charcha me| 

होम -> सियासत

 |  2-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 21 मार्च, 2017 06:00 PM
अभिनव राजवंश
अभिनव राजवंश
  @abhinaw.rajwansh
  • Total Shares

उत्तर प्रदेश में नई सरकार का गठन हो चुका है. हालाँकि, नई सरकार में मुख्यमंत्री समेत दोनों उपमुख्यमंत्री को अगले छह महीनों में विधानसभा या विधानपरिषद का सदस्य होना आवश्यक है. राज्य की योगी सरकार के दो मंत्री स्वन्त्र देव सिंह और एक मात्र मुस्लिम चेहरा मोहसिन रज़ा भी विधानसभा या विधानपरिषद के सदस्य नहीं हैं. ऐसे में अगले कुछ महीनों में उत्तर प्रदेश में कुछ सीटों पर उपचुनाव होने तय है, इन उपचुनावों में दो लोकसभा के सीट भी होंगी, जो योगी आदित्यनाथ और केशव प्रसाद मौर्या के छोड़ने से खाली होंगी. वर्तमान में योगी और मौर्य क्रमशः गोरखपुर और फूलपुर से सांसद हैं.

up_650_032117054954.jpg

हालिया उत्तर प्रदेश के चुनावों में जिस तरह का प्रदर्शन भारतीय जनता पार्टी ने किया है वैसे में उनके लिए 5 सीटों पर चुनाव जीतना कोई मुश्किल बात नहीं लगती. हालाँकि, सरकार के पास कुछ सीटों पर चुनाव में न जाकर विधान परिषद में मनोनीत कर एमएलसी बनाने के भी रास्ते खुले हैं. मगर विधान परिषद की वर्तमान स्थिति में अगले छह महीनो तक केवल एक ही सदस्य को भेजा जा सकता है. ऐसे में बाकियों के लिए चुनाव में जाने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता.  अब बात करें अगर विपक्ष में बैठे समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी की तो इनके लिए आने वाले उपचुनाव 2019 के चुनावों से पहले भविष्य के गठबंधन आजमाने के लिए बेहतर मौका साबित हो सकता है. हालिया चुनावों के नतीजों के बाद इन दलों के पास खोने के लिए कुछ बचा भी नहीं है. ऐसे में बहुत संभव है कि आने वाले उपचुनावों में सपा बसपा अपनी कड़वाहट मिटा बिहार के तर्ज पर एक महागठबंधन बना सकते हैं. अखिलेश ने चुनाव परिणामों के पहले ऐसे संकेत दिए थे कि अगर मगर की स्थिति में वो बसपा के साथ जाने से भी गुरेज नहीं करेंगे. वहीं अगर बात करें बसपा सुप्रीमो मायावती की तो उनकी राज्यसभा सदस्यता भी अगले साल अप्रैल में समाप्त हो रही और बसपा की सीटों की वर्तमान स्थिति में मायावती का दोबारा राज्यसभा में जाना भी मुश्किल ही लगता है. ऐसे में मायावती को समाजवादी पार्टी का साथ मिल सकता है.

up_651_032117055004.jpg

अब सवाल यह है कि क्या समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और बहुजन समाजवादी पार्टी आने वाले उपचुनावों ने कोई गठबंधन बना कर जायेंगे? क्योंकि वर्तमान समय में यह साबित हो चुका है कि अलग-अलग लड़ कर कोई भी पार्टी भाजपा के सामने टिकने में नाकाम रही है. केवल बिहार में ही क्षेत्रीय दलों ने महागठबंधन बना मोदी लहर को काबू में लाने में कामयाब रहे थे. ऐसे में बहुत संभव है कि क्षेत्रीय दल कांग्रेस के साथ मिल 2019 चुनावों में महागठबंधन बना मोदी से लोहा ले और इसकी पूरी सम्भावना है कि उत्तर प्रदेश के उपचुनावों में इसकी शुरुआत देखने को मिल सकती है.

ये भी पढ़ें -

2024 में मोदी के उत्‍तराधिकारी होंगे योगी ? थोड़ा रुकिए...

बदलते वक्त का नया स्लोगन है - सिर्फ 'दो साल यूपी खुशहाल'

लेखक

अभिनव राजवंश अभिनव राजवंश @abhinaw.rajwansh

लेखक आज तक में पत्रकार है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय