होम -> सिनेमा

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 06 नवम्बर, 2019 12:50 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

Sanjay Dutt पिछले 38 सालों से बॉलीवुड के चहेते बने हुए हैं. अपने करियर की शुरुआत फिल्म रॉकी से करने वाले संजय, बेहद मासूम और चॉकलेटी हीरो कहे जाते थे. उनका आंखों से मासूमियत झलकती थी. लेकिन पूरी फिल्म इंडस्ट्री में सिर्फ Sanjay Dutt ही ऐसे एक्टर हैं जिन्होंने शान से खुद को खलनायक कहा. कह सकते हैं कि संजय दत्त एक सफल हीरो के साथ-साथ एक सफल विलेन भी रहे हैं. और संजय दत्त की फिल्मों की सबसे खास बात यही रही कि उनके काम की तारीफ जितनी हीरो बनकर नहीं हुई, उतनी विलेन बनकर हुई.

संजय दत्त एक और फिल्म में निगेटिव किरदार निभा रहे हैं. फिल्म का नाम है पानीपत, और फिल्म में संजय दत्त अफगानिस्तान के एक क्रूर राजा अहमद शाह अब्दाली का किरदार निभा रहे हैं. ये फिल्म पानीपत की तीसरी लड़ाई पर आधारित है जो अब्दाली और मराठाओं के बीच 1761 में लड़ी गई थी. फिल्म में अर्जुन कपूर और कृति सेनन लीड रोल में हैं.

sanjay dutt in panipatक्रूर राजा अहमद शाह अब्दाली का किरदार निभा रहे हैं संजय दत्त

इस फिल्म में संजय दत्त का लुक काफी खतरनाक दिखाया गया है. योद्धा के कॉस्ट्यूम में दिख रहे संजय दत्त अपने किरदार से मेल खाते दिखाई दे रहे हैं. संजय दत्त ने इस लुक के लिए काफी मेहनत भी की है. उन्होंने जिम में खूब पसीना बहाया है.

फिल्म के ट्रेलर में संजय दत्त का हर लुक बेहद खतरनाक और डरावना है. संजय दत्त बेहद प्रभावशाली नजर आते हैं. ट्रेलर में तो साफ दिखाई दे रहा है कि संजय दत्त फिल्म के हीरो पर भारी पड़ते दिखाई दे रहे हैं-

इससे पहले भी संजय दत्त कई फिल्मों में निगेटिव और ग्रे शेड के किरदार निभा चुके हैं. अलग अलग फिल्मों में अपने लुक्स के साथ एक्सपेरिमेंट करने वाले संजय दत्त ने लोगों को काफी डराया.

खलनायक

1993 में बनी फिल्म खलनायक संजय के जीवन की यादगार फिल्म थी, न सिर्फ इसलिए कि इसमें उन्होंने खलनायक का रोल निभाया था बल्कि इसलिए भी कि इसी साल मुंबई में हुए सीरियल ब्लास्ट जिसमें 250 लोग मारे गए थे उसमें अंडरवर्ल्ड से संबंध और घर में एके-56 राइफल रखने के आरोप में संजय दत्त को गिरफ्तार किया गया था. और इसलिए 'नायक नहीं, खलनायक हूं मैं' वाला गाना सही मायने में संजय दत्त पर फिट बैठा था.

sanjay dutt in khalnayakखलनायक में संजय दत्त ने पहली बार निगेटिव रोल किया था

लेकिन एक हीरो की इमेज उतारकर एक विलेन का किरदार निभाना संजय के लिए काफी चैलेंजिग रहा. इस फिल्म में संजय दत्त बल्लू के किरदार में दिखे थे जिसे सिस्टम ने हथियार उठाने पर मजबूर कर दिया था. उनका लुक बेहद खतरनाक था. सिर्फ लंबे बालों के जरिए ही वो अपने लुक में खलनायक की झलक ले आए थे. फिल्म में उनके काम की बहुत तारीफ की गई थी.

वास्तव

sanjay dutt in vastavये लुक संजय दत्त का आइकॉनिक लुक है

माथे पर लंबा सा तिलक, लंबा कुर्ता, गले में साने की चेन और हाथ में बंदूक, ये था रघु जो फिल्म वास्तव का हीरो नहीं विलेन था. निगेटिव रोल में रघु के रूप में संजय दत्त ने अपनी शानदार अदाकारी का लोहा मनवाया था. संजय दत्त को वास्तव के लिए बेस्ट एक्टर का फिल्म फेयर अवार्ड दिया गया था. इसमें भी संजय दत्त का लुक क्लीन होते हुए भी डरावना था.

मुसाफिर

sanjay dutt in musafirअपने लुक के साथ हमेशा एक्सपेरिमेंट करते आए हैं संजय

2004 में आई फिल्म मुसाफिर में बिल्ला का किरदार निभाने वाले संजय दत्त ने इस फिल्म में भी अपनी दाढ़ी के साथ एक्सपेरिमेंट किया था. मुंह में सिगार और बाइक चलाते हुए संजय दत्त ने इस फिल्म में भी शानदार काम किया था.

अग्निपथ

sanjay dutt in agneepasthसंजय दत्त का ये लुक आज भी डराता है

2012 में फिल्म अग्निपथ में संजय दत्त ने कांचा चीना का किरदार निभाया था. इस फिल्म में संजय दत्त ने इस तरह की अदाकारी की थी कि लोगों को उस किरदार से नफरत हो गई. अब तक के निगेटिव किरदारों में संजय दत्त की एक पॉजिटिव इमेज भी दिखाई देती थी. लेकिन अग्निपथ का संजय दत्त सिर्फ और सिर्फ नफरत के लिए लायक था. फिल्म में संजय का लुक भी इतना खतरनाक था जो उनके किरदार से मैच करता था. उनकी भौंहें नहीं थीं और इसके लिए उन्होंने वजन भी बढ़ाया था. और नतीजा आपके सामने था.

संजय दत्त वो अभिनेता हैं जो बॉलीवुड के हीरो और विलेन दोनों किरदार बखूबी निभाते आए हैं. विलेन का किरदार भी इस तरह जीते हैं कि लोगों को नफरत हो जाए. जिन आंखों से मासूमियत झलकती हो उन्हीं आंखों से संजय नफरत भी बखूबी झलकाते हैं. फिल्म पानीपत में संजय दत्त का नया लुक बेहद प्रभावशाली नजर आ रहा है. अब देखना ये है कि संजय दत्त इस किरदार से कितनी तारीफ पाते हैं. फडायरेक्टर आशुतोष गोवारिकर की ये पीरियड ड्रामा 6 दिसंबर को रिलीज हो रही है.

ये भी पढ़ें-

'बाला' और 'उजडा चमन' जैसी फिल्मों का बनना भी जरूरी है

Bigg boss 13 में वाइल्ड कार्ड के जरिए 'जंगल-राज' की एंट्री

Malaika Arora का 46वां बर्थडे मनाना लोगों को पच क्यों नहीं रहा

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय