charcha me| 

होम -> स्पोर्ट्स

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 21 जून, 2022 08:35 PM
देवेश त्रिपाठी
देवेश त्रिपाठी
  @devesh.r.tripathi
  • Total Shares

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू टी20 सीरीज (IND vs SA) का आखिरी मैच बारिश में धुल गया. सीरीज 2-2 से बराबरी पर रही. लेकिन, इस टी20 सीरीज में टीम इंडिया के कप्तान रहे ऋषभ पंत की कमजोर पारियों ने T20 World Cup 2022 से पहले एक नई बहस छेड़ दी है. दरअसल, इस सीरीज में स्टार विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा. वहीं, टीम में जगह बनाने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक ने अपनी बल्लेबाजी से टी20 वर्ल्ड कप 2022 के लिए दावेदारी ठोंक दी है. टीम इंडिया के हेड कोच राहुल द्रविड़ का भी मानना है कि 'दिनेश कार्तिक के प्रदर्शन ने टी20 वर्ल्ड कप 2022 से पहले टीम इंडिया के लिए कई विकल्प खोले हैं.' इस बात में कोई दो राय नहीं है कि साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया में खेले जाने वाले टी20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के चयन को लेकर कयासों का दौर शुरू हो चुका है. इस स्थिति में सवाल उठना लाजिमी है कि क्या T20 World Cup से पहले ऋषभ पंत के लिए बड़ा खतरा बन सकते हैं दिनेश कार्तिक?

Dinesh Karthik become a big threat to Rishabh Pant before T20 World Cup 2022टी20 वर्ल्ड कप 2022 से पहले हर मजबूत प्रदर्शन टीम इंडिया के स्कवॉड में जगह बनाने की जंग को तेज कर देगा.

टी20 में ऋषभ पंत की बैटिंग डांवाडोल

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी20 सीरीज में ऋषभ पंत को कार्यकारी कप्तान बनाया गया था. इस फैसले की वजह ऋषभ पंत का आईपीएल 2022 में शानदार प्रदर्शन था. लेकिन, आईपीएल से इतर टीम इंडिया के लिए खेलते हुए ऋषभ पंत का बल्ला अपनी चमक खो देता है. अगर ऋषभ पंत के टी20 आंकड़ों पर नजर डालें, तो दिखाई पड़ता है कि 48 टी20 मैचों में उनके बल्ले से 598 रन निकले हैं. इस दौरान उनका औसत 23.1 ही रहा है. और, स्ट्राइक रेट 123.9 है. बताना जरूरी है कि दक्षिण अफ्रीका के साथ हालिया टी20 सीरीज में भी ऋषभ पंत बड़े शॉट्स लगाने के चक्कर में गेंदबाजों का निशाना बने हैं. और, इससे पहले भी वह कई बार ऐसे ही अपना विकेट खो चुके हैं. ऐसा नहीं है कि ऋषभ खराब बल्लेबाज हैं. लेकिन, इसकी वजह से उनके आंकड़े बिगड़ रहे हैं. टी20 में ऋषभ पंत की ये हार्ड हिटिंग तेज गेंदबाजों के सामने उनके प्रदर्शन को कमजोर करती है. जबकि, क्रिकेट के अन्य प्रारूपों में पंत बेहतर नजर आते हैं.

बैट से झलकती है दिनेश कार्तिक की परिपक्वता

टीम इंडिया के लिए 2006 में पहली बार टी20 खेलने वाले दिनेश कार्तिक कभी भी टीम में रेगुलर खिलाड़ी के तौर पर नहीं रहे. लेकिन, इसके बावजूद दिनेश कार्तिक ने अब तक खेले गए 37 टी20 मैचों में 491 रन बनाए हैं. इस दौरान दिनेश कार्तिक का औसत 35.1 और स्ट्राइक रेट 146.1 का रहा है. दिनेश कार्तिक और ऋषभ पंत के टी20 मैचों के आंकड़ों को सरसरी तौर पर देखा जाए, तो इस तुलना में कार्तिक कहीं आगे नजर आते हैं. इतना ही नहीं, जरूरी मौकों पर दिनेश कार्तिक अपने बल्ले से कमाल दिखाने में भी नहीं चूकते हैं. दक्षिण अफ्रीका के साथ हुई टी20 सीरीज में भी दिनेश कार्तिक ने दो अहम मौकों पर बेहतरीन पारियां खेलीं. कटक में उन्होंने 14 गेंदों पर 8 रन बनाए थे. लेकिन, अगली 7 गेंदों पर कार्तिक ने 22 रन कूट दिए थे. इसी तरह राजकोट में भी दिनेश कार्तिक ने डेथ ओवर्स में हार्ड हिटिंग कर 27 गेदों पर 55 रन की पारी खेली थी. 55 रनों की इस पारी में दिनेश कार्तिक ने 16 गेंदों में 36 रन तेज गेंदबाजों के खिलाफ बनाए थे.

ऋषभ तैयारियों का 'बड़ा' हिस्सा, लेकिन...

टीम इंडिया में जगह पक्की करने की बात की जाए, तो हालिया टी20 सीरीज से विराट कोहली और रोहित शर्मा को आराम दिया गया था. वहीं, सीरीज से ठीक पहले केएल राहुल चोटिल होकर बाहर हो गए थे. ये तीनों ही खिलाड़ियों की वापसी के साथ ही टीम इंडिया की में उनकी जगह अपने आप ही पक्की मानी जा सकती है. हालांकि, ऋषभ पंत के लिए इन खिलाड़ियों की वापसी के साथ अपनी जगह को बचाए रखना मुश्किल नहीं होगा. क्योंकि, पंत लंबे समय से टी20 टीम का हिस्सा रहे हैं. लेकिन, दिनेश कार्तिक की हालिया पारियों ने उन्हें टी20 वर्ल्ड कप 2022 में विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर एक प्रबल दावेदार बना दिया है. हालांकि, टीम इंडिया के हेड कोच राहुल द्रविड़ ने स्पष्ट किया है कि 'ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी20 विश्व कप की तैयारियों का 'बड़ा' और 'अभिन्न' हिस्सा हैं.' राहुल द्रविड़ की बात को आसान शब्दों में कहा जाए, तो ऋषभ पंत टीम इंडिया से बाहर नहीं होंगे.

लेकिन, इस समय भारत के पास ईशान किशन, संजू सैमसन, और दिनेश कार्तिक के रूप में विकेटकीपर बल्लेबाज के अच्छे विकल्प मौजूद हैं. हालांकि, ऋषभ पंत के पास ज्यादा मौके हैं. आयरलैंड, इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के खिलाफ ऋषभ पंत को मौका मिलने की संभावना काफी ज्यादा है. लेकिन, इंग्लैंड में अगर ऋषभ पंत फेल रहते हैं. तो, उनके लिए हालात बिगड़ सकते हैं. क्योंकि, पंत टीम इंडिया से बाहर नहीं होंगे, का ये मतलब नहीं निकाला जा सकता है कि दिनेश कार्तिक टी20 स्कवॉड से बाहर हो जाएंगे. संभव है कि दिनेश कार्तिक को बेंच स्ट्रेंथ को मजबूत करने के लिए स्कवॉड में शामिल कर लिया जाए. क्योंकि, क्रिकेट को अनिश्चितताओं का खेल कहा जाता है. तो, किसी भी तरह की इंजरी या चोटिल होने की अवस्था में भी दिनेश कार्तिक को पंत से ऊपर मौका दिया जा सकता है. दिनेश कार्तिक डेथ ओवर्स में ताबड़तोड़ बैटिंग के जरिये बेहतरीन फिनिशर के तौर पर जाने जाते हैं.

लेखक

देवेश त्रिपाठी देवेश त्रिपाठी @devesh.r.tripathi

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं. राजनीतिक और समसामयिक मुद्दों पर लिखने का शौक है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय