होम -> समाज

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 07 दिसम्बर, 2019 01:58 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

हैदराबाद पुलिस(Hyderabad Police) द्वारा दिशा गैंगरेप और मर्डर मामले(Disha gangrape and murder case) में कथित 4 आरोपियों के एनकाउंटर का जश्न अभी थमा भी नहीं था कि राजधानी दिल्ली से बुरी खबर आ गई. दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान यूपी के उन्नाव(Unnav rape victim) में आग के हवाले की गई रेप पीड़िता की कार्डियक अरेस्ट से मौत हो गई.

युवती को बीते दिन एयरलिफ्ट करके लखनऊ के श्यामा प्रसाद मुखर्जी अस्पताल से दिल्ली लाया गया था. 95% तक जल चुकी लड़की की हालत कितनी नाजुक थी इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि दिल्ली एयरपोर्ट से अस्पताल तक ऐंबुलेंस के लिए ग्रीन कॉरिडोर का निर्माण किया गया था.

उन्नाव की इस लड़की के साथ दिसंबर 2018 में गैंगरेप (Gangrape) किया गया था. लेकिन उत्तर प्रदेश पुलिस (UP Police) ने मार्च 2019 में इस मामले की सुध ली और शिकायत दर्ज की. लेकिन जब लड़की को जिंदा जलाया गया तब उन्नाव पुलिस तत्काल हरकत में आई और उसने मुख्य आरोपी शुभम त्रिवेदी समेत अन्य 4 लोगों को गिरफ्तार किया.

कैसे घटी घटना

मामला उन्नाव के बिहार थानाक्षेत्र का है. बताया जा रहा है कि लड़की पैदल अपने घर से स्टेशन जा रही थी जहां उसे रायबरेली के लिए ट्रेन पकड़नी थी. रायबरेली कोर्ट में लड़की की अपने उस रेप केस के लिए तारीख़ थी जिसकी शिकायत मार्च 2019 में दर्ज हुई थी. लड़की के स्टेशन पहुंचने से पहले ही रास्ते में पांच लोगों ने उसे पकड़ा और उसे गांव के बाहर एक खेत में ले गए. वहां पेट्रोल छिड़ककर उसके शरीर में आग लगा दी. बताया जा रहा है कि गंभीर रूप से जलने के बावजूद लड़की खुद 1 किलोमीटर तक पैदल चली और उसने खुद ही 100 नंबर पर फोन करके पुलिस को अपने साथ घटित हुई इस वारदात की खबर दी.

unnao rape victimपांच लोगों ने लड़की को जिंदा जला दिया

लड़की बुरी तरह से जली थी इसलिए पुलिस ने उसे इलाज के लिए पास के जिला अस्पताल में भर्ती करवाया जहां से उसे लखनऊ और फिर वहां से दिल्ली रेफर कर दिया गया था. और दिल्ली में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी. बताया जा रहा है कि पीड़िता ने पांच लोगों को नामजद किया था जिसपर एक्शन लेते हुए पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार किया था.

क्या लिखा था लड़की ने अपनी FIR में

जो FIR दिवंगत लड़की ने पुलिस में दर्ज की है उसमें शिवम त्रिवेदी और शुभम त्रिवेदी नाम के दो युवकों को नामजद किया गया था. लड़के, लड़की के गांव के ही रहने वाले हैं. एफआईआर के अनुसार शिवम ने लड़की को बहलाया फुसलाया और उसे अपने साथ रायबरेली ले आया और उसका रेप किया. लड़के ने रेप का वीडियो भी बनाया और उसे पब्लिक करने की धमकी देकर बार-बार उसके साथ बलात्कार किया. लड़की के मुताबिक आरोपी उसे और उसके परिवार को जान से मारने की धमकी देता था और ऐसे तमाम मौके आए जब न सिर्फ उसने बल्कि उसके दोस्तों तक ने असलहे की नोक पर लड़की के साथ बलात्कार किया.

unnao rape victimउन्नाव रेप पीड़िता 95% तक जल चुकी थी और दिल्ली में  इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई

हैदराबाद के बाद अब उत्तर प्रदेश क्या दिन दिखाएगा

Unnav rape victim की मौत के एक दिन पहले ही देश हैदराबाद मामले पर पुलिस की कार्रवाई पर मिठाइयां बांट रहा था. जहां महिला डॉक्टर को रेप के बाद जला देने वाले चारों आरोपियों को पुलिस ने एनकाउंटर (Hyderabad Police encounter) करके खत्म कर दिया. अब उन्नाव की इस रेप पीड़िता के लिए देश ऐसा ही कुछ उम्मीद कर रहा है. खासकर उत्तरप्रदेश जो राज्य में होने वाले एनकाउंटर की वजह से पहले से ही काफी प्रख्यात/कुख्यात है. हैदराबाद मामले में जिस तरह से पुलिस एनकाउंटर की तारीफें हुईं, लोगों ने पुलिस को सर आंखों पर बैठाया, कहीं ऐसा न हो कि उत्तर प्रदेश की पुलिस हैदराबाद पुलिस से प्रेरित होकर इसी तरह का कदम उठा ले. न्याय व्यवस्था को ताक पर रखकर पुलिस ने जिस तरह कानून को अपने हाथों में लिया अगर पूरा देश उसपर मिठाइयां बांट रहा हो तो उत्तरप्रदेश तो एनकाउंटर स्पेशलिस्ट है.

हैदराबाद पुलिस ने अपराधियों को खत्म करने का ये एक नया तरीका दिया है. हमें अपराध मुक्त समाज चाहिए लेकिन अपराध मुक्त समाज को बनाने का क्या यही इलाज रह गया है कि अपराधियों को जब चाहे ठोक दो. न्यायपालिका अपने कार्यप्रणाली में थोड़ी सी तेजी लाकर लोगों के टूटे विश्वास को फिर से मजबूत कर सकती है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले पर दुख जताते हुए आश्वासन दिया है कि इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी और अपराधियों को कड़ी सजा दिलवाई जाएगी.

उन्नाव रेप पीड़िता के अपराधियों को फांसी ही हो यही कामना है. लेकिन हैदराबाद एनकाउंटर के बाद डर लगना स्वाभाविक है कि कहीं उन्नाव के इन आरोपियों का भी एनकाउंटर न कर दिया जाए.

ये भी पढ़ें-

हैदराबाद रेप पीड़िता को दिशा कहने से क्या फायदा जब 'निर्भया' से कुछ न बदला

हम जया बच्चन की बात से असहमत हो सकते थे अगर...

हैदराबाद केस: दुर्योधन और दुःशासन का बोलबाला, मगर कृष्ण नदारद

 

Unnao Rape Case, Unnao Rape Victim Died, Unnao Rape Victim Death

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय