होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 24 दिसम्बर, 2017 05:42 PM
बिजय कुमार
बिजय कुमार
  @bijaykumar80
  • Total Shares

बीजेपी विधायक दल की बैठक में जयराम ठाकुर को हिमाचल प्रदेश का नया मुख्यमंत्री चुन लिया गया है. विधायक दल की बैठक में शामिल होने के लिए केंद्रीय पर्वेक्षक निर्मला सीतारमण, नरेंद्र सिंह तोमर और प्रदेश भाजपा प्रभारी मंगल पांडे के साथ साथ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा और पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल के अलावां प्रदेश से पार्टी के अन्य सांसद भी मौजूद रहे.

हाल ही में विधानसभा चुनाव में बीजेपी के 44 विधायक जीत कर आए हैं. नए मुख्यमंत्री के लिए कई नामों को लेकर चर्चा थी जिसमे केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा और पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल का नाम भी शामिल था. लेकिन कल श्री धूमल ने कहा कि मैं कभी भी मुख्यमंत्री पद की दौड़ में नहीं था. उन्होंने कहा कि मैं भाजपा नेतृत्व का आभारी हूं जिन्होंने यह विधानसभा चुनाव मेरे नेतृत्व में लड़ा और प्रदेश की जनता ने भी विश्वास जताते हुए पार्टी को बहुमत दिया. उन्होंने कहा था कि नेतृत्व का चयन आला कमान के हाथ में है.

जयराम ठाकुर, हिमाचल प्रदेश, मुख्यमंत्री   साल 1998 में कांग्रेस प्रत्याशी को मात देकर ठाकुर पहली बार विधानसभा पहुंचे थे

सभी अटकलों को विराम लगाते हुए अब जयराम ठाकुर को मुख्यमंत्री चुना गया है और वो इस महीने कि 27 तारीख को प्रदेश के 13 वें मुख्यमंत्री के रूप में पदभार संभालेंगे. आईये जानते हैं कौन हैं जयराम ठाकुर.

जयराम ठाकुर का जन्म छह जनवरी 1965 को मंडी के थुनाग क्षेत्र में हुआ था. ठाकुर मंडी के सिराज विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं. वो लगातार पांचवी बार विधानसभा पहुंचे हैं.

वो पूर्व कि बीजेपी सरकार में ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री रहे चुके हैं.

साल 1998 में कांग्रेस प्रत्याशी को मात देकर ठाकुर पहली बार विधानसभा पहुंचे थे. तब से वो इस विधानसभा सीट से विधायक हैं.

जयराम ठाकुर, हिमाचल प्रदेश, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का शुमार हिमाचल के कद्दावर नेताओं में है

साल 2013 में वो मंडी लोकसभा सीट से उपचुनाव भी लड़ चुके हैं. उनका मुकाबला वीरभद्र सिंह कि धर्मपत्नी प्रतिभा सिंह से था. ठाकुर को इस उपचुनाव में हार मिली थी.

जयराम ठाकुर 2007 से 2009 तक बीजेपी की राज्य इकाई के अध्यक्ष  भी रह चुके हैं. इस दौरान उनका कार्यकाल विवाद रहित और संतोषजनक था.

उन्हें संघ का करीबी माना जाता है, वो जम्मू में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् के फुल-टाइम मेंबर रह चुके हैं. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से भी उनकी अच्छी बनती है.

प्रदेश बीजेपी में जाति फैक्टर के समीकरण के हिसाब से वो बिलकुल सटीक बैठते क्योंकि राज्य इकाई में ठाकुरों का बोलबाला है और वो खुद भी एक ठाकुर है. जिससे ऐसा माना जा रहा है कि उनके लिए सरकार चलाना मुश्किल नहीं होगा.

ये भी पढ़ें -

हिमाचल में कमल खिला तो बीजेपी को कांग्रेस का भी एहसान मानना होगा

धूमल क्यों भूल रहे हैं कि न तो वो जेटली हैं न ही रुपाणी!

वो चार लोग, जो बदनाम थे लेकिन भाजपा में आकर 'पवित्र' हो गए

Himachal Pradesh, Election, Chief Minister

लेखक

बिजय कुमार बिजय कुमार @bijaykumar80

लेखक आजतक में एसोसिएट प्रोड्यूसर हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय