होम -> इकोनॉमी

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 05 जुलाई, 2019 08:29 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujmaurya87
  • Total Shares

बजट (Budget 2019) आ चुका है और अपने साथ लाया है एक खुशखबरी, जो जुड़ी है इलेक्ट्रिक व्हीकल (Electric Vehicle) से. लोग इलेक्ट्रिक गाड़ियां खरीदने की सोचते तो हैं, लेकिन महंगी होने की वजह से मन मार कर रह जाते हैं. लोगों की इसी परेशानी को समझा है वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने. इलेक्ट्रिक व्हीकल की कीमत तो कम करना उनके हाथ में नहीं था, ऐसे में वह या तो सब्सिडी देकर गाड़ियों को सस्ता कर सकती थीं या फिर उस पर लगने वाले टैक्स को कम कर के. निर्मला सीतारमण ने दूसरा विकल्प चुना और टैक्स का बोझ कम करने का एक शानदार तरीका निकाला. तरीका इतना शानदार है कि 10 लाख रुपए की कार पर आपके 1 लाख 20 हजार रुपए बच जाएंगे.

निर्मला सीतारमण ने मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश करते हुए पहली खुशखबरी तो ये दी कि इलेक्ट्रिक व्हीकल पर लगने वाला जीएसटी घटने वाला है. उन्होंने साफ कहा कि सरकार पहले ही जीएसटी काउंसिल को इसका प्रस्ताव भेज चुकी है कि ये दर 12 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी की जाए. दूसरी खुशखबरी देते हुए उन्होंने कहा कि अगर कोई व्यक्ति कार लोन लेकर इलेक्ट्रिक व्हीकल खरीदता है तो उसके 1.5 लाख ब्याज पर आयकर में छूट मिलेगी. पूरे लोन की अवधि में ये छूट 2.5 लाख रुपए तक हो सकती है. निर्मला सीतारमण ने इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को लेकर खुशखबरी तो सुना दी, लेकिन सवाल ये है कि बाजार में कौन-कौन से इलेक्ट्रिक व्हीकल हैं? चलिए एक नजर डालते हैं इन पर और साथ ही जानते हैं 10 लाख की कार पर 1.20 लाख रुपए बचाने का कैल्कुलेशन.

इलेक्ट्रिक व्हीकल, जीएसटी, टैक्स, बजट 201910 लाख की टाटा टिगोर पर जीएसटी घटने और आयकर छूट से करीब 1.20 लाख रुपए की बचत होगी.

टाटा टिगोर (Tata Tigor)

अगर आप टाटा की गाड़ी लेना चाहें तो आपके लिए इलेक्ट्रिक व्हीकल में टाटा टिगोर का विकल्प मौजूद है. इसकी शुरुआती कीमत 9.99 लाख रुपए है यानी करीब 10 लाख रुपए. इसमें 16.2kWh बैटरी लगी है, जो एक बार फुल चार्ज होने पर 142 किलोमीटर तक चलती है. जहां एक ओर एसी वॉल सॉकेट यानी सामान्य बिजली के स्विच से इस कार की बैटरी 6 घंटे में करीब 80 फीसदी तक चार्ज हो सकती है, वहीं दूसरी ओर 15kW के डीसी फास्ट चार्जर से 80 फीसदी बैटरी चार्ज करने में महज 90 मिनट लगेंगे. इस गाड़ी पर टाटा मोटर्स की तरफ से 3 साल/1.25 लाख किलोमीटर की वारंटी भी दी जा रही है. ये वारंटी गाड़ी और बैटरी दोनों पर है. हालांकि, अभी ये कार सिर्फ फ्लीट ऑपरेटर्स को बेची जा रही थी, लेकिन हो सकता है कि बजट की घोषणाओं के बाद ये कार सबके लिए उपलब्ध हो जाए.

महिंद्रा e2o प्लस (Mahindra e2o Plus)

यह कार अभी 5.5-8.5 लाख की कीमत में उपलब्ध है. महिंद्रा e20 प्लस इसी कंपनी की रीवा-आई का अगला वर्जन है. इसमें 11kWh लीथियम-ऑयन बैटरी है. कंपनी का दावा है कि एक चार्ज में ये कार 110 किलोमीटर तक चल सकती है. इसकी सबसे हाई वैरिएंट कार 140 किलोमीटर तक चल सकती है, जिसमें 15kWh बैटरी लगी है. महिंद्रा ने कार में एक 'रिवाइव' फीचर दिया है, जिसके जरिए चार्जिंग खत्म होने के बाद भी कार 5 किलोमीटर तक चल सकेगी. ये फीचर बिल्कुल वैसा ही है, जैसा मोटरसाइकिल में रिजर्व की सुविधा मिलती है. इस बार की बैटरी को फुल चार्ज होने में 6 घंटे का समय लगता है. हालांकि, टॉप वेरिएंट कार की बैटरी 7 घंटे 20 मिनट में फुल चार्ज होती है. कंपनी इसके साथ 10 KW 3phase 32A फास्ट चार्जर भी दे रही है, जिससे महज डेढ़ घंटे में बैटरी फुल चार्ज हो जाएगी.

महिंद्रा ईवेरिटो (Mahindra eVerito)

ये कार 9.5-11 लाख रुपए के बीच में आ रही है. इसमें 13.91 KWh लीथियम ऑयन बैटरी है. ये कार एक चार्जिंग में 110 किलोमीटर तक चल सकती है. वहीं दूसरी ओर इसके हाई वैरिएंट में मौजूद 18.55 KWh की बैटरी कार को 140 किलोमीटर की माइलेज क्षमता देती है. इसमें भी 'रिवाइव' फीचर है, जो बैटरी खत्म होने के बाद कार को 8 किलोमीटर तक ले जाने की क्षमता रखता है. 13.91 KWh की बैटरी को चार्ज में 8 घंटे 30 मिनट लगते हैं, जबकि 18.55 KWh की बैटरी 11 घंटे 30 मिनट में फुल चार्ज होती है. वहीं अगर फास्ट चार्जर से इसे चार्ज करें तो सिर्फ डेढ़ घंटे में 80 फीसदी बैटरी चार्ज हो जाती है.

10 लाख की है इलेक्ट्रिक कार, तो कितने पैसे बचाए बजट ने?

अगर टाटा टिगोर का उदाहरण ले लें तो 9.99 लाख यानी 10 लाख की ये कार है. इस पर 12 फीसदी जीएसटी 1.20 लाख रुपए लगता, लेकिन घोषणा हो गई है कि ये जीएसटी घटाकर 5 फीसदी कर दिया जाएगा, यानी 50 हजार रुपए जीएसटी लगेगा. सीधे-सीधे 70 हजार रुपए की बचत तो जीएसटी घटने की वजह से हो गई.

इस तरह जीएसटी के साथ ये कार 10.50 लाख रुपए की एक्स शोरूम कीमत पर मिलेगी. इस पर रोड टैक्स वगैरह मिलाकर मान लेते हैं कि कार 11 लाख रुपए की पड़ेगी.

अब अगर भारतीय स्टेट बैंक से कार लोन लें तो वह कार की कीमत का करीब 90 फीसदी तक लोन देते हैं. यानी टाटा टिगोर के मामले में 11 लाख का 90 फीसदी यानी लगभग 10 लाख रुपए तक का लोन हो जाएगा.

भारतीय स्टेट बैंक की कार लोन की ब्याज दर 9.30 फीसदी है. ऐसे में अगर 5 साल यानी 60 महीनों के लिए 10 लाख रुपए का लोन लिया जाए तो करीब 20,904 रुपए की ईएमआई बनती है. यानी 5 साल में कुल 12,54,255 रुपए चुकाने होंगे, जिसमें 2,54,255 तो सिर्फ ब्याज है. इसी ब्याज पर आयकर में छूट की घोषणा की गई है.

मान लेते हैं 10 लाख की कार लेने वाले शख्स की सालाना आय 5-10 लाख रुपए के बीच होगी. यानी उस पर 20 फीसदी टैक्स लगेगा. बजट की घोषणा के अनुसार पूरी लोन अवधि में 2.50 लाख रुपए तक पर आयकर में छूट मिलेगी. यानी 2.50 लाख का 20 फीसदी मतलब 50 हजार रुपए की टैक्स छूट.

इस तरह 10 लाख रुपए की टाटा टिगोर पर पहले तो आपने 12 फीसदी के बजाय महज 5 फीसदी जीएसटी देकर 70 हजार रुपए बचाए और बाद में उसके लोन पर लगने वाले ब्याज पर टैक्स छूट में 50 हजार रुपए बचाए. और इस तरह 10 लाख रुपए की इस कार पर आपकी कुल बचत हो गई 70+50= 1,20,000 रुपए की.

ये कैल्कुलेशन तो सिर्फ 10 लाख रुपए की कार के हिसाब से की गई है. अगर आप कोई दूसरी कार लेते हैं तो आपको उसकी कीमत के हिसाब से अलग-अलग फायदा होगा. वैसे अभी बाजार में इलेक्ट्रिक कार के विक्लप बेहद कम हैं, लेकिन 2020 में Hyundai Kona, MG eZS, Mahindra eKUV100, Maruti Wagon R EV और Nissan Leaf कारें भी लॉन्च होने वाली हैं. इन नई कारों के आने के बाद लोगों के पास विकल्प काफी हो जाएंगे. वैसे भी, अब सरकार ने इलेक्ट्रिक व्हीकल को बढ़ावा देना शुरू कर दिया है, तो कंपनियां भी इसे बनाएंगी और ग्राहक भी खरीदेंगे.

ये भी पढ़ें-

Budget 2019: इलेक्ट्रिक व्हीकल आपका खर्च भी बचाएंगे और टैक्स भी !

निर्मला सीतारमण का लाल कपड़े में लिपटा 'स्वदेशी बजट'!

Survey: मोदी सरकार की इनकम टैक्स पॉलिसी से 'छेड़छाड़' न हो

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय