होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 23 जुलाई, 2019 07:40 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

कर्नाटक की विधानसभा इन दिनों नाटक का अखाड़ा बन चुकी है. पिछले कई सप्ताह से जेडीएस-कांग्रेस के गठबंधन वाली कुमारस्वामी सरकार भारी राजनीतिक संकट का सामना कर रही है. इसी बीच बहुमत परीक्षण की तारीख लगातार आगे बढ़ती रह रही है. ये तारीख जितना आगे बढ़ रही है और कुमारस्वामी अपनी सरकार को बचाने की कोशिश कर रहे हैं, कर्नाटक की राजनीति में चल रहा नाटक उतना ही दिलचस्प होता जा रहा है. पिछले दिनों में कुछ ऐसी घटनाएं हुई हैं, जो पूरे देश को चौंका रही हैं. एक के बाद एक कई चीजें सामने आ रही हैं. कभी कोई विधायक फर्जी गे सेक्स वीडियो को लेकर अपना रोना रो रहा है, तो कभी विधानसभा में काले जादू की बातें हो रही हैं. चलिए एक नजर डालते हैं उन दिलचस्प वाकयों पर, जिन्होंने कर्नाटक में चल रहे राजनीतिक नाटक को रोचक बना दिया है.

कर्नाटक, विधानसभा, कुमारस्वामी, भाजपा, कांग्रेसकभी कोई विधायक फर्जी गे सेक्स वीडियो को लेकर अपना रोना रो रहा है, तो कभी विधानसभा में काले जादू की बातें हो रही हैं.

1- शुरुआत करते हैं बीएस येदियुरप्पा से. 17 जुलाई को येदियुरप्पा काफी रिलेक्स मूड में दिखे. वह भाजपा के विधायकों के साथ क्रिकेट खेलते नजर आए.

2- फ्लोर टेस्ट पहले 19 जुलाई को होना था, लेकिन नहीं हो सका. उसके बाद भाजपा विधायकों ने विधानसभा के अंदर ही प्रदर्शन शुरू कर दिया और फैसला किया कि वह विधानसभा में ही पायजामा पहन कर रात बिताएंगे. करीब 100 विधायकों के समूह ने विधानसभा के अंदर ही रात का खाना खाया. सभी ने अपने लिए रात को पहनने वाले कपड़ों का इंतजाम किया और विधानसभा में ही बिस्तर मंगवाकर वहीं पर रात में फर्श पर सोए.

3- विधानसभा में काले जादू की बातें भी सामने आईं. दरअसल, भाजपा के विधायकों ने कुमारस्वामी के भाई और कर्नाटक के मंत्री रेवन्ना का मजाक उड़ाया था. कर्नाटक विधानसभा में ही कुमारस्वामी ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा- 'आप रेवन्ना को जेब में नींबू रखने के लिए कोसते हैं. आप हिंदू संस्कृति में भरोसा करते हैं, लेकिन रेवन्ना पर आरोप लगाते हैं. वह अपने साथ नींबू रखते हैं, क्योंकि वह मंदिर जाते हैं. लेकिन आप उन पर काला जादू करने का आरोप लगाते हैं. क्या ये मुमकिन है कि काले जादू से सरकार बचाई जा सकती है?'

4- अभी संसद में सोने और काले जादू का नाटक चल ही रहा था कि इसी बीच जेडीएस और कांग्रेस के कुछ विधायकों ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए दावा किया कि उन्हें ढेर सारा पैसा देने का लालच दिया जा रहा है. यहां तक कहा कि कुछ विधायकों के घर तो भाजपा वाले पैसों से भरे बैग लेकर भी पहुंचे थे, ताकि भाजपा को फायदा पहुंचाया जा सके. इस दावे ने भी विधानसभा में एक नाटक शुरू कर दिया. हालांकि, भाजपा ने इन सभी दावों को निराधार करार दिया.

5- इसी बीच कांग्रेस और जेडीएस के विधायकों ने कांग्रेस विधायक श्रीमंत पाटिल की बड़ी-बड़ी तस्वीरें हवा में लहराईं, जिसमें वह मुंबई के एक अस्पताल में बेड पर लेटे हुए दिख रहे थे. आरोप लगाया गया कि उन्हें भाजपा ने ही बेंगलुरु के एक रिसॉर्ट से अगवा कर लिया है. अगवा करने के आरोप ने भाजपा और कांग्रेस में खूब बहस भी हुई.

6- सोमवार को जब विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार खत्म ना होती डिबेट देखकर बोल पड़े कि उनके बेटे को उनकी सेहत की चिंता हो रही है. उन्होंने कहा कि उनका बेटा हर घंटे फोन कर रहा है. संसद की बहस से परेशान होकर कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने आधी रात को कहा- 'मुझे अब सोने की जरूरत है. '

7- सोमवार को ही जब फ्लोर टेस्ट काफी लंबा खिंच गया और आधी रात तक चला गया तो कुछ विधायकों ने कार्यवाही स्थगित करने की भी अपील की. विधायकों के लिए खाना नहीं होने की सूरत में भाजपा विधायक अपनी पार्टी के सदस्यों को विधानसभा में टॉफी बांटते हुए दिखे.

8- इन सबके अलावा, फ्लोर टेस्ट के बीच में ही एक और नाटक शुरू हो गया. सोमवार को ही कर्नाटक विधानसभा में भाजपा विधायक अरविंद लिंबावली रो पड़े, जब ये दावा किया गया कि वह एक 'फर्जी गे सेक्स वीडियो' के पीड़ित हैं.

9- जहां एक ओर भाजपा जल्द से जल्द फ्लोर टेस्ट का तर्क दे रही है, वहीं जेडीएस और कांग्रेस इस मुद्दे पर कई दिनों से बात करते हुए नजर आ रहे हैं. मंगलवार को भाजपा विधायक सीटी रवि ने कहा- 'रामायण खत्म हो गई और महाभारत भी खत्म हो गई, वेद-उपनिषद भी खत्म हो चुके हैं. आज क्या आप गरुड़ पुराण की बात करेंगे?'

10- मंगलवार को ही कांग्रेस और जेडीएस के विधायकों ने कर्नाटक विधानसभा में नोटबंदी पर बहस शुरू कर दी, जबकि फ्लोर टेस्ट में लगातार देर हो रही थी. आपको बता दें कि कुमारस्वामी सरकार का फ्लोर टेस्ट अब तक 3 डेडलाइन पार कर चुका है.

ये भी पढ़ें-

क्या ट्रंप, इमरान खान के लिए 'ट्रम्प कार्ड' साबित होंगे?

चंद्रयान-2 लॉन्च होते ही पाकिस्तान के दिल की धड़कनें बढ़ गईं

इमरान खान क्या वाशिंगटन में विश्वास मत हासिल करने गए थे?

Karnataka, Karnataka Assembly, Floor Test

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय