charcha me| 

होम -> सोशल मीडिया

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 13 अगस्त, 2022 03:35 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

ट्विटर पर आईएफएस सुशांत नंदा द्वारा पोस्ट की गयी एक तस्वीर, जंगल में लगी आग की तरह शेयर की जा रही है. फोटो कई मायनों में खास है. वायरल तस्वीर में रक्षाबंधन को सेलिब्रेट करते हुए दिखाया गया है. हो सकता है कि इतना सुनकर कोई तस्वीर को लेकर सवाल कर दे. कह बैठे कि, रक्षाबंधन तो पूरे देश में सेलिब्रेट किया जा रहा है. फिर पोस्ट की गयी तस्वीर को वायरल करने की वजह? सवाल सही है. तस्वीर क्यों वायरल हुई? वजह इंसान नहीं बल्कि जानवर हैं. असल में राजस्थान में एक महिला ने तेंदुए को राखी बांधी है. महिला का ये अंदाज लोगों को भा गया है और प्रतिक्रियाओं और उनपर विमर्श की शुरुआत हो गयी है. तस्वीर के मद्देनजर हर आदमी की अपनी दलीलें हैं जो खासी दिलचस्प हैं.

Raksha Bandhan, Rakhi, Rajasthan, Jaguar, Woman, Love, Animals, Viral Photo, Reactionराजस्थान में रक्षाबंधन पर तेंदुए को राखी  बांधती महिला ने गज़ब का मानवीय पक्ष रखा है 

तस्वीर पोस्ट करते हुए आईएफएस सुशांत नंदा ने इस बात पर प्रमुखता से बल दिया है कि कैसे इंसान और पशु एक साथ सद्भाव से रहते हैं. अपने ट्वीट में सुशांत ने लिखा है कि “युगों से, भारत में मनुष्य और जानवर जंगली के लिए बिना शर्त प्यार के साथ रहते आए हैं. राजस्थान में, एक महिला वन विभाग को सौंपने से पहले एक बीमार तेंदुए को राखी (प्यार और भाईचारे का प्रतीक) बांधकर हमारे जंगली जानवरों के प्रति निष्काम प्रेम को दिखाती है.

गुलाबी साड़ी पहने हुए महिला ने जिस तरह बीमार तेंदुए के प्रति अपना प्रेम जाहिर किया है वो दिल को छू लेने वाला है. कोई कुछ कहे लेकिन अब जबकि ये तस्वीर हमारी आंखों के सामने है. तो कहा यही जाएगा कि असल जीवन में होना कुछ कुछ ऐसा ही चाहिए. राजस्थान से आई इस तस्वीर को देखकर हमें इस बात को भी समझना चाहिए कि दुनिया सिर्फ इंसानों के लिए नहीं है. ईश्वर ने जानवरों का भी निर्माण किया है और हमें हमें जंगलों और वन्य जीवन के साथ सह-अस्तित्व की जरूरत है.

तस्वीर वायरल होने के बाद, कुछ दलीलें ऐसी भी हैं, जिसमें कहा गया है कि तेंदुए जैसे खतरनाक जीव को राखी बांधकर महिला ने अपने साथ साथ मौके पर खड़े अन्य लोगों की जान जोखिम में डाली है. यानी जो कुछ भी महिला ने किया. वो सही नहीं है और उसे किसी सूरत में जस्टिफाई नहीं किया जा सकता.

सच में लोगों के ऐसे 'भोलेपन' पर तो कभी कभी सदके जाने का मन करता है. सवाल ये है कि राखी बंधाते तेंदुए को लेकर इतना हो हल्ला करना ही क्यों है? तेंदुआ एक खतरनाक जीव है. उसने अपने इस गुण को हमेशा ही बरक़रार रखा. अपने स्वाभाव के प्रति न तो उसने कभी छल कपट किया और न ही इसके खिलाफ कोई कैम्पेन चलाया. वो हम ही थे जो एक तरफ जानवरों का शिकार कर रहे थे तो दूसरी तरफ सेफ एनिमल्स की तख्ती अपने अपने गले में टांगकर उनके और पर्यावरण के संरक्षंण की बड़ी-बड़ी बातें कर रहे थे.

विषय बहुत ज्यादा सीधा और स्पष्ट है. 'स्वाभाव' के मद्देनजर दोहरापन सदैव हमारी, हम इंसानों की फितरत रहा है. जानवर सदैव उससे परे रहे हैं. जानवरों ने कभी हमारे साथ धोखा नहीं किया न ही कभी उन्होंने हमसे कहा कि उनका चाल, चरित्र और चेहरा अलग है.

बहरहाल विषय क्योंकि राजस्थान की महिला द्वारा तेंदुए को राखी बांधना है. तो हम बस ये कहकर अपनी बातों को विराम देंगे कि कुछ इंसान अगर राखी जैसे त्योहार को जानवरों के साथ मना रहे हैं तो हमारी भी यही कामना है कि जानवरों के लिए राखी का भाव सिर्फ इस राखी नहीं बल्कि हर राखी हमारी प्रकृति और प्रवृत्ति में शामिल हो.

ये भी पढ़ें -

'ऐसी लड़कियां धंधा कर रही हैं...', मुकेश खन्ना को कोसने से पहले इस बयान का पूरा सच जान लें

अल-जवाहिरी की मौत पर पाकिस्तानी नेता का 'दावा' इमरान खान की मुसीबत बन गया

सुशांत की मौत का मखौल उड़ाया, तो SSR Fans का #BoycottFlipkart की मांग उठाना स्वाभाविक है

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय