होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 14 फरवरी, 2020 10:39 PM
अनु रॉय
अनु रॉय
  @anu.roy.31
  • Total Shares

अपनी ख़ुशियों को किसी और में ढूंढना. किसी का होना, आपके होने को होना महसूस करवाए, कितना कॉम्प्लिकेटेड साउंड करता है न. कोई ऐसा हो जिसके साथ घूमने जायें, कोई हो जो हमारे लिए फूल लाए, कोई हो जो हमें इस वेलेंटाइन डे (Valentines Day) पर स्पेशल फ़ील करवाए. मगर कोई क्यों हो? ये कोई आप ख़ुद क्यों नहीं हो सकते ख़ुद के लिए? ख़ुद के लिए ख़ुद का होना मुश्किल है पर मुमकिन है. अब सोचिए ज़रा, आज का दिन उनके लिए स्पेशल है जो प्रेम (Love) में हैं. जिनका कोई महबूब (Lover) है. कोई है जो उनके लिए केक और कैंडल साथ में रोज़ और अंगूठी लाएगा. उस पल में वो दोनों दुनिया के सबसे खुशनसीब इंसान होंगे. ये है एक ख़ूबसूरत बात आज के दिन की या प्रेम में होने पर हर दिन की.

Valentine Day, Love, Relationship, Love Aajkal, Movie  प्यार एक खूबसूरत एहसास है जिसे इंसान खुद से भी कर सकता है

लेकिन उनका क्या जो सिंगल हैं या जिनका ब्रेक-अप हो चुका? जिनके दिल अभी कुछ दिन पहले टूटे हैं. यार उन्हें भी हक़ है ख़ुश होने का. हां ये और बात है कि जिस तरह से सोशल मीडिया पर वैलेंटाइन डे को ले कर ग़दर मचा हुआ है, वो उनके ज़ख्मों को कुरेदने का काम कर रहा है. पर ये कोई इतनी बड़ी बात नहीं कि आज का दिन या ज़िंदगी का कोई भी दिन यूं बेमक़सद उदासी से गुज़ार दिया जाए. हम चुन सकते हैं अपने लिए अपनी खुशियां. वो जो नहीं है हमारे हिस्से में, उसके लिए सोच कर या रो कर दिन बिता देने से अच्छा है कि दिन को अपने हिसाब से जिया जाए.

आधा दिन तो उदास हो कर गुज़ार दिया गया है. अब बचे आधे दिन को अपने हिसाब से जीने की कोशिश कीजिए. ख़ुद को पैम्पर करना बुरा नहीं होता. जिस कपड़े में आप ख़ुद को सबसे ख़ूबसूरत महसूस करते हैं निकालिए उस सेट को और तैयार हो कर निकल जाइए घर से. आज रिलीज़ हुई है इम्तियाज़ अली की फ़िल्म लव आजकल सबसे पहले तो उसे देख आइए.

उनकी बाक़ी की फ़िल्मों से अलग एकदम फ़्रेश फ़िल्म है ये. इस फ़िल्म की कहानी आपको इंट्रोसपेक्ट करने का मौक़ा देगी. आप फ़िल्म देखते हुए सोच पाएंगे कि ज़िंदगी से आपको चाहिए क्या? क्या सच में आप जिस चीज़ के पीछे भाग रहें आपको वही चाहिए. जो मिल गया तो क्या सच में आपकी तलाश पूरी हो गयी?

इम्तियाज़ की ये फ़िल्म, फ़िल्म नहीं ज़िंदगी की पाठशाला है. ये सिर्फ़ जोई-वीर और लीना-रघु की कहानी नहीं हम सब की कहानी है. फ़िल्म का एक डायलॉग है, 'जो मैं हूं और जो मैं होना चाहता था वो अलग-अलग लोग हैं.' हम सबके अंदर थोड़ी जोई, थोड़ा वीर और थोड़ा रघु है. हम सब ज़िंदगी से बहुत कुछ चाहते हैं. जब चाहा हुआ मिल जाता है तो हम उसमें भी पर्फ़ेक्शन तलाशने लगते है. लेकिन ज़िंदगी कहां पर्फ़ेक्ट है.

लव-आजकल उसी इम्पर्फ़ेक्शन को सेलब्रेट करती है. फ़िल्म में एक साथ दो स्टोरी चल रही. एक रघु और लीना की दूसरी जोई और वीर की. यंग रघु कार्तिक ही प्ले कर रहें और मच्योर रघु रणदीप हुडा. और जो रणदीप हुडा जी रहें हक़ीक़त में लोग वैसी ही ज़िंदगी जीते हैं. जो ज़िंदगी जोई और वीर जी रहें उसे हम जीने की सोचते हैं मगर सोचा हुआ सच हो ये ज़रूरी नहीं.

ख़ैर, मैं मुद्दे से भटक गयी थी. मैं फ़िल्म रिव्यू नहीं कर रही बस आपको बताना चाह रही थी कि सिंगल हैं, तो इस बात दुःख न मना कर जश्न मनाइए. अकेले ही इस फ़िल्म को देख आइए. बाद में बैठिए इत्मिनान से किसी कॉफ़ी हाउस में. बुनिए सपने फिर से. इस बार कुछ अलग सपने. जैसे दुनिया घूमने के. पेंटिंग सीखने के. किसी अंडर-प्रिवलेज बच्चों के स्कूल में जा वॉलेंटियर करने के. ये भी तो इश्क़ ही है. बहुत ज़रूरी ख़ुद से इश्क़ करना. ज़िंदगी को हर हाल में गले लगा कर जीना.

ये भी पढ़ें -

Love Aajkal Review: ऐसी फिल्मों से दर्शकों को तंग करना अच्छी बात नहीं है इम्तियाज साहब!

Shikara movie Box Office Collection: शिकारा की कमाई ने फिल्‍म से जुड़ी आशंका सच कर दी

Malang movie review: आदित्य रॉय कपूर से उम्‍मीद न रखें, दिशा पटानी की खूबसूरती पर भरोसा करें

Valentine Day, Love Aajkal, Love

लेखक

अनु रॉय अनु रॉय @anu.roy.31

लेखक स्वतंत्र टिप्‍पणीकार हैं, और महिला-बाल अधिकारों के लिए काम करती हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय