होम -> समाज

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 05 मार्च, 2020 06:18 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर पूरी दुनिया में हंगामा मचा हुआ है. इस वायरस ने केवल लोगों की सेहत ही नहीं बल्कि बाज़ार, मेडिकल टेक्नोलॉजी, और सोशल सिस्टम को भी हिलाकर रख दिया है. WHO के ताजा आंकड़ों के मुताबिक दुनियाभर में कोरोना वायरस के 95,000 से ज्यादा मामले सामने चुके हैं. इसकी वजह से 3,160 लोगों की मौत हो चुकी है. दुनिया के 81 मुल्कों में वायरस पहुंच चुका है. चीन के बाद दक्षिण कोरिया, इटली, और इरान इसके हॉटस्पॉट बन गए हैं. हेल्थ और हेल्थ से जुड़ी नई-नई टेक्नोलॉजी रखने वाले देशों के लिए भी इस चुनौती से निपटना मुश्किल हो रहा है. अमेरिका में महज 3000 से ज्यादा लोगों की जांच ही हो पाई है.

Coronavirus, World, Death,Treatmentइटली के मिलान शहर में घूमने आया पर्यटक जोड़ा कोरोना वायरस की तमाम चेतावनियों के बावजूद खुद को रोक नहीं पाया...

वायरस का मुकम्मल इलाज मिलने तक हर स्तर पर सावधानियां बरतने की सलाह दी जा रही है. कई बड़े नेता भी कह रहे हैं कि कुछ दिनों के लिए अपनों से दूरियां बना लें.

अमेरिकाः 10 लाख टेस्ट का था दावा, 3600 ही कर पाए, कैलिफोर्निया में इमरजेंसी

अमेरिका में कोरोना वायरस (Coronavirus) तेजी से फैल रहा है. कैलिफोर्निया में एक मरीज की मौत के बाद इमरजेंसी घोषित कर दी गई है. यहां मरने वालों का आंकड़ा अब 11 हो गया है। अमेरिका में कोरोना वायरस की जांच या स्क्रीनिंग की रफ्तार काफी धीमी चल रही है. यहां अभी तक केवल 3600 टेस्ट ही हो पाए हैं. अमेरिका के फ़ूड एंड ड्रग्स (FDA) कमिश्नर ने पहले दावा किया था कि इस हफ्ते में 10 लाख लोगों के टेस्ट हो जाएंगे. FDA कमिश्नर के मुताबिक जांच के लिए इस्तेमाल होने वाली टेस्ट किट मिलने और लैब से बाहर जांच में मुश्किलें आ रही हैं. जांच के मामले में दक्षिण कोरिया और यूरोप कहीं बेहतर कर रहे हैं.

इटलीः इस यूरोपीय देश में चीन जैसे हालात, सब बंद

इटली, कोरोना वायरस के हॉटस्पॉट के तौर पर उभरा है. यहां वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए सभी स्कूल और यूनिवर्सिटियों को अगले 10 दिन के लिए बंद कर दिया गया है. कई शहरों में चीन की तरह ही लॉकडाउन जैसी स्थिति बन गई है. प्रभावित इलाकों में जाने या वहां से निकलने की मनाही है. सभी पब्लिक प्लेस पर होने वाले इवेंट पर रोक लगा दी गई है. म्यूजियम बंद हैं. यहां मौतों का आंकड़ा 79 से 107 पहुंच गया है और इंफे़क्शन के मामले 3000 से ज़्यादा हो गए हैं. 1 लाख से ज्यादा लोगों को अहियात के तौर पर क्वेरेंटीन प्रोसेस के तहत रखा गया है.

ईरानः सत्ता ही बीमार, 54 हजार कैदी होंगे रिहा

ईरान दुनिया का इकलौता ऐसा देश है, जहां के सबसे ज्यादा सांसद या मंत्री इस वायरस की चपेट में आ गए है. यहां की संसद के 290 सदस्यों में से 23 कोरोना वायरस की चपेट में हैं. ईरान की सरकार, कोरोना वायरस से निपटने के लिए अब सेना की मदद भी ले रही है. इसके अलावा कोरोना की वजह से यहां की जेलों में बंद कैदियोंं को बड़ी राहत मिल गई है. ऐसे 54 हजार कैदी जिनको कम गंभीर अपराध में सजा दी गई थी उन्हें फिलहाल बेल पर रिहा करने के आदेश दिए गए हैं. यहां की अथॉरिटी का कहना है कि जेलों में कोरोना वायरस न फैल जाए इसके लिए यह कदम उठाया जा रहा है. ईरान एजेंसियों से मिली जानकारी के मुताबिक मगंलवार से बुधवार तक यहां कोरोना वायरस से इंफेक्शन के 586 नए मामले दर्ज हुए हैं.

भारतः ईरान में फंसे भारतीयों के लिए बनेगी लैब, देश में इंफेक्शन के 30 मामले

देश में कोरोना वायरस से इंफेक्शन के 30 मामलों की पुष्टि हुई है. ईरान में कोरोना वायरस के टेस्ट के लिए लैब बनाई जाएगी. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक ईरान में करीब 1200 भारतीय हैं, जिन्हें वहां से निकालने से पहले इस लैब में उनकी स्क्रीनिंग और टेस्ट किए जाएंगे. भारत में अबतक कोरोना वायरस की जांच के लिए 15 लैब थीं. अब सरकार 19 नई लैब तैयार कर रही है.

दिग्गज नेताओं की सलाहः ‘दूरियां अच्छी हैं, ज़्यादा पास न आओ’, नमस्ते करो, वायरस से बचो

कोरोना वायरस के फैलने की रफ्तार के मुकाबले, इसके इलाज़ और जांच की रफ्तार काफी धीमी है. इसे देखते हुए ज़्यादातर देशों में एक ट्रेंड उभर कर आ रहा है. ज्यादातर देशों की हेल्थ अथॉरिटी और नेता लोगों को सलाह दे रहे हैं कि ज्यादा मिले-जुले नहीं. लोगों को हाथ मिलाने से भी परहेज़ करने को कहा जा रहा है. इसी कड़ी में इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने लोगों से अपील की है कि वे हाय-हैलो के लिए हाथ न मिलाएं और भारतीयों के परंपरागत तरीके से दोनों हाथों को जोड़कर एक-दूसरे को अभिवादन करें.

Coronavirus, World, Death,Treatment'नमस्ते' के साथ अभिवादन करते इजराइल प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू

इसके अलावा दुनिया के कई देशों में पब्लिक पार्क, स्वीमिंग पूल, स्टेडियम और क्लब जैसी जगहों को भी बंद कर दिया गया है.

Panic-buying: मास्क, सेनेटाइज़र जैसे प्रोटेक्टिव प्रोडक्ट की सप्लाई पर असर

कोरोना वायरस को लेकर दुनियाभर में मास्क,सेनेटाइज़र जैसे उत्पादों की बेतहाशा खरीदारी और इनकी कीमतें काफी बढ़ गई है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इस ट्रेंड को लेकर चिंता जाहिर की है. WHO के मुताबिक इस ट्रेंड से उन जगहों के लोगों को सबसे ज्यादा नुकसान होगा जहां मास्क जैसी चीजों की सबसे जरूरत है.

ये भी पढ़ें -

Coronavirus की भविष्यवाणी वाली दो किताबें: किसी के लिए बिमारी, किसी ने कहा था जैविक हथियार!

Coronavirus भारत में फैला ही नहीं होता, यदि...

Coronavirus फैलाने वाली एक महिला पर हत्‍या का केस!

Coronavirus Update, Coronavirus India, Coronavirus Cases

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय