charcha me| 

समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |   13-11-2017
श्रुति दीक्षित
श्रुति दीक्षित
  @shruti.dixit.31
  • Total Shares

किसी के लिए भी शादी कोई आम बात नहीं होती है, लेकिन फिर भी लड़कियों और खास कर भारतीय लड़कियों के लिए ये कुछ अलग ही है. उनसे दुनिया भर के सवाल पूछे जाते हैं और दुनिया भर की अपेक्षाएं रखी जाती हैं. लड़की जवान हुई तो उसे अपना ख्याल रखना चाहिए (लुक्स का) ताकि उसे लोग पसंग कर रखें, उसे अपनी सोशल मीडिया प्रोफाइल का भी ध्यान रखना चाहिए क्योंकि अगर उसने ज्यादा घूमने या ज्यादा लड़कों की फोटो डाली या कोई विद्रोही स्टेटस डाला तो इससे सीधे तौर पर उसकी शादी पर असर पड़ेगा. फिर भी उससे कुछ सवाल हमेशा पूछे जाते हैं जो उसके कैरेक्टर को जज करें.

1. खाना बनाना आता है या नहीं?

ये सबसे पहली कड़ी है शादी की बातों की शुरुआत इसी से होती है. सवाल के तरीके अलग-अलग हो सकते हैं. कहीं कहा जाता है कि आपके सामने रखा हुआ खाना इसी ने बनाया है, कहीं सीधे पूछा जाता है कि क्या-क्या बनाना आता है. कहीं और ज्यादा घुमा दिया जाता है इस सवाल को और कहा जाता है कि हमारे लड़के को खाने का बहुत शौक है.. क्या-क्या बनाना आता है.

लड़कियां, भारत, महिलाएं, रिवाज

क्या एक बार ये नहीं सोचा जा सकता कि अगर लड़की खराब खाना बनाए या खाना न बनाए तो भी चलेगा.

2. साड़ी बांधना आता है या नहीं?

ठीक है लड़की मॉडर्न है और अभी तक उसने साड़ी नहीं पहनी, लेकिन शादी के बाद ऐसा कैसे चलेगा... साड़ी बांधनी तो आनी ही चाहिए. जैसे इसी से गोल्ड मैडल मिलेगा और स्कॉलरशिप मिलने के बाद साड़ी बांधने पर पीएचडी करनी होगी और उसके बाद नौकरी भी इसी बात पर मिलेगी कि साड़ी कैसी बांधी है. साथ ही शादी करने के बाद घर संभालने में भी साड़ी की जरूरत पड़ेगी.

3. बड़ों से बहस की आदत तो नहीं?

ये सवाल सबके सामने आता है, किसी न किसी तरीके से. सीधे तौर पर इस सवाल का अर्थ जो मुझे लगता है वो है कि कहीं इसकी अपनी कोई राय कोई नजरिया तो नहीं? ये तो होता ही है. जो बड़ों ने कह दिया वो मान लो, अपनी राय या अपना नजरिया तो सामने रखने की जरूरत ही नहीं है.

4. नौकरी और घर कैसे संभालोगी एक साथ?

कुछ लड़कियों के लिए ये सीधा साधा इशारा होता है कि नौकरी करने की क्या जरूरत है. कुछ लड़कियों के लिए ये ताना होता है कि उफ्फ इतना समय ऑफिस में रहती हो तो घर तो बर्बाद कर ही दोगी. मेरे बेटे को खुश कैसे रखोगी. करियर ऑप्शन पर भी सवाल उठाए जाते हैं. लड़की किसी बोल्ड जॉब में है, मीडिया में काम करती है, पुलिस में है, वकील है, फिल्म इंडस्ट्री से जुड़ी है तो यकीनन ये शादी के वक्त बहुत समस्या होगी.

5. वर्जिन हो या नहीं?

ये सवाल बहुत अहम है और इसका जवाब क्या दिया जाना चाहिए ये भी लोगों को पता ही है. इससे जुड़े हुए सवाल भी सामने आते हैं जैसे पति को खुश रख पाओगी या नहीं. ये भी बड़ा अजीब है... लड़की को उम्र भर अपनी सेक्शुएलिटी छुपाने के लिए कहा जाए और फिर अचानक सिर्फ एक दिन में पति को खुश करने की कला में वो माहिर हो. आखिर शादी है ये तो होना ही है, लेकिन यकीन मानिए ये जो सवाल है न लड़कियों के कैरेक्टर को जज करने का ये एक बहुत अहम सवाल है.

लड़कियां, भारत, महिलाएं, रिवाज

इसके बाद बारी आती है जनाब कहां तक पढ़ी हो, क्या पसंद है, क्या न पसंद है, क्या करना चाहती हो, पेशा क्या है? घूमना पसंद है या नहीं आदि. ये सब तो बहुत बाद की बात है और ये बाद की बात ही रहेगी क्योंकि ऊपर के सवालों से कैरेक्टर के बारे में तो सोच ही लिया गया है न. जाने कब वो दौर आएगा जब वाकई लोग इन सब चीजों से ऊपर उठेंगे और ये समझेंगे कि एक एमबीए की हुई लड़की खाना न भी बनाए तो चलेगा, उसने एमबीए सिर्फ खाना बनाकर लोगों को खिलाने और पति को खुश करने के लिए नहीं किया. जाने कब ऐसा दिन आएगा कि लड़की के घर वाले ये समझेंगे कि शादी ही एक आखिरी पड़ाव नहीं होती उसके आगे भी दुनिया है. जाने कब लड़की वाले ये समझेंगे कि लड़के वालों के ये सवाल उनकी बेटी के कैरेक्टर को जज करने के लिए हैं और इनसे ये बिलकुल साबित नहीं होता कि उनकी लड़की कैसी इंसान है.

ये भी पढ़ें-

सोचने के वो 6 तरीके जिन्होंने BHU और #Metoo को नतीजे तक नहीं पहुंचने दिया

कुछ इस तरह से होता है पुरुषों के साथ लिंगभेद और शोषण..

लेखक

श्रुति दीक्षित श्रुति दीक्षित @shruti.dixit.31

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय