होम -> समाज

 |  2-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 10 फरवरी, 2021 03:26 PM
रीवा सिंह
रीवा सिंह
  @riwadivya
  • Total Shares

उत्तर प्रदेश के कासगंज में पुलिसकर्मियों पर आज फिर बिकरू काण्ड जैसा हमला हुआ. पुलिस वहां के गांव में अवैध शराब का कारोबार बंद कराने गयी थी लेकिन यह सर्वविदित है कि ऐसे कारोबारों से सरकारी सीढ़ियों तक कैसे चढ़ावा चढ़ता है. परिणामस्वरूप माफ़िया को पुलिस के आने की ख़बर पहले ही हो गयी. पहुंचने पर शराब माफ़ियाओं ने पुलिस को घेर लिया और दारोगा, अशोक व सिपाही, देवेंद्र को बंधक बना लिया। मौका मिलते ही सम्पर्क किया गया और अतिरिक्त पुलिस बल की मदद ली गयी. कॉम्बिंग के दौरान सिपाही अर्धनग्न अवस्था में मृत पाये गये, उनकी हत्या कर दी गयी और दारोगा खेत में लहूलुहान पड़े मिले.

UP Police, UP, Liquor, Smuggler, Kasganj, Murder, Police Encounter, Encounter, Yogi Adityanathहमले में घायल साथी को ले जाते यूपी पुलिस के जवान

इस मामले में योगी सरकार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए रासुका लगा दी है और आरोपियों की तलाश जारी है. बिकरू काण्ड के बाद योगी सरकार ने जिस तरह काम किया उससे राज्य के माफ़ियाओं में दहशत का माहौल बन गया था जिसके बाद एक वर्ष के भीतर ही दिल दहलाने वाली यह घटना भयावह है. एक छोटी टीम के साथ किसी ऑपरेशन पर निकलना पुलिस के लिए जोखिम भरा हो चुका है.

शहर के बीचों-बीच रह रहे गुंडे आतंकवादियों की तरह वर्दीधारियों पर हमले कर रहे हैं. यह सब इतना सहज होना ख़तरनाक है वह भी तब जब उन्हें पता है कि हश्र क्या हो सकता है. लहूलुहान दारोगा की तस्वीर मायूस करती है. सिपाही शहीद हो गये, कुछ घायल हैं.

शहीद सिपाही, देवेन्द्र, के परिवार के लिये मुआवज़े और नौकरी की घोषणाएं हो गयी हैं लेकिन ब्रह्माण्ड की कोई भी क़ीमत इतनी बड़ी कहां हो सकी है जो रुकी हुई सांसों में जान डाल दे. ज़रूरी है कि ऐसे माफ़ियाओं पर कठोरतम तरीके से नकेल कसी जाए. दिल दहलाने वाली इस घटना ने नींद उड़ा दी है. पुलिस अब भी छानबीन कर रही है, पता नहीं सुबह तक कितने पुलिसकर्मी किस स्थिति में मिलें.

उन गुंडों के लिए मुखबिरी करने वाला भी कोई ख़ास ही होगा. पैसे की ख़ातिर ज़मीर बेचना जबतक आसान रहेगा, ईमानदारी और कर्त्तव्यनिष्ठा लहूलुहान होती रहेगी.

ये भी पढ़ें -

दीप सिद्धू को हीरो बनाने से लेकर उसकी गिरफ्तारी तक पूरी कहानी 'फिक्स' है!

एडिशनल एसपी टिंकी ने 'कुत्ते की मौत मरना' कहावत के मायने ही बदल दिये

'आंदोलनजीवी' बना 'शब्दभेदी बाण', सामने आई योगेंद्र यादव की तीखी प्रतिक्रिया!

लेखक

रीवा सिंह रीवा सिंह @riwadivya

लेखिका पेशे से पत्रकार हैं जो समसामयिक मुद्दों पर लिखती हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय