होम -> समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 20 सितम्बर, 2018 02:30 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujkumarmaurya87
  • Total Shares

एक मजाक कितना खतरनाक हो सकता है, इसका ताजा उदाहरण ऑस्ट्रेलिया में देखने को मिल रहा है. यहां स्ट्रॉबेरी के अंदर सिलाई करने वाली सुइयां (Strawberry Needle Sabotage) मिल रही हैं. कुछ लोगों ने केले, सेब और आड़ू जैसे फलों में भी सुइयां मिलने की शिकायत की है. इस मामले में पुलिस ने एक बच्चे को गिरफ्तार किया है, जिसने प्रैंक करने के लिए स्ट्रॉबेरी में सुई डाली थी. हालांकि, यह मामला देशभर में फैला हुआ है तो इस बात की जांच की जा रही है कि ये सभी सिर्फ मजाक हैं, या फिर कोई इस मजाक का इस्तेमाल लोगों में डर फैलाने के लिए कर रहा है. इस एक मजाक की वजह से कई टन स्ट्रॉबेरी बर्बाद हो गई हैं, लोग डर के मारे उन्हें खरीद नहीं रहे हैं.

स्ट्रॉबेरी, ऑस्ट्रेलिया, सुई, मजाक, पुलिसफलों के अंदर सुई रखना सिर्फ एक मजाक भर है या फिर किसी बड़ी साजिश का हिस्सा?

कितनी खतरनाक हो चुकी है स्थिति?

ऑस्ट्रेलिया में सुई की वजह से स्थिति कितनी खतरनाक हो चुकी है, इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि पीएम ने आतंक से इसकी तुलना कर दी है. ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री Scott Morrison ने कहा है कि यह घटना चाइल्ड पोर्नोग्राफी और आतंकवाद की फंडिंग करने जैसी है, जो लोगों में डर फैला रही है. उन्होंने कहा कि ऐसा करने वाला इंसान एक कायर है, जो बच्चों को डरा रहा है, जिसके लिए 15 साल तक की सजा दी जाएगी. इतना ही नहीं, न्यू साउथ वेल्स पुलिस के असिस्टेंट कमिश्नर स्टुअर्ट स्मिथ ने तो इनाम की भी घोषणा कर दी है. उन्होंने कहा है कि जो भी ऐसी हरकत करने वाले शख्स की जानकारी देगा उसे 1 लाख डॉलर यानी करीब 52 लाख रुपए का इनाम दिया जाएगा.

तो ये सिर्फ मजाक है या कोई साजिश?

न्यू साउथ वेल्स की पुलिस ने एक बच्चे को गिरफ्तार किया है, जिसने माना है कि उसने प्रैंक करने के मकसद से स्ट्रॉबेरी में सुई डाली थी. लेकिन ये मामला सिर्फ साउथ वेल्स का नहीं है, बल्कि देश के अलग-अलग हिस्सों से लोग ऐसी शिकायत कर रहे हैं. अब सवाल ये उठता है कि क्या यह सिर्फ एक मजाक है, जो हर जगह अफवाह बनकर फैल रहा है, या फिर वाकई देश के अलग-अलग हिस्सों में सुई वाली स्ट्रॉबेरी पहुंच चुकी हैं? कहीं ऐसा तो नहीं कि इस प्रैंक को अब दूसरे लोग कॉपी कर रहे हैं? खैर जो भी हो, गिरफ्तार किए गए बच्चे की उम्र कम है, इसकी लिए पुलिस ने उसकी पहचान को उजागर नहीं किया है, लेकिन यह साफ किया है कि भले ही किसी प्रैंक करने के मकसद से सुई को स्टॉबेरी में डाला गया हो या फिर किसी को नुकसान पहुंचाने की मंशा से, दोनों ही मामलों में कार्रवाई होगी और दोषी को कोर्ट ट्रायल का सामना करना होगा.

जानलेवा बना मजाक

पिछले ही सप्ताह ब्रिसबेन के 21 साल के Hoani Hearne को अस्पताल में भर्ती करना पड़ गया. उन्होंने एक स्ट्रॉबेरी खाई थी, जिसमें सुई थी, जो उनके पेट में चली गई. स्ट्रॉबेरी में सुई मिलने की वजह से लोगों में एक डर फैल गया है, जिसकी वजह से लोग स्ट्रॉबेरी खरीदने से भी डर रहे हैं. और केले, सेब, आड़ू की शिकायतों के बाद से किसी भी फल को खरीदने से लोग डरने लगे हैं. स्ट्रॉबेरी में सुई का पहला मामला क्वींसलैंड में सामने आया था, जिसके बाद न्यू साउथ वेल्स, विक्टोरिया, कैनबरा, साउथ ऑस्ट्रेलिया और तस्मानिया से भी ऐसे मामले सामने आ रहे हैं.

स्ट्रॉबेरी में सुई का प्रैंक तो एक शख्स ने किया, लेकिन अब यह प्रैंक धीरे-धीरे पूरे देश में फैलता नजर आ रहा है. प्रैंक भी ऐसा जो लोगों की जान के लिए खतरा बन गया है, जिसकी वजह से करीब 13 करोड़ डॉलर की इंडस्ट्री पर खतरा मंडरा रहा है. दुकानों में स्ट्रॉबेरी के रैक खाली पड़े हैं और खाली स्थानों पर स्ट्रॉबेरी को फेंका जा रहा है. न्यूजीलैंड ने भी इस मामले के सामने आने के बाद ऑस्ट्रेलिया से स्ट्रॉबेरी का आयात बंद कर दिया है. किसानों को तो यह भी सलाह दे दी गई है कि वह मेटल डिटेक्टर का इस्तेमाल करें. स्वास्थ्य अधिकारियों ने लोगों को फलों को सीधे खाने के बजाय काटकर खाने की सलाह दी जा रही है और साथ ही यह भी पता करने की कोशिश की जा रही है कि इसके पीछे कौन लोग हैं.

ये भी पढ़ें-

200 तलाक कराने वाले गेम की असली कहानी ये है...

चंद्रमा पर घूमने जाने वाले यूसाकू मेजावा जानते हैं बोरियत कैसे भगाई जाती है

तरक्‍की की राह पर भारतीय गरीब और नेता उलटी राह पर चले

Strawberry Needle Sabotage, Needle Sabotage In Australia, Strawberries In Australia

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय