होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 16 दिसम्बर, 2018 07:15 PM
श्रुति दीक्षित
श्रुति दीक्षित
  @shruti.dixit.31
  • Total Shares

भारत में हर काम भगवान भरोसे ही चल रहा है. चाहें सरकार हो या फिर यहां के लोग वो सभी भगवान के डर, उनकी कृपा या उनके चमत्कार के नीचे जी रहे हैं और उन्हें लगता है कि चमत्कार ही सब सही कर देगा. अब भगवान से तो सीधे तौर पर कोई मिला नहीं है तो लोग उनतक पहुंचने के लिए उनके अनुयाइयों से मिलते हैं और उनके कहने पर कुछ भी करते हैं. ये अनुयाई होते हैं फर्जी बाबा जो भक्तों की मनोकामना पूरी करने और उनकी समस्याओं का हल करने के नाम पर अपना उल्लू सीधा करते हैं और भक्त अंधे बने रहते हैं.

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक ऐसा वीडियो वायरल हो रहा है जिसके बारे में कुछ कहना भी शर्मिंदा कर सकता है. एक बाबा जो आशिर्वाद देने के नाम पर क्या कर रहा है वो देखिए..

ये वीडियो देखकर एक बार आखें शर्म से झुक जाएंगी. ये कथित तौर पर बाबा है, भगवान का पुजारी और ये लोगों की परेशानियों को ठीक करता है. ये बाबा महिला के शरीर को इस तरह से कैसे छू सकता है. ये कैसा आशिर्वाद देने का तरीका है. देखकर बड़ा आश्चर्य होता है कि हमारे देश की महिलाएं इतनी बेवकूफ हैं कि वो ऐसे ढोंगी बाबाओं के बीच चली जाती हैं. इतनी बेवकूफ कि उन्हें लगता है कि ये बाबा ऐसे ही काम करके उनकी परेशानियों को ठीक कर देंगे और वो उन्हें करने देती हैं. ये वीडियो कहां का है और ये बाबा कौन है इसके बारे में तो जानकारी नहीं मिल पाई पर इतना जरूर है कि य़े बाबा भगवान का पुजारी या संत कहलाने लायक तो नहीं है. 

भारत में ऐसे मामले गाहे-बगाहे आए दिन सुनने को मिल जाते हैं. सिर्फ यही नहीं ऐसे भी कितने मामले आए हैं जहां मंदिर, मस्जिद में रेप हुए हैं और यौन शोषण हुआ है.

2017 में धर्मिक स्थलों पर किए गए शर्मनाक काम..

2017 में अगर सिर्फ धार्मिक स्थलों की बात करें तो ही कई रेप 2017 में मंदिरों के अंदर हुए हैं...

1. जगन्नाथ पुरी मंदिर में 10 साल की अपाहिज लड़की से अप्रैल 2017 में रेप हुआ था. 2. महेशकुट, खागरिया ड्रिस्ट्रिक्ट में एक मंदिर के अंदर लड़की से गैंगरेप. दिसंबर 2017 की घटना. 3. पानीपत देवी मंदिर में 6 साल की बच्ची से दुष्कर्म की कोशिश दिसंबर 2017 में की गई.

इन सभी मामलों में विक्टिम बच्चियां ही थीं. ये तो मंदिर में रेप के मामले थे, मंदिर के बाहर भी आश्रमों और अपने घरों में लोभी और ठरकी बाबाओं ने भी बच्चियों, महिलाओं के साथ रेप किया. उनका शोषण किया और उन्हें प्रताड़ित किया. राम रहीम, आसाराम, रामपाल, फलाहारी बाबा, दिल्ली के वीरेंद्र देव दीक्षित, चुंबन बाबा.

ये बाबा और उनके बिजनेस भी दो तरह के होते हैं. अमीरों के बाबा अलग जो गाड़ियों से चलते हैं, एसी में सोते हैं, लाखों-करोड़ों का चंदा लेते हैं और सतसंग और प्रवचन करते हैं. गरीबों के बाबा अलग जो झाड़-फूंक करते हैं, शरीर में देवी आ जाने का नाटक करते हैं और गरीब महिलाओं का शोषण करते हैं. किसिंग बाबा से लेकर राम रहीम, आसाराम आदि कई बाबाओं का पता लगातार चलता है और लोग लगातार उनके पीछे अंध भक्ति में लगे रहते हैं.

क्या सोचते हैं आप कि ये सब आसान है? आम है?

यूट्यूब पर, न्यूज में, ट्विटर, फेसबुक आदि पर आए दिन ऐसे फर्जी बाबाओं के बारे में जानकारी आती रहती है, लेकिन मजाल है जो कोई इनके बारे में सोचे या पूछे. भगवान का दूत मानकर उन्हें पूजा जाता है और वो चाहें जो भी करें वो सही समझा जाता है. महिलाओं की ये दलीलें और उनके साथ होने वाले शोषण की जिम्मेदार कई मामलों में वो खुद और उनके परिवार वाले होते हैं जिन्हें अंधभक्ति ही सही लगती है.

ये भी पढ़ें-

एक बाप अपनी ही बच्ची का रेप कैसे कर सकता है?

मीका सिंह का गिरफ्तार होना बॉलीवुड के #Metoo का फेल होना ही है

लेखक

श्रुति दीक्षित श्रुति दीक्षित @shruti.dixit.31

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय