होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 16 अगस्त, 2019 04:49 PM
आशीष श्रीवास्तव
आशीष श्रीवास्तव
  @ashish.srivastava.528316
  • Total Shares

भारतीय सिनेमा में रजनीकांत के लिए कुछ कहना सूरज को दिया दिखाने जैसा है. उनके बारे में तो शायद गूगल भी सबकुछ नहीं जानता. वो कब क्या करेंगे और उससे भी बढ़कर कि वो क्या क्या कर सकते हैं शायद ही  इस धरती पर कोई जानता हो. रजनीकांत ने बीते कुछ दिनों में प्रधान मंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की तारीफों के जो पुल बांधे है और जिस तरह वो इशारा कर रहे हैं उससे एक नई बहस की शुरुआत हो गई है. रजनीकांत ने जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 को हटाए जाने के ऐतिहासिक फैसले का खुल कर स्वागत किया है. कुछ दिन पहले इस कदम को उठाने वाली मोदी शाह की जोड़ी को उन्होंने कृष्णा अर्जुन की जोड़ी बताया था. अब रजनीकांत ने कहा है कि जिस तरह मोदी सरकार द्वारा कश्मीर मुद्दे की प्लानिंग की गई थी वह एक 'मास्टर स्ट्रेटजी' है.

अगर तमिलनाडु की राजनीती पर एक नज़र डाली जाए तो मिलता है पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता और करूणानिधि के निधन के बाद वहां एक पॉलिटिकल वैक्यूम है. जिसको भरने का भरसक प्रयास DMK सुप्रीमो और करूणानिधि  के छोटे बेटे स्टालिन और टीटीवी दिनाकरन कर रहे हैं (दिनाकरन, किसी जमाने में जयललिता की करीबी रही शशिकला के भतीजे हैं)

रजनीकांत, अमित शाह, कश्मीर, नरेंद्र मोदी, Rajinikanth  रजनीकांत ने कश्मीर मसले पर जिस तरफ मोदी-शाह की तारीफ की है उसने तमिलनाडु में एक नई बहस को जन्म दे दिया है

अगर कर्नाटक को हटा दिया जाए तो दक्षिण की राजनीती में भारतीय जनता पार्टी का कोई बड़ा दखल नहीं है. जहां तक तमिलनाडु की बात है वो AIADMK के साथ गठबंधन में है. इस गठबधन को अभी हाल ही में हुए लोक सभा चुनाव में ज़ोर का झटका उस वक़्त लगा जब पार्टी को जनता ने लगभग खारिज करते हुए सिर्फ एक सीट दी. ध्यान रहे कि राज्य में इसी की सरकार है.

इस परिणाम का एक बड़ा कारण है AIADMK में सत्ता को लेकर अंतरकलह है. इस अंतरकलह का असर बीजेपी की उस योजना के लिए घातक है जिसमे उसको दक्षिण में भी फ़तेह हासिल करनी है. ऐसे में अगर रजनीकांत की इस तारीफ को समझा जाये तो यह उनकी बीजेपी से बढ़ती नजदीकियों का परिचायक है. बीजेपी और रजनीकांत दोनों को एक दूसरे की जरुरत हैं. बीजेपी के पास सत्ता है संगठन की ताक़त और समझ है और रजनीकांत का सिर्फ नाम ही काफी है.

वैसे रजनीकांत ने दिसंबर 2017 में राजनीति में पदापर्ण की घोषण की थी मगर तब से अब तक उस दिशा में कोई प्रगति नहीं दिखती. कुल मिला कर मामला ठंडे बास्ते में ही है. उनके प्रसंशक उनके इस नए राजनीतिक अवतार का  इंतज़ार कर रहे हैं और रजनीकांत के शब्दों में कहें तो 'भगवान के इशारे' का. रजनीकांत और बीजेपी अगर साथ आते हैं तो दक्षिण की राजनीती बहुत दिलजस्प हो जाएगी. रजनीकांत के कदम के साथ बीजेपी भी तमिल पॉलिटिक्स में अपने कदम रखेगी. और अगर ये कदम जम गए तो किसी भी दल या नेता के लिए इनको उखाड़ना बहुत मुश्किल होगा.

ये भी पढ़ें-

तमिलनाडु की राजनीति का बिहार कनेक्शन

भाजपा का ऑपरेशन तमिलनाडु कामयाबी के करीब !

AIADMK टूट के कगार पर है!

लेखक

आशीष श्रीवास्तव आशीष श्रीवास्तव @ashish.srivastava.528316

लेखक आजतक चैनल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय