होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 29 मार्च, 2020 08:04 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

कोरोना वायरस (Coronavirus) ने देश दुनिया की क्या हालत की है किसी से छुपा नहीं है. बीमारी का खौफ कुछ ऐसा है कि पूरी दुनिया की एक बड़ी आबादी अपने अपने घरों में रहने को मजबूर हैं. बीमारी का असर देश दुनिया की अर्थव्यवस्था (Coronavirus impact on global economy) पर भी पड़ा है और तमाम अहम चीजों का प्रोडक्शन बन्द है. बीमारी को लेकर मलेशिया (Malaysia) भी गंभीर है और इसका बड़ा असर कंडोम (Condom) के उत्पादन पर हुआ है. मलेशिया ने कोरोना वायरस के चलते अपना कंडोम प्रोडक्शन बंद कर दिया है. मलेशिया की कंपनी कारेक्स बीएचडी का शुमार विश्व की उन कंपनियों में है जो विश्व के हर 5 कंडोम में से 1 का निर्माण करती है. बताया जा रहा है कि हाल के दिनों में कंपनी ने अपनी 3 में से किसी भी एक फैक्ट्री में कंडोम का निर्माण नहीं किया है. कंपनी नहीं चाहती कि इनके प्रोडक्शन से सुरक्षा को आंच आए और ये वायरस फैले.

Coronavirus, Lockdown, Condom, Malaysia, Productionकोरोनावायरस की समस्या ग्लोबल है इसलिए सबसे ज्यादा कंडोम उद्योग प्रभावित हुआ है

बता दें कि फिलहाल दुनिया 100 मिलियन कंडोम की शॉर्टेज की कमी से गुजर रही है. जब संकट इतना बड़ा हो और कंडोम की मांग दुनिया में लगातार बढ़ रही हो तो कंपनी के लिए भी ज़रूरी हो जाता है कि वो लोगों की मांग का पूरा ख्याल रखे और उसे पूरा करे. कंपनी कंडोम का उत्पादन कर सके इसके लिए सरकार ने भी अनुमति दे दी है मगर शर्त ये रखी गई है कि कंपनी अपनी 50% वर्क फ़ोर्स के साथ कंडोम का उत्पादन करे मगर जरूरी एतियात के साथ.

कंपनी के चीफ एग्जीक्यूटिव गोह मिहा किआत सरकार की इस शर्त से खासे हैरत में हैं उन्होंने कहा है कि कंडोम के ठीकठाक उत्पादन में अभी वक़्त लगेगा. अभी जो हमारी क्षमताएं हैं उस लिहाज से हम केवल अपनी क्षमताओं का आधा ही उत्पादन कर सकते हैं.

साथ ही उन्होंने ये भी कहा है कि जिस तरह से पूरी दुनिया में कंडोम की कमी दिखाई दे रही है स्थिति खासी चिंताजनक है. अफ्रीका जैसे देश का हवाला देते हुए कंपनी के चीफ एग्जीक्यूटिव ने कहा है अगर हालात ऐसे ही रहते हैं तो आने वाले वक्त में स्थिति बहुत गंभीर हो जाएगी. कंपनी भी प्रोडक्शन को लेकर बहुत गंभीर है और मानती है कि अगर सब कुछ ठीक रहा तो आने वाले 2-3 महीनों में स्थिति संभल जाएगी.

बता दें कि कोरोना वायरस का खतरा मलेशिया में भी है. यहां कोरोना के 2161 मामले सामने आए हैं और 26 लोगों ने अपनी जान से हाथ धोया है. आगे खतरा और न बढ़े इसलिए मलेशिया में भी लोगों की एक बड़ी संख्या सुरक्षा कारणों के चलते अपने अपने घरों में है.

गौरतलब है कि मलेशिया के बाद चीन और थाईलैंड वो देश हैं जहां कंडोम का उत्पादन या ये कहें कि निर्माण किया जाता है और चूंकि बीमारी चीन से ही शुरू हुई है इसलिए इन देशों ने भी अपनी तमाम छोटी बड़ी फैक्ट्रियों को बंद कर दिया है. सुरक्षा कारणों के चलते कंडोम निर्माता कंपनियों के साथ साथ हैंड ग्लव्स बनाने वाली कंपनियों को भी बंद किया गया है इसलिए वैश्विक बाजार में इन आइटम्स की कमी भी देखने को मिल रही है.

कोरोना वायरस के कारण बंद हुई फैक्ट्रियां कब दोबारा सुचारू ढंग से काम करती हैं इसका फैसला वक्त करेगा. लेकिन जो वर्तमान है उसे देखकर इस बात को बड़ी ही आसानी के साथ समझा जा सकता है कि क्या बड़ी क्या छोटी विश्व की तमाम शक्तियों को कोरोना वायरस ने अपने आगे झुका लिया है. अभी ये आगाज़ है और जब आगाज़ ही इतना खौफनाक हो तो फिर अंजाम के बारे में सोचना अपने आप में दहशत देता नजर आ रहा है.

ये भी पढ़ें -

Coronavirus news: इंडोनेशिया-मलेशिया के दो डॉक्टरों की कहानी में सच-झूठ मत देखिए...

Ramayan telecast तो दोबारा भी ब्लॉकबस्टर रहा

Coronavirus crisis में ट्रंप के टारगेट पर रहे शी जिनपिंग को मोदी का सपोर्ट हमेशा याद रखना होगा

Coronavirus, Disease, Death

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय