charcha me |  

होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 13 मई, 2022 12:45 PM
देवेश त्रिपाठी
देवेश त्रिपाठी
  @devesh.r.tripathi
  • Total Shares

कश्मीर में आतंक का बड़ा चेहरा रहा यासीन मलिक अब खुद को अलगाववादी नेता नहीं कह पाएगा. आखिरकार यासीन मलिक ने 2017 में कश्मीर घाटी में की गई आतंकवादी और अलगाववादी गतिविधियों में खुद के शामिल होने की बात अदालत में स्वीकार कर ली है. इतना ही नहीं, यासीन मलिक ने यूएपीए (UAPA) के तहत अपने ऊपर लगाए गए आतंकी गतिविधियों के लिए पैसे जुटाने के आरोपों को भी स्वीकार कर लिया है. लेकिन, कश्मीर में आतंकवाद फैलाने, युवाओं को भड़काने, एयरफोर्स अधिकारियों की हत्या जैसे गंभीर आरोपों के बावजूद यासीन मलिक कई सालों तक आजाद घूमता रहा. यह सोचने का विषय है. खैर, यासीन मलिक के आरोपों को कबूलने के बाद सवाल उठना लाजिमी है कि किसी जमाने में उसे अलगाववादी नेता के तौर पर पेश कर उसकी 'मेहमान नवाजी' करने वालों का क्या होगा?

Yasin Malik pleads guilty in terror caseयासीन मलिक कश्मीर को आजाद कराने और कश्मीरी पंडितों की हत्या करने के लिए हथियार उठाने वाला एक आतंकी था.

आतंकवादी से बना दिया 'शांतिदूत'

यासीन मलिक कश्मीर को आजाद कराने और कश्मीरी पंडितों की हत्या करने के लिए हथियार उठाने वाला एक आतंकी था. इस्लामिक आतंकी संगठन जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट यानी जेकेएलएफ (JKLF) का चीफ होने के नाते यासीन मलिक ने मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी का अपहरण कर आतंकियों को भी छुड़वाया था. लेकिन, 1994 में कश्मीर के कुछ नेताओं और बुद्धिजीवी वर्ग के एक धड़े ने यासीन मलिक को आतंकी से अलगाववादी बना दिया. जबकि, यासीन मलिक का पाकिस्तान प्रेम किसी से छिपा नहीं था. घाटी से आतंकवाद खत्म करने और शांति कायम करने के नाम पर यासीन मलिक को 'अभयदान' दिया गया. लेकिन, आतंकी घटनाएं नहीं रुकीं. क्योंकि, यासीन मलिक अब इन घटनाओं को सीधे तौर पर अंजाम देने की जगह मुस्लिम युवाओं को भड़काकर और ब्रेनवॉश कर उनसे ये काम करवाने लगा था.

पीएम मनमोहन ने की 'मेहमान नवाजी'

जम्मू-कश्मीर की तत्कालीन सरकारों ने यासीन मलिक को अलगाववादी नेता के तौर पर मान्यता दी. तो, वामपंथी बुद्धिजीवी वर्ग ने यासीन मलिक को हाथोंहाथ लेते हुए कश्मीर में शांति ला सकने वाले बड़े चेहरे के तौर पर पेश किया. इतना ही नहीं, कश्मीर के मुस्लिम नेताओं ने केंद्र की तत्कालीन कांग्रेस सरकार के पीएम मनमोहन सिंह से मुलाकात का रास्ता भी तय करवाया. तब मनमोहन सिंह ने यासीन मलिक को पीएम आवास में बुलाकर खूब खातिरदारी की थी. और, उसे पाकिस्तान के साथ बातचीत करने का ब्रांड एंबेसेडर तक बना दिया था. जबकि, यही यासीन मलिक अपनी पाकिस्तान यात्रा के दौरान लश्कर-ए-तैयबा के चीफ और 26/11 हमलों के मास्टरमाइंड रहे हाफिज सईद से खुलेआम मुलाकात करता रहा.

Yasin malik Manmohan Singhदिल्ली में आतंकी यासीन मलिक को उसके कुकर्मों को नजरअंदाज कर एक शांतिदूत के तौर पेश किया गया.

क्यों लिबरलों का चहेता बना यासीन मलिक?

बुकर अवार्ड विजेता अरुंधति रॉय की आतंकी यासीन मलिक की एक तस्वीर बीते दिनों काफी चर्चा में रही थी. क्योंकि, द कश्मीर फाइल्स के एक सीन ऐसी ही एक तस्वीर को संदर्भित किया गया था. दरअसल, यासीन मलिक के आतंकी से अलगाववादी बन जाने के बाद देश के स्वघोषित लिबरलों को एक ऐसा चेहरा चाहिए था, जो कश्मीर में मुस्लिमों पर हो रहे कथित अत्याचारों पर लिखी और कही गई बातों पर अपनी मुहर लगा सके. और, इसके लिए यासीन मलिक से बेहतर उन्हें कोई कहा मिल सकता था. क्योंकि, एक अलगाववादी नेता, जो पहले से ही कहता रहा हो कि कश्मीर में भारत का जबरन कब्जा है और वहां के मुस्लिमों पर सेना द्वारा अत्याचार किए जा रहे हों. और, मलिक के नाम से वामपंथी बुद्धिजीवियों के एजेंडे को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी वजन मिलना ही था.

द कश्मीर फाइल्स को 'झूठा' कहने वालों पर भी सवाल

वैसे, यासीन मलिक के आतंकी गतिविधियों में शामिल होने की बात कबूल करने के बाद उन लोगों पर भी प्रश्न चिन्ह लगना लाजिमी है. जो गला फाड़-फाड़कर द कश्मीर फाइल्स झूठी फिल्म करार देने पर तुले हुए थे. हाल ही में कांग्रेस नेता शशि थरूर और आम आदमी पार्टी सुप्रीमो अरविंद केजरीवाल ने इसे भाजपा द्वारा प्रचारित फिल्म साबित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी. हालांकि, अरविंद केजरीवाल बाद में कई टीवी चैनलों में इंटरव्यू के जरिये डैमेज कंट्रोल करने की कोशिश करते रहे. लेकिन, कांग्रेस ने अभी तक कश्मीरी पंडितों के नरसंहार और पलायन के जिम्मेदार रहे यासीन मलिक को लेकर चुप्पी साध रखी है. खैर, कांग्रेस का इस मामले पर बोलना भी उसके खिलाफ ही जाएगा. क्योंकि, कई टीवी इंटरव्यू में निर्दोष लोगों की हत्याओं को पहले ही कबूल कर चुके यासीन मलिक पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. बल्कि, उसकी मेहमान नवाजी की गई.

लेखक

देवेश त्रिपाठी देवेश त्रिपाठी @devesh.r.tripathi

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं. राजनीतिक और समसामयिक मुद्दों पर लिखने का शौक है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय