होम -> सोशल मीडिया

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 08 जून, 2019 04:58 PM
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

भारत में लोगों को एक चीज जो सबसे ज्यादा डराती है वो है 'लोग क्या कहेंगे'. 'चार लोग देखेंगे तो क्या कहेंगे'. लेकिन Tiktok videos में महिलाओं को देखते हुए यूं लगता है जैसे दुनिया के वो चार लोग अब नहीं रहे.

लोक लाज और शर्म की वजह से महिलाएं जो अब तक नहीं कर सकीं, वो अब कर रही हैं. क्योंकि Tiktok के माध्यम से उन्हें एक ऐसा प्लैटफॉर्म मिला है जहां वो खुद को व्यक्त कर सकती हैं.

tiktok videosटिकटॉक ने वो कर दिया जो समाज नहीं कर सका

हंसोड़ और मस्ती मजाक करने वाली महिलाओं को पहले सिर्फ कुछ ही मौके मिलते थे जब वो सबके साथ मस्ती मजाक कर सकती थीं. कुछ तो केवल अपने मायके जाकर ही मस्ती करतीं. लेकिन अब जब महिलाओं के पास मोबाइल हैं तो फिर टिक-टॉक भी है. और इसके जरिए वो अपना ये टेलेंट दुनिया के सामने ला रही हैं. बिना ये सोचे कि लोग क्या कहेंगे. और हमें इससे पहले जरा भी पता नहीं था कि महिलाएं इतनी भी मजाकिया हो सकती हैं.

जरा इन्हें देखिए और बताइए, क्या ये कॉमेडियन भारती से किसी भी मामले में कम हैं. मौका मिले तो ये भारत से भी टक्कर ले सकती हैं.

दिया नाग तो अपनी पागलपंती से ही टिक-टॉक स्टार बनी हुई हैं. ये न ठीक से गाती हैं, न ठीक से नाचती हैं, लेकिन ये उनका उनोखा अंदाज ही है कि इनके वीडियो खूब वायरल होते हैं. पर ये सब करते हुए इन्हें झिझक छू तक नहीं जाती.

बात अगर टेलेंट की हो तो इन चार लोगों ने महिलाओं का जो सबसे ज्यादा नुक्सान किया है वो है उनके टेलेंट छीन लेने का. गाना तो फिर भी खाना बनाते-बनाते गाया जा सकता है, लेकिन उनका सोचिए जो बहुत अच्छा dance करती थीं. बस शादी ब्याह जैसे मौकों पर ही सकुचाती हुई थिरक लेती थीं. क्योंकि चार लोग देखेंगे तो क्या कहेंगे. लेकिन अब देखिए महिलाएं खुल कर नाच रही हैं और उन्हें पूरी दुनिया देख रही है. न सिर्फ देख रही है बल्कि खूब सराह भी रही है.

मुनमुन दास टिक टॉक पर बहुत फेमस हैं क्योंकि वो बिंदास डांस करती हैं. वो अपने घर की छत पर ही नाचती हैं बिना ये सोचे की लोग देखेंगे तो क्या कहेंगे. यूं ही हजारों फैन्स नहीं हैं इनके.

टिक टॉक ने उस झिझक को तोड़ने का काम भी किया है जो उन लड़कियों में थी जो खुद को कमतर मानकर रोकती थी. यानी अगर लड़की का रंग सांवला या काला है या वो बहुत सुंदर नहीं है तो उसे हमेशा ये बात कचोटती थी कि अगर मैं ऐसा करूंगी तो लोग क्या कहेंगे. लेकिन उनकी ये झिझक भी टिकटॉक ने निकाल दी.

वजनी महलाएं जिन्हें डांस करना बहुत अच्छा लगता था उन्होंने खुद को व्यक्त करने के लिए टिक-टॉक का सहारा लिया. वो अपने वजन को भूलकर ऐसा नाचती हैं कि अच्छे अच्छे उनका मुकाबला न कर पाएं. क्या ये बाकी महिलाओं के लिए प्रेरणा नहीं हैं जो अपने वजन की वजह से अवसाद में जीवन जी रही हैं.

वहीं उन महिलाओं को भी आप इग्नोर नहीं कर सकते जो शहरों में न रहकर गांवों में रहती हैं. जी हां, अब गांव में रहने वाली सीधी-साधी महिलाओं को भी TikTok videos में देखा जा सकता है. वो नाच रही हैं, वो कॉमेडी कर रही हैं. लेकिन एक्टिव हैं. समय के साथ चल रही हैं और इंटरनेट का इस्तेमाल कर रही हैं. ये उस सोच को खत्म कर रही हैं कि गांव की औरतें ये सब कहां करती हैं. TikTok women videos देखकर आप सिर्फ आश्चर्य में पड़ जाते हैं कि ये हमारे ही देश की महिलाएं हैं!

Tiktok पर करोड़ों videos पड़े हैं जहां पर लोग न जाने क्या क्या कर रहे हैं. लेकिन ये महिलाएं अपनी तरफ ध्यान खींच रही हैं. वो इसलिए क्योंकि ये औरों से अलग हैं. और Tiktok पर आकर इन्होंने खुद का साबित किया है. Tiktok की आप लाख बुराई कर लीजिए, लेकिन इस वास्तविकता को आप नजरंदाज नहीं कर सकते कि इसने भारतीयों, खासकर महिलाओं की झिझक तोड़ने का काम किया है, उनमें गजब का आत्म विश्वास भर दिया है. जिसे आप उनके खुशहाल भविष्य की एक अच्छी शुरुआत कह सकते हैं.

ये भी पढ़ें-

Tiktok ने दिखा दिया कि भारतीय नारी पति के लिए कुछ भी कर सकती है

टिकटॉक बैन होने से मैं बहुत खुश हूं, क्योंकि...

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय