होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 30 अप्रिल, 2018 04:20 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

"बार बार होने वाला सिरदर्द" को माइग्रेन के नाम से जानते हैं. इसमें सिर के एक तरफ तेज दर्द होता है. अधिकतर मामलों में इसकी वजह से दिखने में दिक्कत होने के साथ साथ उबकाई या मितली भी आती है. विशेषज्ञों के मुताबिक माइग्रेन आपके हेल्थ कंडीशन के बारे में भी बताता है. क्योंकि तेज सिरदर्द का संबंध अक्सर अस्थमा, दिल की बीमारी, डिप्रेशन सहित कई बीमारियों से जुड़ा होता है.

न्यूयॉर्क सिटी के मोन्टफिओर सिरदर्द सेंटर के एमडी डॉ. रिचर्ड लिप्टन कहते हैं- "माइग्रेन के बहुत सामान्य होने के पीछे कारण ये है कि कई चीजों के कारण माइग्रेन हो सकता है और वो चीजें हर इंसान के लिए अलग अलग हो सकती हैं."

चलिए आपको माइग्रेन से जुड़ी 8 हेल्थ कंडीशन के बारे में बताएं-

1- डिप्रेशन:

डॉ. लिप्टन के मुताबिक एपिसोडिक और क्रोनिक माइग्रेन का मतलब ये हो सकता है कि जिन्हें माइग्रेन नहीं है उनकी तुलना में आपके डिप्रेशन के शिकार होने की संभावना दोगुनी है.

तो क्या आप दर्द की वजह से अवसादग्रस्त हो जाते हैं या फिर अवसाद की वजह से आपको माइग्रेन की दिक्कत होने लगती है? डॉ. लिप्टन कहते हैं ये दोनों ही तरीके से हो सकता है.

2- चिंता:

अमेरिकी माइग्रेन फाउंडेशन के मुताबिक माइग्रेन से ग्रसित लोगों में 50 प्रतिशत को चिंता यानी anxiety की भी समस्या होती है. कुछ मौकों पर एंटीडिप्रेसेंट दवाइयां दोनों ही रोगों के इलाज में कारगर साबित होती हैं. जबकि कुछ लोग अलग अलग उपचारों से स्वस्थ होते हैं. जैसे माइग्रेन के लिए अलग दवाइयां और चिंता के लिए थेरेपी दी जाती है.

migraine, diseaseचिंता, चिता समान है कहावत ऐसे ही नहीं बनी

ये इलाज हर इंसान के लिए अलग होते हैं इसलिए आपके लिए क्या सही रहेगा ये पता करने के बाद ही दवाईयां लें.

3- स्ट्रोक:

migraine, diseaseमहिलाओं में इसका रिस्क ज्यादा होता है

विशेषज्ञों ने पाया है कि खुन के थक्के जमने की वजह से आने वाले स्ट्रोक अक्सर माइग्रेन से जुड़े होते हैं. डॉ. लिप्टन कहते हैं- "माइग्रेन, युवा महिलाओं में ज्यादातर पाया जाता है. और पुरुषों के मुकाबले महिलाओं पर स्ट्रोक का खतरा कम होता है. हालांकि रिस्क दोगुना हो जाता है लेकिन फिर भी ये संख्या कम है."

4- मिर्गी (Epilepsy):

migraine, diseaseअनुवांशिक लक्षणों के कारण भी मिर्गी हो सकती है

दोनों के बीच का संबंध बताते हुए डॉ. लिप्टन कहते हैं- "ये दोनों ही दिमाग के उत्तेजनशीलता से संबंधित बीमारियां हैं जिसमें दिमाग वातावरण से भी प्रभावित हो सकता है और नींद की कमी के कारण भी ग्रस्त हो सकता है. माइग्रेन के कुछ अनुवांशिक लक्षण भी मिर्गी का कारण हो सकते हैं."

5- हृदय संबंधी रोग:

migraine, diseaseस्वस्थ जीवनशैली अपनाने का एक और कारण

एक और स्टडी ये बताती है कि माइग्रेन से ग्रसित पुरुषों और महिलाओं में हृदय संबंधी रोगों का रिस्क ज्यादा होता है. ये लोगों को एक स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए अच्छा बहाना है. सिर्फ अपने वजन को कंट्रोल ही में रखना काफी नहीं है बल्कि कॉलेस्ट्रोल लेवल और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखने की जरुरत है.

6- अस्थमा:

हालांकि अस्थमा श्वांस संबंधी रोग है और माइग्रेन तंत्रिका संबंधी समस्या है, लेकिन फिर भी कई मामलों में ये एकदुसरे से जुड़ सकते हैं.

migraine, diseaseदोनों बीमारियां अलग अलग हैं पर एकदूसरे से जुड़ी हैं

डॉ. लिप्टन बताते हैं- "अस्थमा में सांस की नलियों में सूजन या फिर सिकुड़न हो जाती है. माइग्रेन में दिमाग के ठीक बाहर खून की नलियों में अत्यधिक सूजन आ जाती है."

7- मोटापा:

migraine, diseaseकमर के साइज से माइग्रेन की समस्या जुड़ी हो सकती है

माइग्रेन से ग्रसित युवाओं को अपने वजन का ध्यान रखना चाहिए क्योंकि बढ़ा हुआ वजन उनके माइग्रेन की समस्या को और बढ़ा सकता है. सबसे बड़ी बात तो ये कि जिनको माइग्रेन की समस्या नहीं है मोटापे के कारण वो भी इसके शिकार हो सकते हैं.

8- दर्द की समस्या:

migraine, diseaseमाइग्रेन एक रोग नहीं रोगों का जड़ है

क्रोनिक गर्दन दर्द, पीठ और कंधे के दर्द के साथ फाइब्रोमाइलेगिया जैसी दर्द की समस्याएं माइग्रेन के कारण होती हैं. हालांकि इस बात का पता नहीं चल पाया है कि आखिर ये समस्याएं एक दुसरे से जुड़ी कैसे हैं.

ये भी पढ़ें-

स्वस्थ पेट के लिए वरदान हैं ये मसाले

सबसे खतरनाक बीमारी Disease X जल्द आने वाली है!

किडनी की बीमारी से पहले शरीर देता है ये 11 संकेत..

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय