होम -> समाज

 |  5-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 03 अक्टूबर, 2019 03:44 PM
अनुज मौर्या
अनुज मौर्या
  @anujmaurya87
  • Total Shares

कोई पुलिसवाला बाढ़ के पानी में बच्चों को कंधे पर ले जाकर सुपरकॉप बन गया, तो किसी को कानून तोड़ने वालों के खिलाफ सख्ती के चलते सुपरकॉप का खिताब दे दिया गया. ये तो बस नमूना भर है, ऐसे कई उदाहरण आपको मिल जाएंगे. सोशल मीडिया से लेकर मीडिया तक में इनकी खूब चर्चा होती है. इसी बीच हैदराबाद से चालान का बादशाह सामने आया है. नहीं... ये चालान काटने वाला पुलिसवाला नहीं, बल्कि चालान कटवाने वाला शख्स है. हैदराबाद पुलिस ने आखिरकार इसे पकड़ ही लिया है. पुलिस का कहना है कि वह सबसे अधिक बार ट्रैफिक के नियम तोड़ चुका है. हैदराबाद पुलिस ने उस शख्स की तस्वीर भी ट्वीट की है, जिसमें ट्रैफिक पुलिस उसके साथ 49 चालानों की लंबी लिस्ट लिए खड़ी है.

चालान, हैदाराबाद, पुलिस, यातायातहैदराबाद पुलिस ने एक ऐसे शख्स को ट्रैफिक रूल्स का उल्लंघन करने के लिए पकड़ा है, जिसने 49 बार नियम तोड़े.

ट्वीट में पुलिस ने लिखा है कि उस शख्स को आखिकार ट्रैफिक पुलिस ने पकड़ लिया है, जिसके नाम पर 49 चालान जारी हो चुके हैं, जिनका भुगतान अभी तक बाकी है. हैदराबाद पुलिस ने जनता से अनुरोध किया है कि वह ट्रैफिक नियमों का पालन करें और सरकार की ई-चालान वेबसाइट echallan.tspolice.gov.in पर चेक कर लें कि उनकी गाड़ी के खिलाफ कोई चालान तो नहीं काटा गया और अगर काटा हो तो उसका समय से भुगतान करें.

49 चालान देखकर पुलिसवाले भी चौंक गए

जिसे चालान कटवाने का बदशाह कहा जा रहा है वह हैदराबाद के फालुकनामा का रहने वाला एक शख्स अब्दुल करीम है. अब्दुल को सोमवार को पकड़ा गया, जब ट्रैफिक पुलिस हैदराबाद कलेक्टर ऑफिस के पास चेकिंग कर रही थी. उसके बाद जब उन्होंने अब्दुल की होंडा पैशन बाइक के रजिस्ट्रेशन नंबर को अपने ई-चालान ऐप से चेक किया, तो ट्रैफिक पुलिस के होश उड़ गए. वह इस बात से हैरान थे कि उसके खिलाफ 49 चालान कटे हुए हैं, जिनका उसने भुगतान तक नहीं किया है. हालांकि, उन सभी चालान का कुल मिलाकर जुर्माना 7,760 रुपए ही है. भले ही ये रकम महीने भर पहले तक ज्यादा लगती हो, लेकिन नए ट्रैफिक रूल्स के मुताबिक ये 49 चालानों की तुलना में ये मामूली ही लग रही है. इसकी बड़ी वजह यही है कि उसके खिलाफ काफी दिनों से चालान कट रहे थे. पुलिस ने अब्दुल की बाइक ही जब्त कर ली थी, लेकिन बाद में जब अब्दुल ने चालान का भुगतान कर दिया तो बाइक वापस दे दी. हालांकि, इसके बाद पुलिस ने उसे ट्रैफिक ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट भेज दिया, ताकि ट्रैफिक के नियमों की समझ उसे दी जा सके.

सोशल मीडिया: कोई अब्दुल, तो कोई सरकार पर भड़का

अगर एक नजर सोशल मीडिया पर डालें तो इस मामले को लेकर मिले-जुले से रिएक्शन देखने को मिल रहे हैं. कुछ लोग अब्दुल को दोषी मान रहे हैं और उसे जेल में डालने की सलाह दे रहे हैं. हालांकि, कुछ ने ये भी सवाल उठाए हैं कि रेड लाइट जंप करने के चलाना तो आपने काट दिए हैं, लेकिन चौराहे पर सिग्नल ठीक से नहीं दिखता, उसका क्या? इसके लिए किसी जिम्मेदार ठहराया जाए? कुछ ऐसे भी लोग है जो इसे मजाक में उड़ा रहे हैं. एक शख्स ने लिखा है कि अपने 49 पेंडिंग चालान भर दो और 50वां तुम्हारे लिए बिल्कुल फ्री. खैर, ये ध्यान रखना जरूरी है कि ये 49 चालान पुराने हैं, इसलिए राशि सिर्फ 7,760 रुपए है, वरना हो 70 हजार रुपए भी हो सकती थी. इस मामले में एक सवाल ये जरूर उठ रहा है कि उसके नाम पर 49 चालान कैसे हो गए? अब तक उससे किसी चालान की वसूली क्यों नहीं की गई? कोर्ट का समन भेजा गया या नहीं?

क्या हैं ई-चालान को लेकर नियम-कायदे?

कई बार लोग सोचते हैं कि ई-चालान से तो वह आसानी से बचकर निकल सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है. आपको बता दें कि ई-चालान की व्यवस्था में हाईटेक उपकरणों का इस्तेमाल किया जाता है, जो सड़क पर नियम तोड़ने वालों को पहचानते हैं. ई-चालान रेड लाइट जंप और ओवरस्पीडिंग को लेकर काटे जाते हैं, क्योंकि एक कैमरा बस इन्हीं नियमों की निगरानी कर सकता है. ई-चालान का भुगतान आप पेटीएम, डेबिट-क्रेडिट कार्ड और यहां तक कि एटीएम से भी कर सकते हैं, लेकिन अगर आप चूकते हैं तो आपको दिक्कत हो सकती है. अब सवाल ये है कि दिक्कत क्या होगी? आइए आपको बताते हैं ई-चालान कटने के बाद क्या होता है-

अगर आप समय से ई-चालान का भुगतान नहीं करते हैं तो पहले तो आपको रिमाइंडर आएगा, लेकिन तब भी चालान का भुगतान नहीं किया तो एक पुलिस कॉन्स्टेबल आपके घर आ धमकेगा. ये वो पता होगा, जिस पर आपकी गाड़ी रजिस्टर होगी. अगर तब भी आप चालान नहीं देते हैं या फिर किसी कारणवश कॉन्स्टेबल की आपसे मुलाकात नहीं होती है तो आपको कोर्ट की ओर से समन भेजा जाएगा. अगर आप समन के बावजूद लापरवाही बरतते हुए कोर्ट नहीं जाते हैं और ई-चालान जमा नहीं करते हैं, तो ऐसी स्थिति में आपका लाइसेंस तक रद्द किया जा सकता है. तो सबसे पहले तो ट्रैफिक नियमों का पालन करें और अगर गलती से कोई नियम टूट गया और आपका चालान कट गया तो उसका समय से भुगतान कर दें, वरना बाद में दिक्कत और बढ़ सकती है.

ये भी पढ़ें-

क्यों भारत में इलेक्ट्रिक कार बनाना टेढ़ी खीर साबित होगा

गाड़ी चढ़ा दो पर रोको मत, भारत से भी सख्त हैं इन देशों के ट्रैफिक रूल्स

पॉलीथीन वरदान है लेकिन सरकार के कुप्रबंधन ने उसे मानवता का दुश्मन बना दिया

लेखक

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय