होम -> सियासत

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 20 फरवरी, 2021 04:29 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

अपने मुंह मियां मिट्ठू बने तो हर कोई बन जाता है लुत्फ तो तोता बनने में है. रट्टू तोता. हां वही तोता जिसे कोई बात रटाने भर की देर है जैसे ही मौका मिलेगा जितना कुछ होगा पूरी तत्परता और तन्मयता से सब कुछ उगल दिया जाएगा. कहने भर को तो ये एक बेहद साधारण मगर ज्ञान से भरपूर बात है जिसका यूं तो किसी से कोई संबंध नहीं है लेकिन जब हम इसे गोरखपुर, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, भाजपा सांसद रवि किशन और राप्तीघाट के अंतर्गत देखते हैं तो मिलता है कि वहां ऐसा बहुत कुछ हुआ जो न केवल चाटुकारिता की पराकाष्ठा है बल्कि उसने ये भी बता दिया कि कई बार व्यक्ति का ज्यादा बोलना शुरू शुरू में गुदगुदी देता है मगर कुछ समय बाद बोझिल हो जाता है अब ज्यादा भूमिका क्या ही बनाना सीधे मुद्दे पर आते हैं. हुआ कुछ यूं है कि बीजेपी सांसद रवि किशन ने गोरखपुर में अयोजित एक कार्यक्रम में जहां बड़े ही भावुक अंदाज में सीएम योगी की शान में बड़े बोल बोले तो वहीं एक ऐसा अजीब ओ गरीब बयान भी दिया जिसे सुनकर सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने अपने सिर पर हाथ भी रख लिया. वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है और लोग यही कह रहे हैं कि जब एक एक्टर बिना स्क्रिप्ट के बोलना शुरू करता है तो अगर वो थोड़ा इधर उधर निकल जाए तो हमें बिल्कुल भी विचलित नहीं होना चाहिए.

Ravi Kishan, Gorakhpur, MP, Yogi Adityanath, Chief Minister, UP, Development, Deathगोरखपुर में दिए अपने बयान से रवि किशन ने सीएम योगी आदित्यनाथ को भी चकित कर दिया है

रवि किशन के अनुसार राप्ती घाट पर मरने वाला सीधे स्वर्ग जाएगा, अंतिम संस्कार के समय जलने पर उसे आनंद की अनुभूति होगी. बताते चलें कि गोरखपुर के राप्ती घाट पर यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दो घाटों का लोकार्पण किया. प्रोग्राम में गोरखपुर से सांसद रवि किशन भी मौजूद थे. जब बोलने की बारी रवि की आई तो उन्होंने इस जुमले के साथ अपनी बात शुरू की कि राप्ती घाट पर पहले क्या होता था सबको पता है.

लोग सुबह होते ही यहां पहुंच जाते थे. लेकिन अब चीजें बदल गयी हैं. अब यहां अगर आपकी मृत्यु होती है तो आप डायरेक्ट स्वर्ग में जाएंगे. यहां जब आप जलाए जाएंगे तो कितना आनंद आएगा. अत्याधुनिक है एकदम और इलेक्ट्रिक वाला है इसलिए फूंकने में टाइम नहीं लगेगा. इसके बाद उन्होंने लोगों को घाट साफ रखने की नसीहत भी दी. रवि किशन का इन बातों को कहना भर था मंच पर सीएम योगी आदित्यनाथ समेत तमाम लोग हंस हंस के लोटपोट हो गए. मंच पर रवि ने कुछ यूं फेंकम फाक की कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी अपना हाथ अपने सिर पर रख लिया.

इन तमाम बातों के बाद जब एक बार रवि ने बोलना शुरू किया तो फिर वो रुके नहीं. जैसा उनका अंदाज था महसूस हो रहा था कि रवि शूटिंग कर रहे हैं और बिना स्क्रिप्ट के ही एक के बाद एक डायलॉग बोल रहे हैं. रवि ने सवाल किया कि पहले यूपी में क्या था? लोग यूपी का नाम सुनकर भय से कांपते थे लेकिन अब योगी आदित्यनाथ के सूबे की कमान संभालने के बाद स्थिति काफी हद तक बदली है. गोरखपुर के साथ साथ पूरे सूबे में विकास हो रहा है.

रवि ने ये भी कहा कि ये लोगों के प्रति समर्पण ही है कि आज एक मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ ने 24 घंटे सिर्फ और सिर्फ प्रदेश के विकास को समर्पित कर दिये हैं. रवि ने लोगों से अपील की कि उन्होंने राज्य सरकार और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर जो भरोसा रखा उसे बरकरार रखें और उन्हें सीएम बनाए रहें. 2017 में यूपी के बदले निजाम के बाद लॉ एंड आर्डर पर अपना तर्क पेश करते हुए रवि किशन ने ये भी कहा कि पहले यूपी अपराध के लिए जाना जाता था मगर अब जबसे योगी आदित्यनाथ ने कमान संभाली है अपराधी नेपाल चले गए अब यूपी विकास के लिए जाना जाता है.

कुल मिलाकर देखा जाए तो एक एक कर रवि किशन ने सीएम योगी आदित्यनाथ की उपलब्धियां गिनवाई और मौके पर मौजूद लोगों को ये बताने का प्रयास किया कि एक ऐसे समय में जब पेट्रोल डीजल की कीमतें सैकड़ा पार कर गई हों इनकी गाड़ी में न केवल तेल फुल है बल्कि वो भावों में बहकर ओवर फ्लो भी कर रहा है. प्रोग्राम में जो बातें रवि किशन ने की उनको सुनने के बाद ये कहना कहीं से भी गलत नहीं है कि एक सांसद के तौर पर रवि किशन ने चाटुकारिता की सारी सीमाओं को लांघ दिया है.

रवि ने ये क्यों किया इसका जवाब बहुत सीधा है. इन बातों के जरिये रवि किशन को भरोसा है और उनके अच्छे दिन बहुत जल्द आएंगे. बहरहाल जिस बात को लेकर रवि किशन की आलोचना हो रही है और जिस तरह उनकी बातों के बाद मुख्यमंत्री ने अपने सिर पर हाथ रखा कहा जा सकता है कि रवि को अपनी बातें कहते वक़्त जिम्मेदारी का परिचय देना चाहिए था.

अब रवि बी ग्रेड भोजपुरी या तेलुगु मूवी के एक्टर नहीं बल्कि गोरखपुर जैसी जगह से सत्ताधारी दल के सांसद हैं इसलिए सबसे जरूरी उनका जिम्मेदारी से बोलना है.

ख़ैर ये स्टेटमेंट रवि किशन को कितना फायदा पहुंचाता है तो हमें बहुत जल्द बता चल जाएगा लेकिन जो वर्त्मान है उसने हमें पहले से ही बता दिया है कि अब कुछ दिनों का इंतजार है फिर रवि किशन के अच्छे दिन आने से कोई नहीं रोक सकता. स्थिति जब ऐसी हो और हम ये जानते हों कि कामयाबी मिलेगी तो अपने मुंह मियां मिट्ठू बनने से लेकर रट्टू तोता तक कुछ भी बनने में बुराई हरगिज़ नहीं है.

ये भी पढ़े -

बिप्लब देब को क्यों संदेह का लाभ मिल सकता है, राहुल गांधी को नहीं

अगर भाजपा पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव जीती, तो कौन होगा मुख्यमंत्री?

राहुल गांधी ने जानिये कैसे बाकी विपक्ष को ताकतवर नहीं होने दिया 

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय