होम -> समाज

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 28 अप्रिल, 2017 05:33 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

जिंदगी में प्यार और रिश्तों की परिभाषा समय के साथ तेजी से बदलती है और नए रूप गढ़ती जाती है. बड़े लंबे तक कुछ निर्धारित मानदंडों पर रिश्तों को तय किया जाता था. लेकिन टेक्नोलॉजी के आने के साथ ही उन मापदंडों को प्रासंगिकता भी खत्म हो गई है. आज के समय में सोशल मीडिया ने न सिर्फ हमारी सामाजिक दुनिया का विस्तार किया है बल्कि रोमांटिक संबंधों के मूल सिद्धांतों को भी रीडीफाइन कर दिया है. हमेशा से ही सेक्स को पार्टनर से बेवफ़ाई का पैमाना माना जाता था.

हालांकि आज के समय में किसी और के साथ सेक्स करने को अक्सर एक गलती मानकर भूला दिया जाता है. ये अब रिश्ता खत्म करने के लिए पर्याप्त नहीं माना जाता. लेकिन समय के साथ अब बेवफाई की परिभाषा किसी और के साथ सेक्स से ऊपर उठ गई है और इस लिस्ट में कई चीजों का नाम आ गया है जिन्हें बेवफाई के रूप में देखा जाने लगा है.

सेक्स, महिलाएं, धोखासेक्स से आगे बढ़ गई बेवफाई की दास्तां

हम आपको 10 महिलाओं से की गई बातचीत के आधार पर बेवफाई के बारे उनकी परिभाषा को बताते हैं.

1-सोशल मीडिया पर किसी और को तवज्जो देना मेरे लिए रिश्ते खत्म करने का कारण होगा.

'कल मैं अपने ब्वॉयफ्रेंड से इसलिए गुस्सा हो गई क्योंकि उसने कहा कि वो टीवी पर दिखने वाली कोई एक्ट्रेस उसे पसंद है. इसलिए मुझे लगता है कि किसी और के साथ सोने की बात तो दूर की बात अगर मेरा पार्टनर सोशल मीडिया पर भी किसी और मुझसे ज्यादा भाव देता है तो मैं संबंध कर लूंगी! जो समय मुझे मिलना चाहिए वो अगर आप सोशल मीडिया पर भी किसी और के बारे में सोचते हुए बीता रहे हैं तो वो मेरे लिए चीटिंग की तरह है.'

2- 'अगर वो किसी और को प्यार भरे मैसेज भी करता है या बातें करता है तो मेरे लिए वो बेवफाई है...'

'अगर मेरा पार्टनर किसी और को प्यार भरे मैसेज भेजता है या फिर उससे प्यार की बातें करता है तो मैं उसे बेवफाई ही मानती हूं. वो दूसरों के बारे में सोच सकता है, आखिर ये मानव स्वभाव है. लेकिन अगर कभी भी वो अपने इस सॉफ्ट कॉर्नर को सच में करने की सोचता भी है तो मेरे लिए वो बेवफाई है. मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि असल में वो इसे करता है या नहीं.'

3- जब मेरा पार्टनर मेरे अलावा किसी और को ज्यादा महत्व देता है

किसी और को देखना या फिर ऑपोजिट जेंडर के आकर्षक दोस्त बनाने में पर्सनली मुझे तो कोई बुराई दिखाई नहीं देती. हद तो ये है कि अगर मेरा पार्टनर किसी को नुकसान ना पहुंचाने वाली फर्ल्टिंग को भी गलत नहीं मानती. हम सब ऐसा करते हैं. लेकिन इसके बारे में झूठ बोलना और ये अपेक्षा करना की आपका पार्टनर ऐसा ना करे ये बेईमानी और दोगलापन होता है. इन बातों के बारे में ईमानदार रहना ही सबसे बेहतर होता है. मेरे लिए बेवफाई तब होती है जब मेरा पार्टनर मेरे अलावा किसी और को मुझसे ज्यादा महत्व देने लगे. किसी और से सेक्स करना तो रिश्ते खत्म करने के लिए काफी है ही लेकिन भावनात्मक धोखाधड़ी भी रिश्ता खत्म करने का आधार है.'

सेक्स, महिलाएं, धोखाइमोशनल चीटिंग ज्यादा घातक होती हैं

4- किसी को खुद से अलग करना सबसे बुरी बेवफाई है

किसी को अपनी जिंदगी से बिल्कुल अलग-थलग रखना सबसे बुरी तरह की 'बेवफाई' है. ये ऐसा है जैसे कहने के लिए तो हम साथ हैं, लेकिन आप मेरे जीवन में होने वाली किसी भी चीज़ का हिस्सा नहीं हैं. चाहे वो बात कितनी भी बड़ी या छोटी क्यों ना हो. ये आपने पार्टनर को धोखा देने से भी बदतर है. क्योंकि इसका मतलब है कि आप मेरे जीवन का हिस्सा बनने के लायक नहीं हैं, लेकिन फिर भी मैं आपके साथ हूं क्योंकि आपको साथ रखना मेरी आदत है.'

5- किसी और के साथ कोई के साथ सोना तो रिश्ता खत्म करने के लिए काफी है ही टिंडर पर किसी के साथ सेक्सटिंग करना भी रिश्ता खत्म करने के लिए काफी है

टिंडर पर किसी भी कारण से रहना मेरे हिसाब से चीटिंग है. आखिर इमोशनल चीटिंग भी तो चीटिंग ही है.

'किसी और के साथ कोई रोमांटिक या यौन संपर्क रखना धोखा है. इसमें चुंबन भी शामिल होता है. लेकिन इसके साथ ही किसी और के साथ सेक्सटिंग करना भी धोखाधड़ी है. टिंडर पर अपना ईगो बूस्ट करने के अलावा किसी भी और कारण से होना चीटिंग है. इमोशनल चीटिंग भी चीटिंग ही होती है.'

6- किसी और के साथ सोना तो मैं फिर भी माफ कर सकती हूं लेकिन किसी और के साथ इमोशनल बॉन्डिंग. कभी नहीं

अगर मैं किसी के साथ कमिटेड हूं और मेरा पार्टनर किसी और के साथ एक बार सो जाता है तो इस सदमें से तो मैं फिर भी उबर जाऊंगी. एक बार तो इस गलती को अनदेखा भी किया जा सकता है. लेकिन अगर ये बार-बार होता है तो फिर स्पष्ट रूप से ये एक मुद्दा है. हालांकि इमोशनल कनेक्शन ऐसी चीज है जो मेरे लिए जो ज्यादा चिंता की बात है. किसी और को प्यार करना ऐसी चीज है जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.

सेक्स, महिलाएं, धोखाकिसी के साथ बांटना बर्दाश्त नहीं

7- इमोशनल चीटिंग उतनी ही बुरी है जितनी की सेक्स बनाना. असल में ये उससे भी बुरा है

इमोशनल चीटिंग तो किसी और के साथ सेक्स करने से भी बदतर है. सेक्स तो ऐसा है जैसे किसी अजनबी को आपने देखा और वो आपको आकर्षक लगा, ये एक बात है. लेकिन उसके साथ किसी तरह की इमोशलन बॉन्डिंग रखना, उससे ठीक वैसे ही बात करना जैसे हमदोनों किया करते हैं और यही नहीं उसके लिए वही फील करना जो मेरे लिए करता है तो ये चीटिंग ही है.

8- किसी और के साथ मानसिक रूप से जुड़े रहना बेवफाई है

'मानसिक रूप से किसी और के साथ जुड़े रहना बेवफाई है. ऐसे हालात में वो मुझसे जो कुछ भी कहता है या फिर मेरे प्रति जो भी प्यार दिखाता है मुझे उसमें धोखा ही लगता है. वो सब मेरे लिए कोई मायने नहीं रखते. असल में ये झूठ की तरह ही हैं. मुझे ये कहने की जरुरत नहीं कि मैं इसे बर्दाश्त नहीं करूंगी.'

आशा है अबतक आपने ये जरुर समझ लिया होगा कि बेवफाई की आपकी परिभाषा क्या है?

ये भी पढ़ें-

शादी से पहले भारतीय लड़कियों को ऐसे समझाया जाता है सेक्स !

स्मार्ट कंडोम ने तो सेक्स को खेल ही बना दिया !

किसी को तो बख्‍श दो ! एपल की सीरी से लोग करने लगे हैं 'गंदी बात'

Infidelity, Relation, Sex

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय