होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 19 अगस्त, 2019 11:36 AM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

आए दिन टीवी चैनलों पर भड़काऊ बयान देने वाला जाकिर नाइक भारत से भागकर अभी मलेशिया में छुपा है. हालांकि, अब वह भी मुसीबत में है, क्योंकि उसने कुछ ऐसा बयान दे दिया है जिसके बाद उसे पछताना पड़ रहा है. उस पर आरोप है कि वह मलेशिया में लोगों के बीच सांप्रदायिक तनाव की स्थिति पैदा कर रहा है. कुछ समय पहले ही मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मोहम्मद ने भारत की उस मांग को ठुकरा दिया था, जिसमें उसके प्रत्यर्पण की बात कही गई थी. और अब वही जाकिर नाइक महाथिर मोहम्मत के सिर पर बोझ सा बनता जा रहा है.

विवादित बयानबाजी के बाद खुद को बचाने की कोशिश

इस बार जाकिर नाइक मलेशिया के दो अहम समुदायों के खिलाफ बयानबाजी करने की वजह से आलोचनाएं झेल रहा है. उसने भारतीय और चीनी समुदाय के लोगों को लेकर विवादित बयान दिया है. हालांकि, नाइक कहता है कि उसने कोई भी विवादित या भड़काऊ बयान नहीं दिया है. वहीं दूसरी ओर चीनी और भारतीय समुदाय के लीडर्स ने जाकिर नाइक पर हमला बोलते हुए मलेशिया की सरकार से उसके खिलाफ कार्रवाई करने की गुजारिश की है.

जाकिर नाइक, हिंदू, चीन, पुलिसजाकिर नाइक मलेशिया के दो अहम समुदायों के खिलाफ बयानबाजी करने की वजह से आलोचनाएं झेल रहा है.

भारत के लिए अब क्या कह दिया है जाकिर नाइक ने?

जाकिर नाइक ने कहा है कि भारत के अल्पसंख्यक मुस्लिमों की तुलना में मलेशिया में हिंदुओं के पास 100 गुना अधिक अधिकार हैं. मलेशिया में रहने के बाद भी यहां के हिंदू भारत के प्रधानमंत्री मोदी का समर्थन कर रहे हैं, ना कि मलेशिया के प्रधानमंत्री का.

इस बार तो चीन को भी लपेटे में ले लिया

ये तो कुछ नहीं है, उसके एक दूसरे कमेंट ने और बड़ा विवाद खड़ा कर दिया है. देश निकाले की मांगों पर जाकिर नाइक ने कहा- 'कुछ समय बाद और लोग आएंगे और मलेशिया पूरी तरह से मुस्लिम देश बन जाएगा. उसके बाद चीनी आएंगे, भारतीय आएंगे, ब्रिटिश आएंगे. वह हमारे नए मेहमान हैं... लोग मुझे एक मेहमान कहते हैं. तो मैं कहता हूं कि मेरे सामने चीनी लोग मेहमान हैं. वह यहां पैदा नहीं हुए. अगर आप चाहते हैं कि नए मेहमान पहले वापस जाएं तो पुराने मेहमानों को भी वापस जाने को कहो... अधिकतर चीनी लोग यहां पैदा नहीं हुए. हां नई पीढ़ी के कुछ चीनी हो सकते हैं.'

अब शुरू हुई छानबीन

जाकिर नाइक के बयानों के बाद अब एक जांच शुरू कर दी गई है और संभावनाएं हैं कि जाकिर नाइक की स्थाई नागरिकता को रद्द कर दिया जाए. हालांकि, अभी तो ऐसे कयास लगाना जल्दबाजी ही होगी, क्योंकि मलेशिया में जाकिर नाइक के समर्थकों की भरमार है. खासकर मलय मुस्लिम समुदाय में, जो जाकिर नाइक का समर्थन करते हैं. इसी बीच मलेशिया के गृहमंत्री मुहयिद्दीन यासिन ने साफ किया है कि जाकिर नाइक ने हिंदू और चीनी लोगों पर जो बयान जो बयान दिया है, उसकी निष्पक्ष जांच होगी.

यहां तक कि प्रधानमंत्री डॉ. महाथिर मोहम्मद ने भी कह दिया है कि जाकिर नाइक की स्थाई नागरिकता रद्द की जा सकती है. आपको बता दें कि जब भारत ने जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण की बात कही थी, तो महाथिर ने ही उसका विरोध किया था. अब उन्होंने कहा है कि सरकार फिलहाल जांच की रिपोर्ट आने का इंतजार कर रही है, ताकि इस विवादित बयान का सच सामने आ सके, जिसके बाद सरकार किसी निर्णय तक पहुंचेगी.

ये भी पढ़ें-

येदियुरप्पा की कैबिनेट तय करना BJP के लिए तीन तलाक़ और 370 से भी मुश्किल!

UN से मुंह की खाकर लौटा पाकिस्तान अब क्या करेगा?

मान लीजिए कि सोनिया गांधी भी गिरती हुई कांग्रेस नहीं संभाल पाएंगी

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय