होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 03 नवम्बर, 2020 12:01 PM
  • Total Shares

कोरोना वायरस (Coronavirus) जब शिद्दत के साथ लोगों को डरा रहा था और उसका ख़तरा हर भारतीय के सिर पर मंडरा रहा था तो जो काम बड़े बड़े वैज्ञानिक नहीं कर सके थे वह काम करने का दावा बाबा रामदेव (Baba Ramdev) और उनकी कंपनी पतंजलि (Patanjali) ने कर दिया था. कंपनी ने दावा करते हुए कहा था कि उसने कोरोना वायरस से निजात पाने की दवाई ढ़ूंढ़ डाली है, यह पूरी तरह से देसी है और कोरोना से लड़ने में कारगर है. इस दवा का नाम रखा गया था कोरोनिल (Coronil). पतंजलि ने ये ऐलान किया था जून की 23 तारीख को. इस ऐलान के बाद ही केंद्र सरकार से लेकर स्वास्थ्य विभाग तक के हर अधिकारी चौंक पड़े थे. आयूष मंत्रालय (Ayush Ministry) द्वारा आनन फानन में कोरोनिल किट को लेकर मंथन किया गया और इस दवा के विज्ञापन पर फौरन ही रोक लगा दी गई. जब पतंजलि ने खुद को घिरता पाया तो फौरन ही आयूष मंत्रालय से कह डाला कि यह तो इम्यूनिटी बूस्टर है, कोरोना की दवाई नहीं है. तब मंत्रालय की ओर से पतंजलि को कहा गया कि वह इम्यून बूस्टर के तौर पर इस किट को बेच सकते हैं इसको कोरोना किट कहा जाना ठीक नहीं होगा. क्योंकि यह दवा कोरोना से लड़ने में मददगार है यह स्पष्ट नहीं है. यह एक इम्यून बूस्टर है जिसे इम्यून बूस्टर के नाम से ही बेचा जा सकता है.

Coronavirus, Disease, Patanjali, Ramdev, Medicine, Covid 19 Vaccineउम्मीद जताई जा रही थी कि कोरोनिल के जरिये बाबा रामदेव और पतंजलि को बड़ा फायदा होगा

आयूष मंत्रालय से मिली राहत के बाद पतंजलि ने देश-विदेश सभी जगह इस दवा को पहुंचा डाला और इसका पूरा फायदा भी कंपनी को हासिल हुआ. बिना किसी प्रचार के कंपनी ने 4 महीने में ही 250 करोड़ रूपये की कोरोनिल किट बेच डाली है. कंपनी के डाटा के अनुसार कंपनी ने 18 अक्टूबर तक 25 लाख कोरोनिल किट बेच दिए थे. जिसकी कुल रकम 250 करोड़ रुपये हुई. कंपनी ने इस किट में सिर्फ देसी सामानों का इस्तेमाल किया था.

बाबा रामदेव और उनकी कंपनी ने बड़े ही धूमधाम के साथ इस किट को लांच किया था. जिसे खूब मीडिया कवरेज भी प्राप्त हुआ था. कोरोना वायरस के कहर के बीच इतने बड़े ऐलान से होहल्ला तो होना ही था. एक तरफ कंपनी पर स्वास्थ्य विभाग से लेकर सरकार तक की नज़र टिक गई तो दूसरी ओर देश के कोने कोने में इस किट की चर्चाएं होने लगी. आयूष मंत्रालय ने विज्ञापन पर रोक तो लगाई लेकिन कंपनी ने पहले ही ऐलान करके अपना विज्ञापन कर डाला था.

जिसका नतीजा ये हुआ कि पतंजलि स्टोर से लेकर आनलाइन बिक्री और सामान्य बाजारों तक कोरोनिल किट के पहुंचते ही लोगो ने इस किट को खरीद डाला और कंपनी बिना किसी विज्ञापन के चुपचाप इसे बेचती चली गई और अब बड़े मुनाफे में है. बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि द्धारा बनाए गए इस कोरोनिल किट की बिक्री इतने बड़े स्तर पर होने की दो ही प्रमुख वजहें हैं.

पहला कोरोना वायरस से लोगों का डर और दूसरा खुद कंपनी के प्रोडक्ट का भरोसा. जिससे लोग इस दवा को खरीदते चले गए और बिना स्पष्टता के इसे इस्तेमाल भी करने लगे. पतंजलि की अधिकतर दवाएं देसी सामग्री से ही बनकर तैयार होती है. जिसमें कई तरह की जड़ी बूटियों का इस्तेमाल होता है. जड़ी बूटियों से तैयार होने वाली दवाओं में साइड इफेक्ट की भी कम ही संभावनाएं रहती है यही वजह है कि कोरोनिल ने अच्छा खासा कारोबार कर डाला है.

बाबा रामदेव ने दावा किया था कि इस दवा के इस्तेमाल से कोरोना वायरस जैसी महामारी से लड़ा जा सकता है उनकी कंपनी ने इसकी जांच भी की है लेकिन यह जांच और परीक्षण कब, कहां और किसपर हुआ कंपनी इस पर जवाब देने से हमेशा बचती ही रही है. अब इस दवा के ज़रिए करोड़ों का कारोबार हो चुका है तो कंपनी अब इस झंझट में कूदना भी नहीं चाहती है और सीधे इसे इम्यून बूस्टर के नाम पर बेचती हुई नज़र आ रही है.

यानी कंपनी ने शुरुआत में ही लोगों को चौंका कर इसका अच्छा खासा विज्ञापन कर डाला था जिससे यह किट आसानी के साथ लोगों के दिमाग में बस गई थी. कोरोनिल किट कोरोना से लड़े न लड़े लेकिन पतंजलि अपने मकसद में ज़रूर कामयाब हो गई है.

ये भी पढ़ें -

लाहौर में लगे अभिनंदन के पोस्टर्स 'नवाज' के अयाज' की मुसीबत बन गए

शशि थरूर ने कांग्रेस की भविष्यवाणी कर दी है, राहुल गांधी जो समझें

सरदार पटेल जयंती पर मोदी की बातें बिहार चुनाव में कितना मायने रखती हैं?

#बाबा रामदेव, #कोरोनिल किट, #कोरोना वायरस, Coronil Patanjali Review, Coronil Price, Coronavirus Disease

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय