होम -> सियासत

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 29 जून, 2020 04:57 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

सांप बड़ा ही रहस्यमय जीव है जिसे इंसान पालने से बचता है. मगर जो इक्का दुक्का लोग इसे पालते हैं उनके दिमाग में हमेशा ही ये डर बना रहता है कि आज नहीं तो कल सांप उन्हें डंसेगा ज़रूर. पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान (Pakistan) का भी हाल कुछ ऐसा ही है. आतंकियों (Terrorist) के रूप में हमेशा से ही पाकिस्तान ने सांपों के लालन पालन किया है और अब ये सांप पाकिस्तान को ही डंस रहे हैं. ताज़ा मामला कराची का है. पाकिस्तान के कराची स्टॉक एक्सचेंज (Karachi Stock Exchange Attack) पर आतंकियों ने हमला किया है. इस हमले में 4 आतंकियों समेत कुल 9 लोग मारे गए हैं. मृत लोगों में एक पुलिस इंसपेक्टर और चार सिक्योरिटी गार्ड्स शामिल हैं. बताया जा रहा है कि आतंकी स्टॉक एक्सचेंज के अंदर स्थित ट्रेडिंग हॉल में घुसना चाहते थे जिसके लिए उन्होंने हैंड ग्रेनेड का सहारा लिया. मगर चूक हुई और वो अपने मंसूबों में कामयाब नहीं हो सके.

Pakistan stock exchange attack, Imran Khan, Pakistan, Terrorism कराची स्टॉक एक्सचेंज में हुए इस हमले से इमरान खान को कुछ सीख लेनी चाहिए

फिलहाल इस मामले की जो भी जानकारी हाथ लगी है यदि उसपर यकीन करें तो इस हमले की जिम्मेदारी बलूच लिबरेशन आर्मी यानी बीएलए ने ली है.

ज्ञात हो कि कराची स्टॉक एक्सचेंज रोजाना की तरह सुबह 10.30 पर खुला. इसी दौरान पीठ पर बैग लटकाए चार आतंकियों ने मेन गेट पर एंट्री लेनी चाही मगर उस वक़्त अफरा तफरी का माहौल हो गया जब इन्होंने हैंड ग्रेनेड से हमला किया. आतंकी भीड़ भाड़ का फायदा उठाकर अंदर घुसना चाहते थे मगर सिक्योरिटी गार्ड्स ने उन्हें गेट पर ही रोक लिया. घटना की सूचना पुलिस और रेंजर्स को दी गई जिन्होंने घटना को गम्भीरता से लिया और मौके पर पहुंचकर एक्शन लिया. एनकाउंटर में चारों आतंकी मारे गए. वहीं इस एक्शन में पुलिस इन्सपेक्टर समेत चार सिक्योरिटी गार्ड्स की भी मौत हो गयी.

क्या है बलोच लिबरेशन आर्मी

'बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी' ये नाम 1970 में उस वक़्त सुनने में आया जब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री का दारोमदार ज़ुल्फ़िक़ार अली भुट्टो ने संभाला. बलोच अपने को पाकिस्तान से अलग मानते हैं इसलिए वो अपने क्षेत्र में पाकिस्तान की घुस पैठ से खफा थे और परिणाम स्वरूप बलोच लिबरेशन आर्मी नाम का संगठन बना जिसने बलूचिस्तान में पाकिस्तान की हुकूमत के ख़िलाफ़ सशस्त्र बग़ावत की शुरूआत की.

संगठन अलगाववाद का हिमायती है जो गुरिल्ला रणनीति पर यकीन रखता है. संगठन का इतिहास बहुत काला रहा है. कई मामले ऐसे आए हैं जब संगठन ने गैस लाइनों समेत सेना पुलिस पर और गैर स्थानीय लोगों पर हमले किये हैं. बताया जाता है कि मीर बालाच मेरी इस संगठन का पहला कमांडर था जो वर्ष 2008 में अफ़ग़ानिस्तान में गठबंधन वायुसेना के हमले में मारा गया.

बात अगर हालिया दिनों की हो तो इस संगठन ने हाल फिलहाल में 3 बड़े हमले किये हैं जिसमें 30 से ज्यादा लोग मारे गए हैं और कई लोग घायल हुए हैं. संगठन के काडर 6000 हैं और इनका शुमार पाकिस्तान के सबसे खतरनाक आतंकी संगठन में है. संगठन आज़ाद बलोचिस्तान का पैरोकार है और इसका मानना है कि बलोचों का सही विकास तभी हो सकता है जब इन्हें पाकिस्तान से बिल्कुल अलग कर दिया जाए.

संगठन को लेकर सबसे मजेदार बात ये है कि पाकिस्तानी हुकूमत का मानना है कि संगठन की पूरी फंडिंग भारत करता है और ये जो भी हमले करते हैं वो भारत की शह पर करते हैं.

क्या है मजीद ब्रिगेड

कराची स्टॉक एक्सचेंज में हुए हमलों में मजीद ब्रिगेड का नाम भी सामने आ रहा है तो हमारे लिए ये जान लेना भी बहुत ज़रूरी हो जाता है कि आखिर ये मजीद ब्रिगेड है क्या ? तो बता दें कि मजीद ब्रिगेड BLA की सब यूनिट है जिसका काम आत्मघाती हमले करना है. 

मजीद ब्रिगेड के बारे में जो जानकारी हाथ लगी है यदि उसपर यकीन करा जाए तो ये संगठन का सबसे अहम हिस्सा हैं और इनको भेजा ही इसलिए जाता है ताकि लाशों के ढेर लगें। जानकारी ये भी सामने आई है कि BLA में जो भी मजीद ब्रिगेड से जुड़ता है उसे खतरनाक ट्रेनिंग से होकर गुजरना पड़ता है. संगठन के इस सबग्रुप का उद्देश्य खुद की जान देकर औरों की जान लेना है. 

बहरहाल, जिस तरह से ये मामला सामने आया है साफ़ है कि पाकिस्तान अपने कर्म भोग रहा है. पाकिस्तान जो खुद भारत में आतंकी हमले कराने के लिए मशहूर है और अपनी आतंकी वारदातों के कारण जग हंसाई का सामना कर रहा है अगर आज वहां आतंकी हमले हो रहे हैं तो दुनिया इसलिए भी हैरत में नहीं है कि पाकिस्तान और प्रधानमंत्री इमरान खान इस हमले के जरिये वही काट रहे हैं जो उन्होंने बोया है.

कुल मिलाकर पाकिस्तान ने आतंकवाद के रूप में सांप पाला और अब जब वो खुद मुल्क और मुल्क के लोगों को डंस रहा है तो किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिए.

ये भी पढ़ें- 

'तालिबान खान' रह चुके इमरान ओसामा को 'शहीद' बताएं तो हैरत कैसी..?

China लद्दाख सीमा पर तनाव बढ़ाकर आखिर चाहता क्या है, जानिए...

Karachi Plane Crash investigation में सामने आया पाकिस्तान का 'पायलट घोटाला'!

Karachi Stock Exchange Attack, Pakistan, Terrorist

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय