फिर कोई कितने भी प्रयास क्यों न कर ले मौत को चकमा नहीं दिया जा सकता.

Sidhu Moosewala,  Priyavrat Fauji, Punjab, Singer, Politician, Murder, Delhi Police, Mafia, Deathसिद्धू मूसेवाला को मौत के घाट उतारने वाले प्रियव्रत फौजी ने पुलिस को जो बताया है वो चकित करने वाला है

सिद्धू मूसेवाला को गोलियों से छलनी करने वाले शूटर और अपने बुलेरो मॉड्यूल के लिए सुर्खियां बटोर रहे प्रियव्रत फौजी ने कहा है कि 27 मई को ही सिद्धू की हत्या हो जाती, मगर वह बच गया. घटना के मास्टरमइंड प्रियव्रत फौजी ने जो जानकारी पुलिस को दी है है यदि उसपर यकीन करें तो 27 मई को सिद्धू मूसेवाला अकेले गाड़ी में बैठकर निकले थे, जिसके बाद बोलेरो और कोरोला कार में बैठे शूटर सिद्धू के पीछे पड़ गए थे.

बताते चलें कि जिस समय शूटर्स ने सिद्धू की गाड़ी का पीछा करना शुरू किया सिद्धू मूसेवाला किसी केस के सिलसिले में कोर्ट के लिए निकले थे.पूछताछ में शूटर प्रियव्रत फौजी ने इस बात को भी स्वीकार किया कि सिद्धू मूसेवाला की गाड़ी गांव की सड़क पर चलने के बजाए मेन हाई-वे पर तेजी से चलने लगी और शूटर बहुत दूर तक सिद्धू की गाड़ी का पीछा नहीं कर पाए और प्लान फेल हो गया था.'

चूंकि सिद्धू मूसेवाला की हत्या न केवल सवालों के घेरे में है बल्कि इस मौत को लेकर अब भी गफलत की स्थिति बनी हुई है तमाम अलग अलग बिन्दु हैं जिनको ध्यान में रखकर जांच की जा रही है. इस बीच, पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि जिन हथियारों का इस्तेमाल सिद्धू मूसेवाला को मारने के लिए किया गया था क्या वो ड्रोन के जरिये पाकिस्तान के भारत आए या फिर उनको भारत में ही बनाया गया?

सिद्धू मूसेवाला की मौत मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने कहा है कि चाहे वो ग्रेनेड लांचर हों या फिर हैंड ग्रेनेड, इलेक्ट्रॉनिक डेटोनेटर और राइफल जैसे ये हथियार हैं ये भारत में नहीं बने हैं. वहीं स्पेशल सेल ने इस बात की तरफ भी इशारा किया है कि हथियार हाल ही में पाकिस्तान में पाए गए थे और यह संदेह है कि ये हथियार भी उसी खेप का हिस्सा हो सकते हैं.

गौरतलब है कि बीती 29 मई को पंजाब के मनसा जिले में अज्ञात हमलावरों ने गायक-राजनेता सिद्धू मूसेवाला की गोली मारकर हत्या कर दी थी. घटना का जो सबसे दिलचस्प पक्ष है वो ये कि सिद्धू की मौत तब हुई थी जब घटना से एक दिन पहले ही राज्य सरकार ने सिद्धू को मुहैया कराई गयी सिक्योरिटी को कम किया था. 

हत्या की वजह क्या है? ऐसा क्या हुआ जिसके चलते फौजी और उसके साथियों ने सिद्धू को मौत के घाट उतारा अभी इस मामले की जांच हो रही है लेकिन जिस तरह बहुत ही कम उम्र में सिद्धू ने दुनिया को अलविदा कहा फैंस अब भी सदमे में हैं. मांग यही हो रही है कि घटना की निष्पक्ष जांच हो और दोषियों को सख्त से सख्त सजा दी जाए. 

बहरहाल, जिस तरह सिद्धू की मौत मामले में एक के बाद एक नयी कड़ियां जुड़ रही हैं. इस बात की भी तस्दीख हो जाती है कि पंजाब में आज भी गैंग्स, कानून के ऊपर हावी हैं और दुनिया को अपना वर्चस्व दिखाने के लिए वो किसी भी सीमा पर जा सकते हैं.  

ये भी पढ़ें -

टूटे दिल वालों के बदन पर टैटू बनकर रहेंगे सिद्धू मूसेवाला!

रांची हिंसा में जान गंवाने वाले मुदस्सिर का 'कसूर' उसकी मां ने कह सुनाया है!

Amber Heard अपनी ही नहीं, कई महिलाओं की 'साजिश' का खामियाजा भुगत रही हैं!

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय