होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 05 अप्रिल, 2020 06:06 PM
नवेद शिकोह
नवेद शिकोह
  @naved.shikoh
  • Total Shares

जलाओ दीये पर ध्यान रहे इतना,

अंधेरा धरा परा कहीं रह ना जाये.

ऐसा ही होगा. ना सिर्फ हिंदू (Hindu) या सिर्फ मुसलमान (Muslim), ना कोई विरोधी और ना कोई समर्थक. देश का हर नागरिक अपने प्रधानमंत्री (Prime Minister) की गुज़ारिश पर एकजुट होकर अंधेरे के खिलाफ रौशनी बिखरा देगा. प्रधानमंत्री की इल्तिज़ा का मुस्लिम समाज पालन नहीं करता है, ये धारणा फेल हो जायेगी. रविवार पांच अप्रैल रात नौ बजे नौ मिनट तक चरागा होगा. इस राष्ट्रीय अनुष्ठान में सम्मिलित होने के लिए मुस्लिम मुआशरे(समाज) (Muslim Community) में काफी उत्साह है. जिसकी खास वजह है. पहली बात ये कि चरागा करने या मोमबत्ती जलाने के महत्त्व पर मुसलमानों का पक्का अक़ीदा(विश्वास) है. ज्यादातर त्योहारों और नज्र-ओ-नियाज में चरागा का महत्व है. सलामती की दुआ के लिए शमा जलाकर खुदा से दुआ मांगने की पुरानी परंपरा है. ख़ासकर शिया मुसलमानो़ में ज्यादातर मौको पर शमा (मोमबत्ती)रौशन की जाती है.

Coronavirus, Lockdown, PM Modi, Diya, Candlesपीएम मोदी के वीडियो सन्देश के बाद पूर्फ देश दीया और मोमबत्ती जलाने की तैयारी में जुट गया है

कोरोना वायरस के खतरों के अंधेयों को मिटाने के लिए देश ने रविवार रात बारह बजे अंधेरा करके दीया, मोमबत्ती, टार्च या मोबाइल फ्लैश चमकाने का जो फैसला किया है, उसे लेकर देश के कई शहरों के मुसलमानों में काफी उत्साह है. वजह ये है कि रविवार पांच मार्च के दिन ही मुसलमानो़ के रसूल मोहम्मद साहब के नाती ईमाम हुसैन के बेटे हजरत अली अकबर का जन्मदिन भी है.

इसके अलावा दो दिन बाद शबेबरात है, इसके दूसरे दिन यानी पंद्रह शाबान को बारहवें इमाम मेहदी (ज़िन्दा इमाम)अलैहिस्सलाम का जन्मदिन है. इन दोनों ही मौक़ों पर शमाएं (मोमबत्तियां)जलायी जाती हैं. इस बार लॉकडाउन के कारण बाहर मोमबत्तियां रौशन करने का कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया है. इसलिए रविवार नौ बजे देश की सलामती के साथ बारहव़े इमाम की सलामती के लिए अपने-अपने घरों में शमाएं (मोमबत्तियां)रौशन की जायेंगी.

Coronavirus, Lockdown, PM Modi, Diya, Candlesसोशल मीडिया पर कुछ ऐसे सन्देश दे रहा है मुस्लिम समाज

सोशल मीडिया में प्रधानमंत्री का शुक्रिया अदा करते हुए तमाम मुसलमान अपने जज्बात बयां कर रहे हैं. लिख रहे हैं कि देश की सलामती के लिए चराग़ा का बहुत अच्छा दिन रखा है. इस दिन हजरत अली अकबर का जनमदिन है. शबेबरात और ज़िन्दा इमाम का भी जन्मदिन नजदीक है. चरागा करके यानी शमा रौशन करके हम लोग देश की सलामती के लिए दुआ करेंगे.साथ ही हम हम हजरत अली अकबर, बारहवें इमाम मेहदी और अपने पुरखों (पित्रों)के माध्यम से भी देशवासियों की जिन्दगी, सेहत और हिफाजत के लिए अल्लाह से दुआ करेंगे.

Coronavirus, Lockdown, PM Modi, Diya, Candlesरात ९ बजे ९ मिनट के लिए रोशनी करने के लिए मुस्लिम समाज भी उत्साहित है

इसलिए लगने लगा है कि कोरोना के ख़तरों के अंधेरों को मिलजुलकर मिटाने के लिए भारत तैयार भी है और एकजुट भी. तैयारी देख कर लग रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ये आइडिया भी खूब जगमगायेगा और सुपर डुपर हिट होगा.

भले ही हम मेडिकल सुविधाओं में कमजोर हों किंतु हमारे प्रधानमंत्री ने हमें अपनी हिदायतों से कोरोना वायरस से लड़ने के लिए इतना एकजुट कर दिया है कि हम सुपर पॉवर अमेरिका की अपेक्षा इस वायरस को फना करने की कोशिश में किसी हद तक सफल होते जा रहा है.

ये भी पढ़ें -

प्यारे देशवासियों! पीएम ने दीया जलाने को कहा है न कि 'जीया' खुश रहिये

9 PM 9 Minute: देशवासियों के दिया जलाने से पहले नेता नेता अपनी राजनीति की मशाल जला लाए!

Diya Jalao: बेशक बत्तियां न बुझायें मगर ब्लैकआउट से बिलकुल बेफिक्र रहें

 

 

 

Coronavirus, Diya, Candle

लेखक

नवेद शिकोह नवेद शिकोह @naved.shikoh

लेखक पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय