होम -> सियासत

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 16 अप्रिल, 2019 04:21 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

सुना है पाकिस्तान में नई टूरिज्म पॉलिसी बनी है. वो पॉलिसी जिसके बारे में खुद इमरान खान ने जानकारी दी है. पाकिस्तानी सरकार देश को अगला अंतरराष्ट्रीय टूरिज्म स्पॉट बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है. हाल ही में पाकिस्तान टूरिज्म समिट भी हुई जिसमें दुनिया भर के ट्रैवल ब्लॉगर और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान भी मौजूद थे, लेकिन इस टूरिज्म समिट से वो असलियत गायब थी जो पाकिस्तान आने वाले विदेशी यात्रियों को पता होनी चाहिए थी.

एक अमेरिकी ट्रैवल ब्लॉगर एलेक्स ने पाकिस्तानी टूरिज्म की असलियत समझा दी है. Lost With Purpose ब्लॉग चलाने वाली एलेक्स 2016 से लेकर अब तक 5 बार पाकिस्तान जा चुकी हैं और वहां के कई प्रांतों की सैर की है. उन्हें भी इस ट्रैवल समिट का हिस्सा बनना था, लेकिन ऐन वक्त पर उनकी प्रेजेन्टेशन को रोक दिया गया. कारण? वो अन्य ट्रैवल ब्लॉगर्स की तरह पाकिस्तान को जन्नत की तरह नहीं दिखा रही थीं. क्योंकि उनकी प्रेजेंटेशन ऐसी थी जो पाकिस्तानी टूरिज्म इंडस्ट्री का सच बताती है. इमरान खान सरकार के दावों की धज्जियां उड़ाती है.

जब उन्हें समिट में बोलने का मौका नहीं मिला तो उन्होंने फेसबुक का सहारा लेकर असलियत बताई.

एलेक्स ने बताया कि पाकिस्तान में तीन बेहद अहम टूरिज्म से जुड़े मुद्दे हैं जिनका हल करना जरूरी है.

1. इस देश में ट्रैवल आसान नहीं है-

अक्सर यूट्यूब आदि पर वीडियो मिल जाएंगे जो कहते हैं कि पाकिस्तान बेहद खूबसूरत देश है और वहां जाना चाहिए पर ये बताने वाले वीडियो कम मिलेंगे जो असल दिक्कतों की बात करते हैं. सबसे बड़ी दिक्कत जो पाकिस्तान में है वो ये कि वहां घूमना आसान नहीं है.

जो लोग बिना किसी आधिकारिक टूर के जाते हैं उन्हें लगभग हर प्रांत के लिए NOC लेनी होती है. साथ ही, कभी भी पाकिस्तानी अधिकारी कोई नया नियम बता सकते हैं. एलेक्स ने कुछ विदेशी ट्रैवलर्स की बात भी बताई जिन्हें कई घंटों के लिए डिटेन कर लिया गया था.

2. हर ट्रैवलर का एक जैसा एक्सपीरियंस नहीं होगा-

एलेक्स का दूसरा मुद्दा ये था कि पाकिस्तान में 'गोरा कॉम्प्लेक्स' है. यानी जिसकी चमड़ी जितनी गोरी उसे उतना बेहतर समझा जाएगा. क्योंकि एलेक्स की शक्ल-सूरत पाकिस्तानी ही दिखती थी इसलिए ये गोरा कॉम्प्लेक्स उन्हें नहीं दिखा और सच्चाई दिखी. लोग उन्हें पाकिस्तानी समझते थे और इसलिए उनके साथ अच्छा बर्ताव नहीं करते थे. यानी अगर कोई ऐसा इंसान जाएगा जिसका रंग ज्यादा गोरा नहीं उसे अलग तरह से लोगों का सलूक दिखेगा.

3. पाकिस्तान में धार्मिक मतभेद खतरनाक हो सकते हैं-

पाकिस्तान में विदेशी टूरिस्ट सबसे ज्यादा खतरे में पड़ सकते हैं धार्मिक मतभेदों के कारण. टूरिस्ट ये नहीं समझ पाएंगे कि उन्हें अपनी नास्तिक मानसिकता को बताना नहीं है. उन्हें ये नहीं समझ आएगा कि पाकिस्तानी महिलाओं से दूर रहना है. महिला टूरिस्ट ये नहीं समझ पाएंगी कि शायद किसी गली में वो अकेली ही महिला हों और इसे पुरुष गलत समझ लें.

 एलेक्स ये भी कहती हैं कि वहां महिलाओं को ध्यान रखना पड़ता है साथ ही अगर कोई शादीशुदा जोड़ा नहीं है तो उसे ये बताना चाहिए कि वो शादीशुदा है. एलेक्स ये भी कहती हैं कि वहां महिलाओं को ध्यान रखना पड़ता है साथ ही अगर कोई शादीशुदा जोड़ा नहीं है तो उसे ये बताना चाहिए कि वो शादीशुदा है.

महिलाओं के साथ छेड़-छाड़ आम बात है और खुद एलेक्स को भी इससे अच्छी-खासी दिक्कत हुई है.

वो बातें जो इमरान खान सरकार के दावों को झुठलाती हैं...

वैसे तो एलेक्स ने ये जो सभी बातें बताईं वो इमरान खान सरकार की तरफ से नोटिस के तौर पर किसी को नहीं बताई जाती हैं और यकीनन कई ट्रैवल साइट्स पर पाकिस्तान जाने वाले टूरिस्ट अपने साथ हुई घटनाओं की जानकारी देते हैं. उदाहरण के तौर पर हाल ही में पाकिस्तान के सूचना मंत्री चौधरी फवाद हुसैन ने ट्वीट कर जानकारी दी थी कि कश्मीर जाने के लिए NOC नहीं लेनी होगी, लेकिन एलेक्स के मुताबिक कई टूरिस्ट को वापस भेज दिया गया क्योंकि उनके पास NOC नहीं थी. यानी नियम तो बन गए, लेकिन उन्हें लागू नहीं किया गया और परेशानी हुई.

न सिर्फ ये बल्कि जब पाकिस्तान की तरफ से ये ऐलान किया गया था कि कई देशों के सैलानियों को वीजा ऑन अराइवल की सुविधा दी जाएगी. इंटरनेट पर कई ऐसे आर्टिकल मिल जाएंगे. पर एलेक्स का दावा है कि ऐसा नहीं है और पाकिस्तानी सरकार से पहले आपको वीजा लेना होगा. एलेक्स अमेरिका में पैदा हुई और रही हैं लेकिन उनके पास ब्रिटिश पासपोर्ट है और उन्हें भी पहले से वीजा लेना पड़ा जब्कि कई जगह ये दावा किया जाता है कि पाकिस्तान में वीजा ऑन अराइवल मिल जाएगा खास तौर पर अमेरिकी और ब्रिटिश नागरिकों को. अलग-अलग देशों से आए सैलानियों के लिए अलग तरह के वीजा नियम हैं. पाकिस्तानी B लिस्ट में भारत और सोमालिया जैसे देश हैं जहां वीजा लेना बेहद मुश्किल है.

भारतीयों के लिए नहीं है पाकिस्तानी टूरिज्म-

जो बात एलेक्स के वीडियो में नहीं दिखाई गई वो ये कि भारतीय पासपोर्ट वाले व्यक्ति के लिए कोई ट्रैवल वीजा नहीं है. वो या तो अपने परिवार और दोस्तों से मिलने, बिजनेस वीजा, ट्रांजिट वीजा या फिर धार्मिक तीर्थ के लिए वीजा का आवेदन दे सकते हैं. साथ ही, जिस पोर्ट से भारतीय नागरिक (भारतीय मूल के नागरिक) देश में दाखिल हो रहे हैं उसी पोर्ट से उन्हें वापस भी जाना होगा. जैसे वाघा बॉर्डर, कराची, इस्लामाबाद और लाहौर एयरपोर्ट से. साथ ही, भारतीयों के लिए पाकिस्तानी वीजा लेना बहुत मुश्किल है. इसके अलावा, भी कई नियम हैं जैसे भारतीय अपना वीजा एक्सटेंड नहीं करवा सकते.

जिस तरह की बात एलेक्स ने बताई है उससे तो ये साफ होता है कि पाकिस्तानी सरकार ने जो पाकिस्तानी टूरिज्म की सुनहरी तस्वीर बनाई है वो असल में धुंधली है और वो साफ तस्वीर तभी दिखेगी जब पाकिस्तानी सरकार असली बात बताएगी. जैसा की एलेक्स के ब्लॉग में बताया गया. कई यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ती है, लेकिन उन्हें कोई भी जानकारी नहीं दी जाती है. यात्री तब तक परेशानी उठाते रहेंगे जब तक पाकिस्तान अपने यहां कि सच्चाई सबको नहीं बता देता.

ये भी पढ़ें-

पाकिस्तानी महंगाई: पेट्रोल से महंगे दूध के कारण मच रहा हंगामा

पाकिस्तानी कट्टरपंथी के गजवा-ए-हिन्द की तरह है इंद्रेश कुमार के 'अखंड-भारत' की कल्पना

Pakistan, Imran Khan, Travel

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय