होम -> सोशल मीडिया

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 05 मार्च, 2020 12:11 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर पूरा विश्व परेशान है. एक के बाद एक दुनिया भर से लोगों की मौत (Death due to Coronavirus) की खबरें मीडिया के जरिये फिजा में तैर रही हैं. तनावपूर्ण माहौल है. लोग परेशान हैं कि तब क्या होगा? जब ये खतरनाक वायरस उनके नजदीक पहुंचेगा और उनकी जिंदगियों को तबाह कर देगा. तमाम तरह के सवाल जस के तस बने हुए हैं. इस बीच सोशल मीडिया (Social Media on Cornonavirus) पर एक अलग ही चर्चा चल रही है. दो अलग अलग किताबों (Sylvia Browne and Dean Koontz book ) के पेज शेयर किये जा रहे हैं और कहा जा रहा है कि इन दोनों ही किताबों के दो अलग अलग लेखक अपने फिक्शन में इस बात का जिक्र कर चुके हैं कि साल 2020 खतरनाक होने वाला है. सिल्विया ब्राउन (Sylvia Browne) और डीन कूंट्ज (Dean Koontz ) इन दोनों ही लेखकों ने अपनी किताबों में 2020 का जिक्र करते हुए कहा है कि है कि साल 2020 में एक बीमारी आएगी जो वुहान को प्रभावित करेगी कई जिंदगियों को तबाह कर देगी. दोनों ही किताबों पर नजर डालें तो मिलता है कि जो बात काफी समय पहले फिक्शन के नाम पर लिखी गई हैं बीमारी के चलते उसका शब्द दर शब्द सत्य प्रतीत होता नजर आ रहा है.

दुनिया भर में आतंक का पर्याय बन चुके कोरोना वायरस (CoronaVirus) को लेकर सोशल मीडिया  (Social Media)पर एक अलग ही बहस चल रही है. ट्विटर पर दो लेखकों की किताबों (Books On Coronavirus) के पेज शेयर किये जा रहे हैं. दोनों लेखकों ने बहुत पहले ही बता दिया था कि 2020 में एक ऐसी बीमारी आएगी जो पूरी दुनिया में कई लोगों की जान लेगी.    2020 में कोरोना वायरस पूरी दुनिया में दहशत मचाएगा इसे बताती दो अलग अलग किताबें

कोरोना वायरस के मद्देनजर अगर आंकड़ों पर गौर करें तो जो जानकारियां निकल कर सामने आ रही हैं वो कई मायनों में चौंकाने वाली हैं. बताया जा रहा है कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के अब तक 90,933 मामले सामने आए हैं और 3,119 लोग इस खतरनाक बीमारी के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं (Coronavirus Death) बैठे हैं. इस खौफनाक बीमारी की कोई दवा फिलहाल बाजार में मौजूद नहीं है इस कारण पशोपेश की स्थिति बनी हुई है.

जिक्र इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रही दो किताबों का हुआ है. तो शुरुआत डीन कूंट्ज से. कूंट्ज ने 39 साल पहले 1981 में अपनी किताब The Eyes Of Darkness में कोरोना को लेकर चर्चा की थी. किताब में कूंट्ज ने लिखा था कि एक वायरस आएगा जिसका नाम होगा वुहान-300 जो दुनिया में तबाही मचाएगा. बता दें कि कूंट्ज के इस फिक्शन में लिखा गया है कि कहीं पर जैव हथियार बनाने की कोशिश हो रही है और इसी दौरान एक वायरस का जन्म होता है.

Coronavirus, Death, Forecast, India, China, Books  40 साला पहले डीन भी अपनी किताब में वुआन का जिक्र कर चुके हैं

इंटरनेट पर तमाम ऐसे यूजर्स हैं जो इस बात पर एकमत हैं कि हम एक बेहद अजीब दुनिया में रहकर जिंदगी जी रहे हैं. यहां कई बार ऐसी कहानियां हमारे सामने से होकर गुजरती हैं जिनके अर्थ कई मायनों में चौंकाने वाले हो सकते हैं. लोग इस बात को लेकर हैरान हैं कि 40 साल पहले कही बात आज सच साबित हो रही है.

सोशल मीडिया पर सिल्विया ब्राउन की किताब 'End Of Days - Predictions and Prophecies About The End Of The World' भी खूब सुर्खियां बटोर रही है किताब का 312 नंबर का पेज शेयर किया जा रहा है जिसमें लेखिका ने बीमारी के लक्षणों के बारे में बात की है. सिल्विया ने अपनी किताब में बताया है कि 2020 में निमोनिया की तरह की एक बीमारी आएगी जो पूरे विश्व में फैलेगी. बीमारी लोगों के फेफड़े और ब्रांकाई ट्यूब्स पर हमला करेगी और इसका कोई इलाज नहीं होगा.

Coronavirus, Death, Forecast, India, China, Books  कोरोना रुपी महामारी का जिक्र करती सिल्विया की किताब

किताब में लेखिका ने इस बात का भी जिक्र किया है कि जितनी तेजी से ये बीमारी आएगी ये उतनी ही तेजी से गायब भी होगी. इसके बाद इसका फिर उदय होगा ये लोगों को बर्बाद करेगी उनकी जिंदगियां लील लेगी फिर हमेशा के लिए गायब हो जाएगी.

जिस हिसाब से लोग सोशल मीडिया पर किताबों के पेज शेयर कर रहे हैं साफ़ हो गया है कि दोनों ही लेखकों ने अपनी कल्पनाओं में ये जानलेवा बीमारी और मौत का मंजर बहुत पहले ही देख लिया था और दुनिया को बताया था कि आने वाले वक़्त में हालात कैसे होंगे.

अब जबकि दोनों ही लेखकों की बातें सच प्रतीत हो रही हैं उन तमाम लोगों में खौफ बढ़ गया है जो अब तक इस बीमारी को हलके में लेते हुए ये सोच रहे थे कि इस बीमारी से उनका कोई नुकसान नही होने वाला. बीमारी कैसे ख़त्म होगी ? इस जानलेवा बीमारी की दवा कब तक आती है?

सवाल कई हैं जिनके जवाब वक़्त देगा. लेकिन जो वर्तमान है और जिसमें हम बीमारी के चलते लोगों को मरते हुए देख रहे हैं. उसे देखकर यही लग रहा है कि जो चीजें बहुत पहले लिखी जा चुकी थीं उन्हें किसी भी हाल में हमें हलके में नहीं लेना चाहिए और शुरूआती सावधानियां खुद ही बरतनी चाहिए. 

ये भी पढ़ें -

Coronavirus फैलाने वाली एक महिला पर हत्‍या का केस!

Coronavirus भारत में फैला ही नहीं होता, यदि...

Coronavirus disease से बचाव के 5 उपाय जो साथ रखे जा सकते हैं

Sylvia Browne, Dean Koontz, Coronavirus

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय