होम -> समाज

 |  2-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 03 मार्च, 2017 01:36 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

बेंगलुरु का एक नाई जिसने हाल ही में 3.2 करोड़ की गाड़ी खरीदी है. जी नहीं ये कोई शाहरुख खान या अंबानी का नाई नहीं, बल्कि आम लोगों के बाल काटकट 75 रुपए प्रति कटिंग लेने वाला साधारण इंसान है. ये कोई फेमस हेयरस्टाइलिस्ट नहीं है.

कुछ ऐसे ही जुमलों के साथ सोशल मीडिया पर फेमस हो गया है रमेश बाबू. लेकिन, यह कहानी किसी गरीब के हाथ अलादीन का चिराग लग जाने की नहीं है. बल्कि एक युवा और उसकी मेहनत की दास्‍तान है. भारत में बिजनेसमैन तो बहुत हैं, लेकिन सिर्फ कुछ ही ऐसे होते हैं जिनकी कहानी दुनिया के लिए मिसाल बन सकती है.

barbar_650_030317123453.jpg

कुछ हटके सोच-

रमेश की कमाई सलून से उतनी नहीं होती थी जितनी आपको उम्मीद है. रमेश 9 साल की उम्र से अपने पिता की तरह ही हेयर कटिंग का काम करना सीख रहे थे. रमेश की जिंदगी बदली 1994 में जब उन्होंने अपनी पहली कार खरीदी. ये थी मारुती ओमनी वैन.

barbar_6514_030317123504.jpg

इसके बाद से ही रमेश ने नाई का काम करते हुए अपनी गाड़ी को किराए पर देना शुरू कर दिया. देखते ही देखते शुरुआत हुई रमेश टूर्स एंड ट्रैवल्स की.

एक-एक करके रमेश ने कारों का काफिला बनाना शुरू किया और अब आलम ये है कि रमेश इंटरनेशनल लेवल पर जाने जाते हैं. आज भी रमेश दिन के 5 घंटे अपने सलून में बिताते हैं और इसके अलावा, रॉल्स रॉयस जैसी गाड़ी के लिए एक दिन के 50000 रुपए तक चार्ज करते हैं. रमेश के क्लाइंट्स में कई नेता, अभिनेता आदि शामिल हैं जिन्हें गाड़ियों की जरूरत पड़ती रहती है. रमेश के पास कुल 11 मर्सिडीज हैं, 10 बीएमडब्लू, तीन ऑडी और दो जैगुआर मिलाकर करीब 150 कार शामिल हैं. अब इसमें 3.2 करोड़ की मर्सिटीज मैबेक भी शामिल हो गई है.

barbar_651_030317123541.jpg

कई लोगों के लिए ये सिर्फ एक कहानी हो सकती है, लेकिन कुछ लोगों के लिए ये एक ऐसा उदाहरण है जो उन्हें प्रोत्साहित कर सकता है. अब खुद ही सोचिए क्या रमेश ने जो आइडिया लगाया वो बहुत ज्यादा पेचीदा था? नहीं, ये था कुछ अलग सोच का नतीजा. जरूरी नहीं कि किसी बिजनेस के लिए कोई बहुत आविष्कारी खोज ही की जाए. कई बार एक छोटी सी सोच भी आपका काम कर सकती है. भारत में ऐसी कई कहानियां हैं जो आपको कुछ करने के लिए प्रेरित कर सकती हैं.

ये भी पढ़ें-

- BMW ने पेश की कभी न गिरने वाली सुपर बाइक

- मैं कार थी तेरे आंगन की...

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय