charcha me| 

होम -> समाज

 |  2-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 10 अप्रिल, 2022 04:59 PM
रीवा सिंह
रीवा सिंह
  @riwadivya
  • Total Shares

चाहे वो यूपी हो या फिर मध्य प्रदेश या फिर देश का कोई और राज्य पत्रकारों को लिहाज से स्थिति कहीं भी ठीक नहीं है. उत्तर प्रदेश के बलिया में जिन पत्रकारों ने पेपर लीक के मामले को उजागर किया, ज़िला प्रशासन द्वारा उन्हें ही गिरफ़्तार कर लिया गया है. मध्य प्रदेश के सीधी ज़िले में एक विधायक के ख़िलाफ़ ख़बर चलाने पर यूट्यूब के पत्रकारों को थाने में बुलाकर कपड़े उतरवाये गये. आईपीसी अथवा सीआरपीसी की किस धारा के अंतर्गत क्वांटम ऑफ़ पनिश्मेंट कपड़े उतरवाना है, थाना प्रभारी ही बता सकेंगे.

Journalist, Journalism, Police, UP, Madhya Pradesh, Law And Order, Prime Minister, Narendra Modiराज्य कोई भी हो पुलिस और प्रशासन लगातार पत्रकारों के साथ ज्यादती कर रहा है

केंद्र में प्रधान मंत्री अपने मन की बात हमेशा कह लेते हैं, प्रेस कॉन्फ़्रेंस एक भी नहीं रखते. हां, एक बार शामिल हुए थे 2019 के चुनाव से ठीक पहले. कम से कम बैठे तो थे. अमित शाह ने उन्हें बोलने नहीं दिया और वे दायें-बायें, ऊपर-नीचे देखते रहे. शायद चिड़िया गिन रहे होंगे.

यही प्रधान मंत्री संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन में गौरवांवित हो हमारे देश की लोकतांत्रिक संरचना व अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर कसीदे पढ़ आये थे.

आतंकवादियों से ख़तरा मुनासिब है लेकिन लोकतंत्र में सरकार को पत्रकारों से कैसा भय? आलोचनाओं का स्वागत, आत्मविश्लेषण... यह सब सिर्फ़ किताबों के लिये बचे हैं? क्योंकि अपनी ग़लती सुधारने के बजाय पत्रकारों को घेर लेना सरकार को ज़्यादा पसंद आने लगा है.

जैसे हालात हैं अपने सरकार विरोध के लिए मशहूर कवि दुष्यंत कुमार ने शायद उन्हें पहले ही देख लिया हो और रचना की हो कि -

मत कहो आकाश में कोहरा घना है

ये किसी की व्यक्तिगत आलोचना है

ये भी पढ़ें -

18+ के लिए नया Booster Dose, टीका लगवाने से लेकर अपॉइंटमेंट तक जानिए सबकुछ

Veg Vs Non-Veg: पशुओं को जीवित रहने का अधिकार है या नहीं?

हत्या बनाम आत्महत्या के आंकड़ों से समझिये यूपी बिहार वालों का जीवन संघर्ष

लेखक

रीवा सिंह रीवा सिंह @riwadivya

लेखिका पेशे से पत्रकार हैं जो समसामयिक मुद्दों पर लिखती हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय