होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 21 जून, 2018 10:45 AM
सिद्धार्थ झा
सिद्धार्थ झा
  @sidharath.jha
  • Total Shares

इस बार 21 जून को अंतराष्ट्रीय योग दिवस देहरादून में एक बार फिर बड़े स्तर पर आयोजित किया जा रहा है. ये चौथा योग दिवस है, लेकिन लगता नहीं है कि ये दिन मनाते हुए हमें सिर्फ चार साल हुए हैं, क्योंकि योग और ध्यान हमारी ज़िंदगियों में रच बस गए हैं.

देश-विदेश में लोगों पर योगध्यान का ऐसा जादू चढ़ा है कि यह अब एक बड़ी इंडस्ट्री की शक्ल अख्तियार कर चुका है. भारत के सामने योग का एक बहुत बड़ा बाज़ार है. किसी भी बीमारी में दवाओं के साथ योग आपको जल्द स्वस्थ करने में बड़ी भूमिका निभाता है और योग के इसी गुण के कारण आज ज्यादातर सरकारी और निजी अस्पतालों में योग प्रशिक्षकों की भारी मांग है. उनके लिए बाकायदा अलग विभाग भी बनाये गए हैं.

yogaयोग अब एक बड़ी इंडस्ट्री बन चुका है

अगर आपके पास योग का ज्ञान है और आपके लिए योग एक व्यवसाय से बढ़कर जिंदगी का अहम हिस्सा है तो निसंदेह आपको कहीं नौकरी मांगने की जरूरत नहीं होगी, बल्कि उस ज्ञान का आप घर बैठे हुए भी सदुपयोग कर सकते हैं जिससे आप खुद निरोगी रहते हुए न सिर्फ समाज को निरोगी रखेंगे बल्कि ये आपकी आमदनी का भी हिस्सा बन जाएगा.

योग ने महिला सशक्तिकरण मे अहम् भूमिका निभाई है. ऐसी महिलाएं जो घर से बाहर काम करने नहीं जा सकतीं और सम्मान जनक काम करने के लिए जमापूंजी भी नहीं है, उनके लिए योग का ज्ञान निसंदेह रामबाण है. दक्षिणी दिल्ली में अपना योग सेंटर चलाने वाली काजल चौधरी कुछ समय पहले तक आम ग्रहणी का जीवन जी रही थीं. कुछ समय पहले तक इनकी जिंदगी भी आम घरेलू महिलाओं की भांति ही थी लेकिन योग ने उनके जीवन की दशा ही बादल दी. उन्होंने आसपास रहने वाली महिलाओं को योग के लिए प्रेरित किया और आज अच्छी खासी संख्या में महिलाएं उनके पास योगाभ्यास के लिए आती हैं.

yogaयोग से महिलाओं को भी आजीविका चलाने की नई दिशा मिली

आज योग का बहुत बड़ा बाज़ार है जिससे लाखों लोगों की आजीविका जुड़ी हुई है. एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में योग सीखने वाले लोगों की संख्या करीब 20 करोड़ है. इसके साथ ही योग टीचर्स की मांग सालाना 35 प्रतिशत की दर से बढ़ी है. देश में योग ट्रेनिंग का कारोबार करीब 2.5 हजार करोड़ रुपये का हो चुका है. इसमें लगाए जाने वाले योग शिविर, कॉरपोरेट्स कंपनियों को दी जाने वाली ट्रेनिंग और प्राइवेट ट्रेनिंग शामिल है. योग टीचर प्रति घंटे 400-2000 रुपये तक फीस लेते हैं.

yogaदेश विदेश में योग प्रशिक्षकों की बहुत मांग है

बीते कुछ सालों में योग शिक्षकों की मांग काफी तेजी से बढ़ी है. योग सीखने के लिए योग्य और प्रशिक्षित शिक्षक की जरूरत होती है. जिसकी वज़ह से देश और विदेशों में योग शिक्षकों की मांग में बहुत तेजी से बढ़ोतरी हुई है. एक रिपोर्ट के अनुसार सिर्फ अमेरिका में 76,000 रजिस्टर्ड योग शिक्षक हैं और इसके साथ 7000 योग के स्कूल हैं. Yoga Alliance से 2014 से 2016 के बीच 14,000 नये योग शिक्षक जुड़े. एसोचैम की रिपोर्ट के अनुसार देश में योग की मांग आने वाले वर्षों में 30-40 प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से बढ़ने का अनुमान है. एसोचैम की इसी रिपोर्ट में कहा गया है कि योग की शिक्षा देने वालों की मांग 30-35 प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से बढ़ने का अनुमान है.

योग के ब्रांड अम्बेसडर बाबा रामदेव की बात न की जाये तो बात अधूरी है निसंदेह बाबा रामदेव का बहुत बड़ा योगदान है योग को विश्व पटल पर लाने का. आज बाबा लाखों नौजवानों की प्रेरणा हैं. कल तक जिस योग को दुनिया करतब और सरकर्स कहने से नहीं झिझकती थी आज उन सबकी नजरें हमारी तरफ एक उम्मीद से देख रही हैं कि कैसे योग के माध्यम से हम संसार को तनाव मुक्त और निरोगी काया दे रहे हैं.

ये भी पढ़ें-

योग पर बहस खत्म, अब सऊदी में शुरू हो चुका है सूर्य नमस्कार और अनुलोम विलोम

'राष्‍ट्र ऋषि' और उनके मुख्‍य मुनियों के आश्रम पर एक नजर !

मोदी और रामदेव नहीं, योग के पुरोधा शिव और पतंजलि हैं

Yoga Divas, International Yoga Day, Yoga

लेखक

सिद्धार्थ झा सिद्धार्थ झा @sidharath.jha

स्वतंत्र लेखक और लोकसभा टीवी में प्रोड्यूसर

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय