charcha me| 

होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 30 मार्च, 2019 06:07 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

बच्चे के लिए मां और मां की ममता को शब्दों में बयां कर पाना तो बहुत मुश्किल है. लेकिन इसे एक वाक्य में समझ सकते हैं कि- ईश्वर हर जगह नहीं हो सकते इसलिए उन्होंने मां बनाई. लेकिन बहुत सी महिलाएं ऐसी भी हैं जो मां नहीं बन सकतीं. सोचिए उन महिलाओं की मांओं के दिल पर क्या गुजरती होगी जिनकी बेटियां मां बनने का सुख नहीं ले पातीं.

लेकिन एक मां ने अपनी बेटी के लिए वो किया है जो शायद कि कोई मां कर पाती है. वो जिसे नानी बनना था, वो अब नानी भी है और मां भी. कुछ रिश्ते पहेली लगते हैं, लेकिन आज के जमाने में कुछ भी असंभव नहीं है और एक मां के लिए तो बिल्कुल भी नहीं. अमेरिका की 55 साल की एमा माइल्स ने अपनी 31 वर्षीय बेटी ट्रेसी स्मिथ के बच्चे को जन्म देकर अपनी बेटी को दुनिया का सबसे खूबसूरत तोहफा दिया है.

mother55 साल की उम्र में नानी बनी मां

ट्रेसी जब 16 साल की थीं तब उनमें MRKH सिंड्रोम का पता चला था- ये एक ऐसी स्थिति होती है जिसके कारण योनि और गर्भाशय अविकसित या अनुपस्थित होते हैं, जबकि बाहरी जननांग एकदम सामान्य होते हैं. 5000 महिलाओं में से कोई एक महिला इस विकृति से प्रभावित होती है और ये लाइलाज है. डॉक्टरों ने ट्रेसी को कह दिया था कि वो कभी भी अपने बच्चे को जन्म नहीं दे पाएंगी. वो या तो बच्चा गोद ले सकती थीं या फिर उन्हें अपने बच्चे को जन्म देने के लिए किराए की कोख यानी सैरोगेट मदर की जरूरत थी.

ट्रेसी इस सच से टूट चुकी थीं कि वो मां नहीं बन सकतीं. लेकिन एक मां कभी अपने बच्चे को दुखी नहीं देख सकती. और इसलिए एमा ने अपनी बेटी के बच्चे के लिए सेरोगेट मदर बनने का फैसला किया.

एमा 55 साल की हैं और उनका गर्भाशय भी सही था. IVF के जरिए ट्रेसी और उनके पति से बने शुक्राणु को एमा के गर्भ में रखा गया. एमा मेनोपॉज़ से गुजर रही थीं फिर भी वो बच्चे को अपने गर्भ में रखने में सफल रहीं क्योंकि उनका गर्भाशय स्वस्थ था. गर्भावस्था के लिए आदर्श वजन भी जरूरी था. इसके लिए एमा ने अपना 38 किलो वजन भी कम किया. और उन्हें कुछ हार्मोन्स भी लेने पड़े जिसकी जरूरत गर्भावस्था के दौरान होती है.

motherट्रेसी कभी भी अपने बच्चे को जन्म नहीं दे सकती थीं

ज्यादा उम्र में मां बनना किसी भी महिला के लिए मुश्किल होता है, खासकर 35 की उम्र पार कर चुकी महिलाओं की गर्भावस्था में ज्यादा परेशानियां आती है और गर्भपात का ज्यादा खतरा होता है. लेकिन ये मां अपनी बेटी को मातृत्व सुख देने के लिए सभी परेशानियों से लड़ गई. और 55 की उम्र में भी मां बन गई, जिस उम्र में महिलाएं अपने नाती पोतों को खिलाती हैं.

एमा ने एक स्वस्थ बेटी को जन्म दिया, जो नॉर्मल नहीं ऑपरेशन से हुई, क्योंकि प्राकृतिक जन्म के लिए एमा की उम्र ज्यादा थी. एमा कहती हैं- 'मेरी बेटी बच्चे को जन्म नहीं दे सकती, ये बात मुझे खाए जा रही थी. वो मुझसे कभी ये नहीं कह सकती थी इसलिए मैंने उससे खुद कहा कि अगर उसे मेरी जरूरत हो तो मैं हूं. उम्र की वजह से बच्चे को जन्म देने की फिक्र मुझे नहीं थी. मैं तो बस अपनी बेटी के लिए ये करना चाहती थी. अपनी बच्ची को मां बनाने के लिए मैं दोबारा मां बनी. भविष्य में भी अगर उन्हें इस बच्ची का भाई या बहन चाहिए होगा तो भी मैं तैयार रहूंगी'

motherअपनी मां का दिया हुआ ये तोहफा हर बेटी को नहीं मिलता

ट्रेसी के पास शब्द नहीं हैं अपनी मां को शुक्रिया कहने के. भावनाएं आंखों के आंसू के रूप में दिखाई दे रही हैं. अब ट्रेसी के साथ-साथ बच्ची की नानी भी 'नानी मां' बन गई. ज्यादा उम्र में मां बनना किसी के लिए भी आसान नहीं होता. शरीर साथ दे न दे, लेकिन महिलाएं शर्म की वजह से भी ये फैसला नहीं कर पातीं. लेकिन ये कहानी तमाम माओं के लिए उदाहरण है जो अपनी बेटियों के लिए कुछ करना तो चाहती हैं लेकिन कर नहीं पातीं. 'नानी मां' शब्द को सार्थक करने वाली ये कहानी बेहद प्रभावित करती है. और इस बात को एक बार फिर सिद्ध करती है कि मां ईश्वर का ही रूप होती है. ऐसी माओं को सलाम.

ये भी पढ़ें-

इस महिला के झूठ पर गुस्सा नहीं तरस आता है

21 बच्चों की मां, और गिनती चालू है...

'एक बेटे की खातिर 7 डिलीवरी और दो अबॉर्शन सहने वाली मां की मौत', क्‍या वाकई हम 2019 में हैं?

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय