होम -> समाज

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 25 जनवरी, 2019 05:06 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujmaurya87
  • Total Shares

दक्षिण भारत के लोगों में अभिनेताओं के लिए कैसी दीवानगी है, ये बताने की जरूरत नहीं है. वहां कोई भी फिल्म रिलीज होती है तो फिल्मी हस्तियों के फैन अपने-अपने तरीकों से जश्न मनाते हैं. कुछ ढोल-नगाड़े बजाकर नाचते-गाते हैं तो कुछ आतिशबाजी कर के अपनी खुशी का इजहार करते हैं. लगभग हर फिल्म की रिलीज पर हीरो के दुग्धाभिषेक (पाल अभिषेकम) की खबरें भी खूब आती हैं. एक बार फिर ऐसी ही खबर आई है, जिसमें फैन्स दक्षिण भारत के सुपरस्टार सिंबू की फिल्म रिलीज से पहले दुग्धाभिषेक कर रहे हैं, लेकिन अभिषेक करने के लिए ये दूध लाया कहां से जा रहा है? घर से? दुकान से खरीदकर? या चोरी कर के और लूटकर?

अभिनेताओं के अभिषेक के लिए जहां बहुत से लोग अपने घरों से और दुकानों से दूध खरीदकर लाते हैं, वहीं फैन्स का एक बड़ा तबका ऐसा है, जो पैसे खर्च करने की जहमत नहीं उठाता और दूध लूट लेता है. दूध लूटकर उससे फिल्मी हस्तियों का अभिषेक होता है. इसमें सिर्फ सिंबू ही नहीं हैं, बल्कि रजनीकांत, अजीत और कमल हासन जैसी हस्तियां भी शामिल हैं. दूध की लूट की घटनाओं से सबसे अधिक दिक्कत हो रही है दूध का व्यापार करने वालों को. उन्हें भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है, जिसकी शिकायत उन्होंने लगभग सभी फिल्मी हस्तियों से की है. कमल हासन ने तो फिर भी अपने फैन्स को रोकने की कोशिश की है, लेकिन रजनीकांत और अजीत के फैन माहौल बिगाड़ने में लगे हुए हैं. जब लोग रजनीकांत को भगवान मानकर उनकी पूजा करते हैं तो क्या दूध की लूट-पाट को रोकने की जिम्मेदारी उनकी नहीं है? आखिर वो थलाइवर हैं... और चोरी के दूध से अभिषेक करवाकर हासिल क्या होगा?

रजनीकांत, दक्षिण भारत, तमिलनाडु, सिनेमारजनीकांत को फैन्स को दुग्धाभिषेक करने से रोकना चाहिए. खासकर चोरी के दूध से.

सिंबू ने खुद 'उकसाया' है लोगों को

कुछ दिनों पहले सिंबू (Silambarasan Thesingu Rajendar) ने एक वीडियो जारी किया था, जिसमें कहा था कि उनकी फिल्म Vantha Rajavathaan Varuven की रिलीज पर फैन्स उनके कटआउट का दुग्धाभिषेक ना करें. उनके इस वीडियो की खूब आलोचना हुई. लोगों ने कहा कि उनकी इतनी फैन फॉलोइंग ही नहीं है कि उनका दुग्धाभिषेक हो. इस आलोचना ने सिंबू और उनके फैन्स को उकसाने का काम किया. इसके बाद सिंबू ने दूसरा वीडियो जारी किया और तंज भरे आंदाज में अपने फैन्स से कहा कि उनकी फिल्म रिलीज होने पर उनके कटआउट को दूध से नहला दें. बस फिर क्या था, अब हर तरफ दूध बह रहा है, बेमतलब, बेवजह. सबसे बड़ी बात ये है कि जो दूध बहाया जा रहा है, उसमें काफी ऐसा दूध है, जिसे खरीदने में मेहनत की कमाई भी नहीं लगी, बल्कि उसे तो लूटा गया है.

रजनीकांत, दक्षिण भारत, तमिलनाडु, सिनेमासिंबू ने फैन्स से कहा था कि उनकी फिल्म रिलीज होने पर उनके कटआउट को दूध से नहला दें.

रजनीकांत और अजीत के फैन बने मुसीबत

हाल ही में रजनीकांत की 'पेट्टा' और अजीत की 'विश्वासम' फिल्म रिलीज हुई थी. इस दौरान भी दोनों ही अभिनेताओं का दुग्धाभिषेक हुआ. और हो भी क्यों ना... लोग इन्हें अपना भगवान जो मानते हैं. लेकिन ये भगवान बर्बाद होते दूध और लूट-पाट की घटनाओं को नजरअंदाज करते से दिख रहे हैं. हर बार फिल्म रिलीज के मौकों पर ऐसी घटनाओं से तंग आकर दूध व्यापारियों ने लगभग सभी हस्तियों से इसकी शिकायत की है और फैन्स को ऐसा रोकने की गुजारिश की है. कमल हासन और शिवकार्तिकेयन ने तो अपने फैन्स से फिल्म की रिलीज के मौके पर कुछ अच्छा करने जैसे रक्तदान, पेड़-पौधे बांटने और हेलमेट लगाने को लेकर जागरुकता फैलाने के लिए कहा, लेकिन बाकी किसी ने कोई एक्शन नहीं लिया. सबसे अधिक दिक्कतें तो रजनीकांत और अजीत के फैन्स कर रहे हैं, क्योंकि सबसे अधिक फैन हैं भी इन्हीं लोगों के. एक थाला हैं, और दूसरे थलाइवर.

रजनीकांत की क्यों है जिम्मेदारी?

रजनीकांत को थलाइवर का टाइटल मिला हुआ है. थलाइवर का मतलब होता है मुखिया यानी वो जो सबसे ऊपर है, सबका लीडर है. फैन्स अपने लीडर की ही बात मानते हैं. ऐसे में रजनीकांत को फैन्स को दुग्धाभिषेक करने से रोकना चाहिए. और कम से कम चोरी के दूध से दुग्धाभिषेक की तो निंदा खुलेआम करते हुए फैन्स से ऐसा न करने की गुजारिश करनी चाहिए. वैसे भी, दक्षिण भारत में फिल्मी हस्तियों के फैन जितना दूध यूं ही दुग्धाभिषेक में बर्बाद कर देते हैं, उतने में कम से कम एक दिन तो सड़क किनारे भीख मांगते लोगों और बच्चों को पोषण मिल ही सकता है, वह दूध पी सकते हैं. जैसे कमल हासन और शिवकार्तिकेयन ने अपने फैन्स से उनका दुग्धाभिषेक न करने की गुजारिश की है, रजनीकांत को भी वैसा करना चाहिए या उससे कुछ बेहतर भी कर सकते हैं. दुग्धाभिषेक में कई बार हादसे भी हो जाते हैं. कुछ दिन पहले ही रजनीकांत के पाल अभिषेकम के दौरान एक कट-आउट गिरने से 5 लोग घायल हुए थे.

यूं तो दूध व्यापारियों ने इसकी शिकायत पुलिस में भी की थी, लेकिन पुलिस शिकायत दर्ज करने को तैयार ही नहीं है. पुलिस का कहना है कि जब चोरी दुकान के अंदर से होगी तो ही शिकायत दर्ज होगी. दरअसल, दूध एकदम तड़के दुकानों में बांटा जाता है. दूध की गाड़ियां दुकानों के बाहर दूध के कैरेट रख देती हैं, जिसे बाद में दुकान खुलने पर दुकानदार अंदर रख लेता है, इसलिए पुलिस अपना पल्ला झाड़ते हुए शिकायत दर्ज करने से मना कर रही है. वैसे भी पुलिस बल आजमाने से आसान और अच्छा तरीका ये है कि फिल्मी हस्तियां खुद आगे आएं और अपने फैन्स से ऐसा करने के लिए मना करें. लोग पुलिस से टकराने को तैयार रहते हैं, लेकिन अपने चहेते अभिनेता की बातों को नहीं काटते. वहीं सिंबू को भी सामने आकर अपने फैन्स से माफी मांगनी चाहिए और भविष्य में कभी दुग्धाभिषेक नहीं करने की गुहार लगानी चाहिए.

ये भी पढ़ें-

हूबहू पद्मावत की तरह करणी सेना के निशाने पर कंगना रनौत की मणिकर्णिका

Sridevi Bungalow के '5 संयोग', जो बोनी कपूर के नोटिस को सही साबित करते हैं!

रजनीकांत के इस जादू के आगे कहां लगते हैं सलमान-शाहरुख

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय