होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 30 अक्टूबर, 2019 05:56 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

भारत हो या कोई और देश, इतिहास गवाह है कि अपनी स्वार्थसिद्धी के लिए समाज में कितने ही ऐसे नियम बनाए गए जो पहले प्रथा कहे जाते थे और आज अपराध कहलाए जाते हैं. सती प्रथा, बाल विवाह, या फिर बहुविवाह, ये कुछ उदाहरण हैं, जो समाज ने अपने फायदे के लिए बनाये और उसका खामियाजा सिर्फ महिलाओं को झेलना पड़ा.

इन प्रथाओं को भले ही अपराध की श्रेणी में रखा गया हो लेकिन सामाजिक मान्यताएं हमेशा से कानून पर हावी रही हैं. ऐसी ही एक प्रथा है बहुविवाह, यानी एक आदमी का कई महिलाओं से शादी करना. इस्लाम को छोड़कर किसी भी धर्म के लिए यह भारत में मान्य नहीं है. लेकिन महाराष्ट्र के एक गांव देंगनमल में ऐसा हो रहा है. वजह अजीब है.

जहां बेरोकटोक होते हैं बहुविवाह

महाराष्ट्र के ठाणे के गांव देंगनमल में एक पुरुष की एक नहीं बल्की दो या तीन पत्नियां होती हैं. ये प्रथा है और इसे निभाने की वजह इस प्रथा से भी ज्यादा अजीब है. 'पानी' कहने को तो एक सरल सा शब्द है, लेकिन यही वो वजह है जिसके चलते इस गांव के पुरुष एक के बाद एक शादियां करते हैं.

2_042116075754.jpeg
 गांव में रहने वाले सखाराम भगत की तीन पत्नियां हैं

दरअसल ये गांव भी महाराष्ट्र के उन 19 हजार गांव में से एक है जहां पानी नहीं है और ज्यादातर सूखे जैसे हालात ही रहते हैं. गांव की आबादी करीब 500 है और घर की जरूरत के लिए पानी का इंतजाम करने की जिम्मेदारी सिर्फ महिलाओं पर ही होती है.

13_042116075836.jpg
 पानी लाने की जिम्मेदारी सिर्फ महिलाओं पर होती है

यहां पानी करीब 6 किलोमीटर दूर से भरकर लाना पड़ता है. और पानी भरकर लाने के लिए ही यहां लोग शादियां करते हैं. पानी के लिए लाई गई इन दुल्हनों को 'पानी बाई' कहा जाता है.

3_042116075851.jpeg
पत्नी के अलावा लाई गई दूसरी पत्नियों को यहां 'पानी बाई' कहते हैं

अगर किसी व्यक्ति की पत्नी पानी लाने में असमर्थ है, तो वो व्यक्ति दूसरी शादी कर लेता है, जिससे पानी लाया जा सके. अगर दूसरी पत्नी भी बीमार पड़ जाए तो वो तीसरी शादी कर सकता है. इस गांव में एक व्यक्ति ने सबसे ज्यादा तीन महिलाओं से शादी की हैं, जबकि बाकी लोगों की दो पत्नियां हैं.

10_042116075911.jpeg
 ज्यादातर लोगों के दो पत्नियां हैं

ये महिलाएं घर में एक साथ ही रहती हैं. पहली पत्नी घर और बच्चों को संभालती है, खाना बनाती है, जबकि दूसरी का काम सिर्फ पानी लाना होता है.

5_042116075929.jpeg
 पानी बाई के होने से घर का काम आसान हो जाता है

यहां आसान नहीं है पानी की डगर

पानी लाने का काम चुनौतियों भरा होता है. एक महिला के पास 15-15 लीटर के दो घड़े होते हैं जिन्हें अपने सर पर एक के ऊपर एक रखकर संतुलित करना होता है. तपती गर्मी के दिनों में पथरीले रास्तों पर 6 किलोमीटर दूर का सफर कितनी तकलीफ देता होगा.

4_042116080134.jpeg
 तपती धूप में मीलों चलकर पानी लाना आसान नहीं है

जाने और आने में ही घंटो बीत जाते हैं. मॉनसून के आने पर गांव के कुएं भर जाते हैं और तभी इनका संघर्ष थोड़ा आसान हो जाता है.

12_042116075951.jpg
 कभी कभी बच्चों को भी साथ लाना पड़ता है

महिलाएं पतियों को खुद शादी की अनुमति देती हैं

पानी के लिए घर से इतनी दूर जाने और 30 लीटर पानी अपने सर पर ढोकर लाने में महिलाओं को 8 से 10 घंटे लग जाते हैं.

11_042116080036.jpg
 आने जाने में लगता है काफी समय

ऐसे में घर में बच्चों को अकेला छोड़ना कोई मां नहीं चाहती. फिर इतनी मेहनत के बाद घर में खाने का इंतजाम भी महिलाओं को ही करना होता है, लिहाजा महिलाएं खुद अपने पतियों को दूसरी शादी करने की अनुमति दे देती हैं. दूसरी पत्नी आती है तो घर का काम बंट जाता है.

पानी बाई की मजबूरी क्या है?

ये 'पानी बाई' वो महिलाएं हैं जो ज्यादातर विधवा हैं या फिर पति द्वारा छोडी गई हैं. दूसरी शादी करके इन महिलाओं को घर मिल जाता है, और ये अपना जीवन सुधरा हुआ महसूस करती हैं.

9_042116080200.jpg
 सारी पत्नियां एक ही घर में एकसाथ रहती हैं

यहां के लोगों की मानें तो ये इन विधवाओं के लिए अच्छी बात है, लेकिन दूसरे नजरिये से देखें तो पुरुष अपने स्वार्थ के लिए ही इनका इस्तेमाल कर रहा है. सिर्फ कई किलोमीटर दूर पानी भरने के लिए ही नहीं, कई घरों में उससे इनके बच्चे भी हैं.

अब इन पानी बाई को आप क्या कहेंगे ? और इन्हें ब्याह कर लाने वाले पुरुषों को...?

पानी बाई के पूरे हालात बयां कर रही है ये डॉक्‍यूमेंट्री-

Drought, Husband, Wife

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय