होम -> सिनेमा

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 04 फरवरी, 2020 01:46 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

भूतों और बॉलीवुड का रिश्ता कोई नया नहीं है. हर साल कोई न कोई ऐसी फिल्म ज़रूर आती है जिसमें परदे पर भूत दिखाया जाता है. दर्शकों को डराने की कोशिश की जाती है. साल का दूसरा महिना है और इस साल इस क्रम को करण जौहर और धर्मा प्रोडक्शन ने आगे बढ़ाया है. वो घड़ी आ गई है जिसका दर्शकों को काफी समय से इंतेजार था. विक्की कौशल (Vicky Kaushal) और भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) स्टारर फिल्म भूत का ट्रेलर रिलीज हो गया है. फिल्म Bhoot: The Haunted Ship का ट्रेलर देखने पर साफ़ हो जाता है कि कहानी को भूतिया बनाने या ये कहें कि दर्शकों को डराने के चक्कर में कुछ प्रयोग तो किये गए मगर वो कामयाब नहीं हुए. फिल्म की कहानी एक शिप, जिसे फिल्म में भूतिया दर्शाया गया है, के इर्द गिर्द घूमती है. ट्रेलर देखकर इसका भी अंदाजा हो जाता है कि जैसा इस फिल्म का प्लाट है. इसमें ऐसा कोई एलिमेंट नहीं है जिसे देखकर दर्शक अपनी सीटों पर जम जाएं या फिर उनका मुंह खुला का खुला रह जाए.

Bhoot Trailer, Vicky Kaunshal, Horror, Film, Karan Johar  फिल्म भूत का ट्रेलर बता रहा है कि फिल्म एक औसत दर्जे की फिल्म होगी

विक्की कौशल स्टारर भूत की कहानी एक हॉन्टेड शिप के इर्द-गिर्द घूमती है, जो खराब मौसम के वजह से अचानक मुंबई के जूहू बीच पर आ जाता है. इसके बाद ही शुरू होती है फिल्म की कहानी जिसमें पृथ्वी का किरदार निभा रहे विक्की कौशल (Vicky Kaushal) हॉन्टेड शिप की जांच के लिए जाते हैं, और इसके फ़ौरन बाद ही उनकी जिंदगी में उथल-पुथल शुरू होती है और उन्हें अजीब ओ गरीब चीजें दिखाई देती हैं.

ट्रेलर में जैसी एक्टिंग विक्की ने की है, उसमें वो वैसी छाप छोड़ने में नाकाम है जैसी उम्मीद उनसे की जा रही थी. 'भूत' के इस ट्रेलर में भूमि का जिक्र भी हुआ है. 2 मिनट 52 सेकंड के इस ट्रेलर में सिर्फ एक बार उनका दिखाई देना ये बताता है कि डायरेक्टर फिल्म के निर्माण के वक़्त फिल्म की स्क्रिप्ट के साथ इंसाफ नहीं कर पाए हैं.

जब प्लाट ही बोरिंग तो फिल्म का अल्लाह ही मालिक

फिल्म में एक शिप को दिखाया गया है और उसे भूतिया बताया गया है. यानी इस लिहाज से उस शिप पर पहले कुछ हुआ था और विक्की के आने के बाद वहां चीजें घटती है. सवाल होगा कि इसमें नया क्या है? जवाब है कुछ नहीं. इसे हम पूर्व में आई हुई भूतिया फिल्मों या ये कहें कि रामसे ब्रदर्स की फिल्मों से समझ सकते हैं. पुरानी भूतिया फिल्मों में भी यही होता था. हां लेकिन उनमें शिप की जगह या तो कोई पुरानी हवेली होती थी या फिर मंदिर. उन फिल्मों में भी यही दिखाया जाता था कि कुछ लोग वहां (उन हवेलियों) में आते हैं और उस स्थान पर पूर्व में ऐसा कुछ हो चुका था जिसका खामियाजा आए हुए उन मेहमानों को भुगतना पड़ता है और उनकी मुलाकात भूत से होती है और भूत उनसे 'बदला लेता है.

विक्की स्टारर भूत : द हॉन्टेड शिप में भी यही सब है. दर्शक उम्मीद कर रहे थे कि कहानी में कुछ अलग होगा. ऐसा कुछ जो न कभी उन्होंने देखा होगा न ही जिसे कभी उन्होंने पहले कभी सुना होगा. बॉलीवुड एक बार फिर अपना इतिहास दोहराता नजर आया है. आगे कुछ कहने से पहले इसपर चर्चा कर लें बहुत जरूरी है कि भूत को छिपकिली की तरह दीवारों पर रेंगते हुए दिखा देना न तो हॉरर है और न ही इससे डर की अनुभूति होती है बल्कि ये हास्यास्पद लगता है.

अगर वाकई भारतीय निर्देशकों को भूतिया फ़िल्में बनाकर दर्शकों को डराना ही है तो वो हॉलीवुड से प्रेरणा ले सकते हैं. हॉलीवुड की घटिया से घटिया फिल्म शायद उस मुकाम पर हो जहां हमारी हॉरर मूवीज को उम्दा का खिताब दिया जाता है.

इससे अच्छी कहानी तो जानी दुश्मन और जैसी फिल्मों की थी

ट्रेलर से ही साफ़ हो गया है कि ये फिल्म एक पैसा बर्बाद फिल्म है. अगर वाकई निर्माता निर्देशक को फिल्म बनानी थी तो उन्हें 1979 में आई फिल्म जानी दुश्मन या फिर 2007 में रिलीज हुई फिल्म डार्लिंग से प्रेरणा लेनी चाहिए थी. इन दोनों ही फिल्मों में भोत दिखाए गए थे लेकिन कहानी को एकदम ताजा रखते हुए पुरानी हवेली, खंडरों, मंदिरों, जहाज से दूरी बनाई गई थी. फिल्म की कहानी फिल्म का सॉलिड पक्ष था और चूंकि पूरा मामला नया था इसलिए दशकों को भी थोड़ा बहुत डर लगा था.

नए के नाम पर सिर्फ विक्की कौशल

एक जमाना था जब हम उन फिल्मों में, जिनमें भूत हो, में बी या सी ग्रेड एक्टर्स को देखते थे. इस फिल्म में नया बस इतना है कि अब उन बी या सी ग्रेड एक्टर्स की जगह भूमि और विक्की हैं जो अपने आप में फिल्म को थोडा सा यूनीक करता नजर आता है.

एक ऐसे वक़्त में जब हॉरर को लेकर नेटफ्लिक्स और अमेज़न प्राइम पर हमारे पास बढ़िया कंटेंट मौजूद हो. 21 फरवरी को रिलीज हो रही भूत कितने दर्शकों को टिकट विंडो पर ले आने में कामयाब होती है इसका फैसला वाकत करेगा मगर इस ट्रेलर ने उदास किया है. एक दर्शक के तौर पर हमें कहीं ज्यादा की उम्मीद थी. 

ये भी पढ़ें -

Thappad Trailer Review: बस एक थप्पड़ जो कभी मारा नहीं जा सकता

Baaghi 3 पोस्टर ने Tiger Shroff का भविष्य बता दिया है

Tanhaji से Panga लेने में नाकाम साबित हुईं कंगना रनौत!

 

Bhoot Trailer, Bhoot Story, Vicky Kaushal Movie

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय