होम -> सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 11 दिसम्बर, 2018 07:14 PM
सुशांत झा
सुशांत झा
  @jha.sushant
  • Total Shares

इस चुनाव के नतीजे निश्चय ही कांग्रेस के लिए खुशी का कारण हैं लेकिन वो खुशी और ज्यादा हो सकती थी अगर बीजेपी बुरी तरह हारती. बीजेपी दुखी तो है लेकिन इतनी दुखी नहीं जितना उसे होना चाहिए था. इसका कारण ये है कि दो राज्यों में उसकी 15 साल से सरकार थी और एक राज्य में उसे बुरी पराजय का अंदेशा था. लेकिन वो मैदान में जमी रही. तीसरी बात पूर्वोत्तर के एक सूबे से कांग्रेस सत्ता से बाहर हो गई और दक्षिण के एक राज्य से मिथक सरीखा बन चुका महागठबंधन चुनाव हार गया.

कांग्रेस, राहुल गांधी, भाजपा, नरेंद्र मोदी    पांच में से तीन राज्यों में मिली जीत को कांग्रेस और राहुल गांधी दोनों के लिए एक बड़ी कामयाबी के तौर पर देखा जा रहा है

कुल मिलाकर मामला मिश्रित है. कह सकते हैं कि कांग्रेस-बीजेपी का मामला विधानसभा चुनावों में 51-49 का है. क्या ऐसा लोकसभा चुनाव में भी हो पाएगा? कहना मुश्किल है. क्योंकि उस समय कांग्रेस के सामने वसुंधरा-शिवराज या रमण सिंह नहीं होंगे. उस समय राहुल होंगे और मोदी होंगे और पंद्रह साला सत्ता-विरोधी रुझान भी नहीं होगा.बसपा ने कई राज्यों में अपने मत प्रतिशत दर्शाएं हैं. बहनजी इसे यूपी चुनाव में मोलभाव के लिए जरूर इस्तेमाल करेंगी.

हां, ये जरूर है कि लोकसभा उपचुनावों के बाद जिस हार की श्रृंखला का निर्माण बीजेपी कर रही है, वो घनीभूत हो गई है. राहुल गांधी को करना ये होगा कि स्थानीय गठबंधन करें और अपने चेहरे को जबरन पीएम पद के लिए आरक्षित न करें. बेहतर है कि वे राजस्थान में पायलट और मध्य प्रदेश में सिंधिया का नाम आगे करें और गहलोत जैसे अनुभवी व्यक्ति को 2019 में पीएम पद के लिए बचा कर रख लें.

जिस देश में धर्म और जाति की राजनीति साथ-साथ चल रही हो, उसमें एक ओबीसी प्रधानमंत्री के सामने अगर ओबीसी विपक्षी नेता आ जाए तो कौन सा अनर्थ हो जाएगा? मैं कहीं देख रहा था कि राजस्थान में कुछ जगहों पर सीपीएम भी जीत रही है. देश में तकनीक-आश्रित अर्थव्यवस्था के बाद जिस तरह से रोजगार की कटौती और आय-अवसर की असामनता बढ़ी है, सीपीएम में कुछेक कॉमरेडों की सफलता उसका सूचक है. कांग्रेस बीजेपी दोनों को इस पर विचार करना चाहिए.

हां, आशंका ये है कि इस चुनावी जीत से कहीं राहुल गांधी मंदिरों का दौरा और न तेज कर दें. कहीं और बड़ा जनेऊ न धारण कर लें. सबसे अच्छी बात ये रही कि एक्जिट पोल और ईवीएम की विश्वसनीयता कम से कम अप्रैल 2019 तक बहाल हो गई है. अंत में, राम बिलास पाला बदल सकते हैं. मोदीजी सावधान.

ये भी पढ़ें -

एग्जिट पोल ने तो क्षेत्रीय पार्टियों के गेम की 'पोल' ही खोल दी

राजस्थान चुनाव 2018 एग्जिट पोल के नतीजे सच हुए तो भी कांग्रेस के लिए मुश्किल

बीजेपी हारी तो 'माल-ए-गनीमत' के लिए आपस में भिड़ेंगे क्षेत्रीय दल और कांग्रेस

Assembly Eletion, Election Results, Madhya Pradesh Election

लेखक

सुशांत झा सुशांत झा @jha.sushant

लेखक टीवी टुडे नेटवर्क में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय